यूपी चुनाव: पहली बार 6 वामपंथी दल आए एक साथ, 105 प्रत्याशी उतारे

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए वामदलों ने भी तैयारी पूरी कर ली है. पहली बार यहां 6 वामपंथी दल संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने जा रहे हैं.
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए वामदलों ने भी तैयारी पूरी कर ली है. पहली बार यहां 6 वामपंथी दल संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए वामदलों ने भी तैयारी पूरी कर ली है. पहली बार यहां 6 वामपंथी दल संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

  • Pradesh18
  • Last Updated: January 15, 2017, 4:53 PM IST
  • Share this:
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए वामदलों ने भी तैयारी पूरी कर ली है. पहली बार यहां 6 वामपंथी दल संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने जा रहे हैं. इनमें भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी), भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) लिबरेशन, एसयूसीआई (सी), फारवर्ड ब्लाक और रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी शामिल है.

सीपीआईएम की तरफ से जारी विज्ञप्ति में 105 प्रत्याशियों का ऐलान किया गया है, इनमें 58 सीटों पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी लड़ेगी, वहीं 18 सीटों पर मार्क्सवादी पार्टी, 17 सीटों पर मार्क्सवादी लेनिनवादी, 7 सीटों पर फारवर्ड ब्लॉक और 5 पर एसयूसीआई (सी ) के प्रत्याशी शामिल हैं.

वामपंथी दल यूपी में कुल 140 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. 35 सीटों के लिए प्रत्याशियों की घोषणा जल्द की जाएगी.



यह भी पढ़ें: नीतीश, लालू, पासवान या ममता बनर्जी को यूपी की जनता ने कभी नहीं स्वीकारा
इन दलों के अनुसार जनता को तबाह करने वाली तथाकथित विकास की नीतियों के मामले में यूपी की सपा सरकार और कांग्रेस, बसपा तथा अन्य दल भी भाजपा तथा मोदी सरकार से अलग नहीं हैं. इन नीतियों के कारण जनता के भूमि, भोजन और रोजगार और जीने के अधिकार पर लगातार हमले बढ़ रहे हैं. एकमात्र वामपंथी दल ही एक विश्वसनीय ताकत हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज