लोकसभा चुनाव 2019: इस बार साढे़ 15 लाख से ज्यादा 'कृष्ण-अर्जुन' चुनेंगे सरकार

चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, इस बार महाभारत के पात्रों के नाम वाले मतदाताओं की संख्या लाखों में है. आयोग के अनुसार, 6.44 लाख कृष्ण अपने-अपने क्षेत्रों में मतदान करेंगे.

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 18, 2019, 2:16 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: इस बार साढे़ 15 लाख से ज्यादा 'कृष्ण-अर्जुन' चुनेंगे सरकार
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 18, 2019, 2:16 PM IST
विश्व में लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व अपने पूरे प्रवाह पर है. गांव की चौपाल से लेकर शहरों की ऊंची मीनारों तक सियासी नफे-नुकसान को लेकर बहस जोरों पर है. शब्द की हर दृष्टि से लोकतंत्र का यह महापर्व अनूठे ड्रामे, दर्शक एवं शोरगुल के साथ हर बार संसदीय चुनाव का एक नया बेंचमार्क स्‍थापित करता है, जिसका विश्‍व में कहीं और उदाहरण नहीं मिलता है. बहरहाल, जिक्र अगर नामों का करें तो इस बार के चुनाव में 'महाभारत' के कुछ किरदार भी चर्चा में हैं. इनमें शकुनि, शिखंडी, गांधारी और पूतना के अलावा धृतराष्ट्र, दुर्योधन, दुशासन और घटोत्कच जैसे नाम वोट डालने पहुंचेंगे.

चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, इस बार महाभारत के पात्रों पर आधारित नाम वाले मतदाताओं की संख्या लाखों में है. आयोग के अनुसार,  सिर्फ 'कृष्ण' ही 6.44 लाख हैं, जो अपने-अपने क्षेत्रों में मतदान करेंगे. वहीं, करीब 30 लाख 'गीता' भी मतदान करने अपने घरों से निकलेंगी. इनके अलावा शांतनु, भीष्म, विचित्रवीर के साथ धृतराष्ट्र और पांडु पर भी सरकार चुनने की अहम जिम्मेदारी है.



इतना ही नहीं चुनाव आयोग की सूची में महाभारत का हस्तिनापुर में आंखों देखा हाल सुनाने वाले संजय के हमनाम 26 लाख से ज्यादा हैं, तो 75 धृतराष्ट्र भी हैं. वहीं, दुर्योधन, गांधारी और दुशासन सरीखे पात्रों के अलावा जयद्रथ और अश्वत्थामा के नाम भी मतदाता सूची में शामिल हैं. इनके साथ विदुर और कर्ण भी ईवीएम का बटन दबाएंगे.

देशभर की मतदाता सूची में सख्या के मामले में देखा जाए तो पांडवों का कुनबा इन पर भारी है. अर्जुन, भीम, युधिष्ठिर, नकुल और सहदेव के साथ कुंती और द्रौपदी भी मतदाता सूची में शामिल हैं. महाभारत के रचयिता वेदव्यास की तादाद 1685 तो 265 महाभारत हैं. वहीं सूची में 326 शकुनि और 41 शिखंडी भी हैं.

लोकतंत्र के इस पर्व में हरियाणा का कुरुक्षेत्र लोकसभा भी है. यहां वह वटवृक्ष भी है, जहां कृष्णा ने अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था. कुरुक्षेत्र की मतदाता सूची में 3722 कृष्णा 31 पार्थ और 3029 गीता हैं, जबकि संजय की की संख्या 1569 है.

ये भी पढ़ें:

लखनऊ में गठबंधन उम्मीदवार पूनम सिन्हा के लिए कांग्रेस प्रत्याशी ने किया प्रचार
Loading...

हेमा मालिनी ने डाला वोट, बोलीं- मथुरा में विकास सिर्फ मेरे प्रयासों से हुआ

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार