मायावती ने सपा को बताया धोखेबाज पार्टी, कहा- हार के बाद अखिलेश ने फोन तक नहीं किया

मायावती ने कहा कि अखिलेश ने मुझे ज्यादा मुसलमानों को टिकट देने से मना किया था, उन्होंने मुझसे कहा था कि इससे ध्रुवीकरण होगा.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 24, 2019, 7:46 AM IST
मायावती ने सपा को बताया धोखेबाज पार्टी, कहा- हार के बाद अखिलेश ने फोन तक नहीं किया
मायावती ने अखिलेश यादव पर लोकसभा चुनाव में हार का ठीकरा फोड़ा
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 24, 2019, 7:46 AM IST
बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की जोनल कोऑर्डिनेटरों और सांसदों की मीटिंग में रविवार को मायावती ने अखिलेश यादव पर जमकर निशाना साधा. लोकसभा चुनाव में हार का जिम्मेदार भी मायावती ने अखिलेश को ही ठहरा दिया. माया ने ये भी बताया कि अखिलेश और समाजवादी पार्टी से धीरे-धीरे दूरियां क्यों बढ़ रही हैं. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा, 'अखिलेश ने मुझे ज्यादा मुसलमानों को टिकट देने से मना किया था, उन्होंने मुझसे कहा था कि इससे ध्रुवीकरण होगा और बीजेपी को फायदा हो जाएगा. लोकसभा चुनाव में हार के बाद अखिलेश ने मुझे फोन तक नहीं किया.'

बसपा उम्मीदवारों को सपा नेताओं ने हरवाया
मायावती ने कहा, 'एसपी के लोग ये कह रहे हैं कि उनकी बदौलत बीएसपी 10 सीटें जीती है, तो वो लोग अपने गिरेबां में झांके. सच्चाई ये है कि एसपी अगर 5 सीटें भी जीत पाई, तो सिर्फ इसलिए कि बीएसपी ने उसका साथ दिया.' उन्होंने कहा, 'उपचुनाव में हमें ये दिखाना है कि ये जीत हमारी अकेले की जीत है, जिसका क्रेडिट एसपी के लोग ले रहे हैं.'

ताज कॉरिडोर में मुझे फंसाने के पीछे बीजेपी और मुलायम का हाथ

मायावती ने कहा, 'ताज कॉरिडोर वाले केस में मुझे फंसाने के पीछे बीजेपी और मुलायम सिंह का हाथ है. इसके अलावा सपा ने प्रमोशन में आरक्षण का विरोध किया था. इसलिए दलितों, पिछड़ों ने उसे वोट नहीं दिया.' उन्होंने कहा कि बसपा के प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा को सलीमपुर सीट पर समाजवादी पार्टी के विधायक दल के नेता राम गोविंद चौधरी ने हराया. उन्होंने सपा का वोट बीजेपी को ट्रांसफर करवाया, लेकिन अखिलेश ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की.

सपा ने दिया धोखा
मायवती ने कहा कि समाजवादी पार्टी के लोगों ने चुनाव में धोखा दिया. कई जगहों पर बीएसपी को एसपी के नेताओं ने हराने का काम किया. धार्मिक ध्रुवीकरण को लेकर समाजवादी पार्टी काफी डरी हुई थी. इसलिए वो खुलकर मुद्दों को उठाने से कतराती रही.
Loading...

अखिलेश ने मुझे नहीं किया फोन
मायावती बोलीं कि रिजल्ट आने के बाद अखिलेश ने मुझे कभी फोन नहीं किया. सतीश मिश्रा ने उनसे कहा कि वे मुझे फोन कर लें, लेकिन फिर भी उन्होंने फोन नहीं किया. मैंने बड़े होने का फर्ज निभाया और काउंटिग के दिन 23 तारीख को उन्हें फोन कर उनके परिवार के हारने पर अफसोस जताया. मायावती बोलीं कि पीछे सपा शासन में दलितों पर जो अत्याचार हुआ था वहीं हार का कारण बना. मायावती ने कहा कि कई जगह सपा नेताओं ने बसपा उम्मीदवारों को हराने का काम किया था.

अखिलेश ने कहा था- मायावती जी का सम्मान मेरा सम्मान
मायावती जहां गठबंधन तोड़ने के बाद से काफी मुखर हैं और अखिलेश यादव पर तरह-तरह के आरोप लगा रही हैं वहीं अखिलेश ने अब तक चुप्पी साध रखी है. बसपा से अलग होने के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा था कि 'मैं विज्ञान का छात्र रहा हूं, वहां प्रयोग होते हैं और कई बार प्रयोग फेल हो जाते हैं लेकिन आप तब यह महसूस करते हैं कि कमी कहां थी. लेकिन मैं आज भी कहूंगा, जो मैंने गठबंधन करते समय भी कहा था, मायावती जी का सम्मान मेरा सम्मान है.'

ये भी पढ़ें: 

आखिर मायावती क्यों कर रही है आनंद और आकाश पर भरोसा!

सपा-बसपा और कांग्रेस 'परिवारवादी' पार्टियां: डिप्टी CM मौर्य
First published: June 23, 2019, 8:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...