जब अपनों ने बनाई दूरी तो लखनऊ के अभिषेक ने बढ़ाया हाथ, लावारिस कोरोना मृतकों का करते हैं अंतिम संस्कार

अभिषेक और उनके दोस्त कोरोना संक्रमित लाशों का अंतिम संस्कार करने में जुटे हैं.

अभिषेक और उनके दोस्त कोरोना संक्रमित लाशों का अंतिम संस्कार करने में जुटे हैं.

Lucknow News: अभिषेक ने बताया कि हमलोगों की टीम मृतक को घर से ले कर घाट तक पूरा विधि विधान से कार्यक्रम करने के बाद उन्हें सम्मानजनक विदाई दे कर अगले दिन उनकी अस्थि भी मां गोमती में प्रवाह करने का काम करते हैं.

  • Share this:

लखनऊ. राजधानी के राजाजीपुरम में रहने वाले अभिषेक (Abhishek) और उनके दोस्तों को शायद ही ये मालूम था कि किस्मत उन्हें ऐसा करने का मौका देगी, जिससे न सिर्फ लखनऊ (Lucknow) बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में उनकी पहचान कायम हो जाएगी. काम कठिन था लेकिन हौसले मजबूत हो तो मंजिल आसान हो जाती है. शायद यही सोचकर अभिषेक और उनके कुछ दोस्तों ने इस काम को करने में अपना तन मन धन लगा दिया. अभिषेक और उनके दोस्त लखनऊ के उन लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार करते हैं जिनका या तो इस दुनिया में कोई नहीं है या फिर करोना के डर से अंतिम संस्कार करने कोई पहुंच नहीं पा रहा.

अभिषेक ने News 18 को बताया कि इस अभियान की शुरुआत अप्रैल महीने में हुई. वह अपने एक दोस्त के पिताजी की अंत्येष्टि के लिए राजाजीपुरम के श्मशान घाट पर गए हुए थे. श्मशान घाट के बाहर एक व्यक्ति अपने बच्चे की डेड बॉडी लेकर रो रहा था. वह अपने बच्चे की अंत्येष्टि श्मशान घाट में भीड़ और दूसरी वजहों से नहीं कर पा रहे थे. उस दृश्य को देखकर अभिषेक और उनके दोस्तों का मन पसीज गया और उन्होंने उस बच्चे का अंतिम संस्कार खुद से किया. उसके बाद उन्होंने जौनपुर की एक घटना के बारे में सोशल मीडिया से सुना जिसमें एक व्यक्ति अपनी पत्नी की लाश रिक्शे पर लेकर जा रहा था. इस घटना के बाद से अभिषेक और उनके पांच दोस्तों ने यह तय किया कि वह ऐसे लोगों की मदद करेंगे.

अब तक 15 शवों का कर चुके दाह संस्कार

इसके बाद उनके इस प्रयास की चर्चा मीडिया में होने लगी और सोशल मीडिया के जरिए उन्हें संपर्क किया जाने लगा. धीरे-धीरे पूरे लखनऊ में उनके इस प्रयास की चर्चा और तारीफ होने लगी. अभिषेक बताते हैं कि आज की तारीख में उन्हें लगातार इस बारे में फोन आते रहते हैं. कुछ उनसे मदद मांगते हैं जबकि कुछ उनके इस प्रयास की प्रशंसा करते हैं. अभिषेक ने बताया कि वह अभी तक 15 डेड बॉडीज का अंतिम संस्कार कर चुके हैं.
इन नंबरों पर कर सकते हैं संपर्क

अभिषेक ने बताया कि हमलोगों की टीम मृतक को घर से ले कर घाट तक पूरा विधि विधान से कार्यक्रम करने के बाद उन्हें सम्मानजनक विदाई दे कर अगले दिन उनकी अस्थि भी मां गोमती में प्रवाह करने का काम करते हैं. उन्होंने अपनी इस मुहीम का नाम -एक कोशिश एक प्रयास - मुहीम अंत्येष्टि दिया है.

4-5 दोस्तों के साथ शुरू किए गए इस मुहिम में अब और भी कई लोग शामिल हो गए है. उनकी टीम में करुनेश पाठक , अनिल मिश्रा , हिमांशु शुक्ला , विनीत दीक्षित , अतुल सिंह , सनी साहू , जय गुप्ता , रमेश त्रिपाठी और पीयूष पांडे शामिल हैं.अभिषेक ने कहा कि जरूरतमंद लोग उन्हें उनके नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं. उनका और उनके दोस्तों के नंबर ये हैं. अभिषेक गुप्ता 8887987566 , करुनेश पाठक 94531 39957, अनिल मिश्रा 90448 07803

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज