Analysis: मोदी इफेक्ट- वाराणसी से गोरखपुर तक खत्म हो रहा है परिवारवाद

वरिष्ट पत्रकार अंबिकानंद सहाय का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हमेशा परिवारवाद पर हमालवर रहे हैं. ऐसे में जब वह वाराणसी से चुनाव लड़ रहे है तो बीजेपी में परिवारवाद को बढ़ावा मिलने का सवाल ही नहीं उठता.

Anil Rai | News18Hindi
Updated: May 8, 2019, 11:04 AM IST
Analysis: मोदी इफेक्ट- वाराणसी से गोरखपुर तक खत्म हो रहा है परिवारवाद
सांकेतिक तस्वीर
Anil Rai
Anil Rai | News18Hindi
Updated: May 8, 2019, 11:04 AM IST
देश कि राजनीति में परिवारवाद का आरोप अक्सर लगता रहता है. 2019 के लोकसभा चुनावों में करीब 13 नेताओं की तीसरी पीढ़ियां मैदान में है. लेकिन उत्तर प्रदेश के पूर्वी इलाके में 2019 के चुनाव को करीब से देखे तो परिवारवाद खत्म होता नजर आ रहा है. कभी पूर्वांचल की पहचान समझे जाने वाले दिग्गज नेताओं के परिवार के लोग इस चुनाव से बाहर दिख रहे हैं. यहां तक कि गोरखपुर लोकसभा सीट भी गोरखनाथ मठ के पारम्परिक उत्तराधिकार क्षेत्र से बाहर जाती दिख रही है.

90 के दशक तक में गोरखपुर से सटे कुशीनगर की पहचान समझे जाने वाले राजमंगल पाडे के परिवार से इस बार कोई चुनाव मैदान में नहीं है. राजमंगल पांडे के बेटे राजेश पांडे कुशीनगर से वर्तमान में सांसद हैं. देवरिया और गोरखपुर में गोरखनाथ मठ के विरोधी राजनीति के ध्रुव समझे जाने वाले सुरत नारायण मणि त्रिपाठी के परिवार से भी इसबार कोई चुनाव मैदान में नहीं है. हालंकि पूर्व सांसद लेफ्टिनेंट जनरल श्रीप्रकाश मणि त्रिपाठी के बेटे शंशाक मणि त्रिपाठी इस बार देवरिया से टिकट मांग रहे थे.



एक दौर में मऊ की पहचान जिस कल्पनाथ राय के नाम से होती थी, उनके परिवार का भी कोई नेता इस बार चुनाव मैदान में नहीं है. बलिया के पहचान समझे जाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर के बेटे नीरज शेखर का टिकट भी ऐन वक्त पर समाजवादी पार्टी ने काट दिया. हालांकि कांग्रेस की राजनीति में पूर्वांचल की पहचान समझे जाने वाले दिग्गज नेता कमला पति त्रिपाठी के परिवार से ललितेश मणि त्रिपाठी इस बार मिर्जापुर से चुनाव मैदान में है, लेकिन मिर्जापुर के राजनीतिक हालात साफ इशारा कर रहे हैं कि यहां से परिवारवाद को समर्थन मिलने की उम्मीद बहुत कम है.

सलेमपुर से भी पूर्व सांसद हरिकेवल प्रसाद कुशवाहा के बेटे वर्तमान सांसद रविन्द्र कुशवाहा मैदान में हैं. लेकिन हरिकेवल कुशवाहा का राजनीतिक कद उतना बड़ा नहीं रहा कि सिर्फ उनके नाम पर राजनीति की जा सके. वरिष्ट पत्रकार अंबिकानंद सहाय का मानना है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हमेशा परिवारवाद पर हमालवर रहे हैं. ऐसे में जब वह वाराणसी से चुनाव लड़ रहे है तो बीजेपी में परिवार वाद को बढ़ावा मिलने का सवाल ही नहीं उठता. वहीं दूसरे राजनीतिक दल इस इलाके में परिवारवाद को बढ़ावा देकर बीजेपी को हमला करने का मौका नहीं देना चाहते.

ये भी पढ़ें-

लोकसभा चुनाव 2019: UP की इन सीटों पर जनता को चुनना पड़ेगा बाहरी उम्मीदवार

लोकसभा चुनाव 2019: अपने को ही वोट नहीं दे पाएंगे ये दिग्गज
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...