Exclusive: मायावती और अखिलेश इस सीट से लड़ेंगे 2019 का लोकसभा चुनाव!
Azamgarh News in Hindi

आरएलडी से गठबंधन के बाद दलित और जाट गठजोड़ के साथ अगर मुस्लिम मतदाता गठबंधन के साथ आता है तो ये सीट माया के लिए पूरी तरह सुरक्षित है.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश में समाजावादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबंधन के ऐलान के सबकी नज़र इस बात पर टिकी है कि दोनों पार्टियों के मुखिया चुनाव लड़ेगें कि नहीं, क्योंकि बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव दोनों इस समय किसी भी सदन के सदस्य नहीं है. सूत्रों की माने तो इन दोनों दिग्गजों ने लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया है. मायावती पश्चिम में मोर्चा संभालेगी तो अखिलेश यादव पूर्व में.

समाजवादी पार्टी के सूत्रों की माने तो सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का आजमगढ़ से चुनाव लड़ना लगभग तय हो गया है. ठीक उसी तरह बीएसपी सुप्रीमो मायावती के भी सहारनपुर से चुनाव लड़ने की ख़बर पक्की मानी जा रही है. दरअसल दोनों दलों के नेता सुरक्षित सीट के साथ-साथ ऐसी सीट पर दांव लगाना चाहते हैं, जहां का असर अगल-बगल वाली सीटों पर पड़े. ऐसे में आजमगढ़ और सहारपुर, प्रदेश के दो इलाकों की ऐसी सीटें हैं जिनका असर दूर तक होगा.

उत्तर प्रदेश के मध्य में इटावा के आस-पास जहां यादव परिवार का गढ़ हैं, वहीं रायबरेली और अमेठी कांग्रेस का गढ़ है. बात करें आजमगढ़ की तो आजमगढ़ वो सीट है जिस पर सपा ने पिछली बार भी दांंव लगाया था. मुलायम सिंह परंपरागत मैनपुरी सीट छोड़कर आजमगढ़ गए थे.



प्रदेश में परंपरागत सीटों को छोड़ दें तो आजमगढ़ ऐसी अकेली सीट थी जहां सपा ने चुनाव जीता लेकिन वोटों का अंतर बहुत कम रहा. मुलायम सिंह यादव जैसा दिग्गज नेता सिर्फ 63204 वोटों से चुनाव जीत पाया लेकिन पार्टी नेताओं का मानना है कि इससे पार्टी को बहुत फायदा हुआ और पार्टी पूरब में कम से कम खाता खोलने में कामयाब रही और इस चुनाव में इसका विस्तार करेगी.
अखिलेश यादव को आजमगढ़ से चुनाव लड़ने का सुझाव देने वालों का तर्क है कि मोदी लहर में भी अगर ये सीट सपा ने जीती थी तो इस बार अगर अखिलेश यादव यहां से चुनाव लड़े तो इसका असर पूरे पूर्वांचल पर पड़ेगा.

पश्चिम में गठबंधन के प्रभाव को मजबूत करने के लिए सहारनपुर से बीएसपी सुप्रीमो मायावती पर दांव लगा रहे हैं. आरएलडी से गठबंधन के बाद दलित और जाट गठजोड़ के साथ अगर मुस्लिम मतदाता गठबंधन के साथ आता है तो ये सीट माया के लिए पूरी तरह सुरक्षित है. सहारनपुर में बीएसपी पिछले लोकसभा चुनाव में भले ही नंबर तीन पर रही हो लेकिन तेरहवीं और पन्द्रहवीं लोकसभा में ये सीट बीएसपी के खाते में रही है.

माया को इस सीट से चुनाव लड़ने का सुझाव देने वालों का तर्क है कि इस सीट के बहाने गठबंधन मुस्लिम वोटों को अपने साथ लेने में कामयाब रहेगा क्योंकि इस सीट पर चुनाव लड़ने से ये संकेत जाएगा कि गठबंधन के नेताओं को पूरा भरोसा है कि मुस्लिम मतादाता उनके साथ है.

यह भी पढ़ें- गठबंधन के पीएम चेहरे पर बोले अखिलेश यादव-हमारे पास कई च्वाइस, बीजेपी अपनी बताए

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading