लाइव टीवी

फेसबुकिया प्यार में मुंबई की मोहसिना बन गई खुशी, करवाचौथ के दिन लखनऊ में हुआ दर्दनाक अंत

Rishabh Mani | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 25, 2019, 12:49 PM IST
फेसबुकिया प्यार में मुंबई की मोहसिना बन गई खुशी, करवाचौथ के दिन लखनऊ में हुआ दर्दनाक अंत
मुंबई के पवई थाने में मोहसिना की गुमशुदगी भी दर्ज है. लखनऊ में मोहसिना अपना नाम खुशी गुप्ता बताती थी.

लखनऊ के एसपी पूर्वी सुरेश चंद्र रावत ने बताया कि चार दिन पहले बंथरा में सड़क किनारे महिला का शव मिला था जिसकी शिनाख्त मुंबई (Mumbai) की रहने वाली मोहसिना बानो के रूप में हुई.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) के बंथरा (Banthara) में चार दिन पहले मिले एक अज्ञात महिला (Unidentified Woman) के शव में आत्महत्या (Suicide) का मामला सामने आया है. महिला की शिनाख्त के बाद पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने और सबूत छिपाने में महिला के कथित पति और उसके एक साथी को गिरफ्तार (Arrest) किया है. पुलिस के अनुसार आरोपी ने पहचान छिपाने के लिए शव के चेहरे को तेजाब से जला दिया था. एसपी पूर्वी सुरेश चंद्र रावत ने बताया कि चार दिन पहले बंथरा में सड़क किनारे महिला का शव मिला था जिसकी शिनाख्त मुंबई (Mumbai) की रहने वाली मोहसिना बानो के रूप में हुई.

जानकारी के मुताबिक मोहसिना चार महीने पहले अपने पति और तीन बच्चों को मुंबई में ही छोड़कर लखनऊ आई थी और अपने फेसबुक फ्रेंड महेंद्र के साथ रहने लगी थी. मुंबई के पोवई थाने में मोहसिना की गुमशुदगी का मामला दर्ज है. लखनऊ में मोहसिना सबको अपना नाम खुशी गुप्ता बताती थी.

करवाचौथ के दिन महेंद्र के न आने पर उसने कर ली थी आत्महत्या

मोहसिना लखनऊ में खुशी बनकर हिंदू रीति-रिवाज के मुताबिक रहती थी. बताया जाता है कि मोहसिना से खुशी बनने के बाद वो अपनी मांग में सिंदूर लगाती थी, और मंगलसूत्र पहनती थी. महेंद्र ने मोहसिना उर्फ खुशी के लिए बंथरा में एक मकान भी लिया था, जिसमें वो रहती थी. महेंद्र हफ्ते में दो दिन उसके पास और बाकी दिन अपनी पत्नी के पास अमेठी में रहता था. बीते 17 अक्टूबर को मोहसिना उर्फ खुशी ने अपने कथित पति के लिए करवाचौथ का व्रत रखा था. करवाचौथ के दिन महेंद्र के न आने पर अगले दिन उसने आत्महत्या कर ली थी.

मौत के बाद महेंद्र ने मोहसिना का तेजाब से चेहरा जलाया और शव फेंका

घटना के अगले दिन महेंद्र जब घर आया तो वहां मोहसिना उर्फ खुशी का शव देखकर घबरा गया. उसने पहचान मिटाने के लिए शव के चेहरे को तेजाब से जला दिया और लाश को सड़क किनारे फेंक कर फरार हो गया था. पुलिस ने अज्ञात के तौर पर 48 घंटे बाद लाश का पोस्टमॉर्टम कराया तो आत्महत्या की पुष्टि हुई. पोस्टमॉर्टम के अगले दिन खुशी की शिनाख्त हुई तो उसके मोबाइल की कॉल डिटेल से मामले का खुलासा हुआ.

(रिपोर्ट: ऋषभ मणि त्रिपाठी)
Loading...

ये भी पढ़ें:

कमलेश तिवारी हत्याकांड: बरेली के मौलाना गिरफ्तार, आरोपियों को दी थी शरण

UP उपचुनाव: मायावती बोलीं- BSP का मनोबल गिराने के लिए बीजेपी का षड्यंत्र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 11:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...