लाइव टीवी

लखनऊ में महिलाओं के शव बदलने का मामला: हॉस्पिटल मैनेजमेंट व स्टाफ के खिलाफ दर्ज हुई FIR
Lucknow News in Hindi

Rishabh Mani | News18 Uttar Pradesh
Updated: February 17, 2020, 11:01 AM IST
लखनऊ में महिलाओं के शव बदलने का मामला: हॉस्पिटल मैनेजमेंट व स्टाफ के खिलाफ दर्ज हुई FIR
लखनऊ में एक अस्पताल की लापरवाही से शवों की अदला-बदली होने का मामला सामने आया है.

सहारा अस्पताल प्रबंधन ने इशरत मिर्ज़ा का शव गोमतीनगर के गर्ग परिवार को दे दिया था. जिसके बाद गर्ग परिवार ने हिंदू रीति रिवाज के मुताबिक इशरत मिर्ज़ा के शव का दाह संस्कार कर दिया.

  • Share this:
लखनऊ. इशरत मिर्ज़ा के शव के दाह संस्कार के मामले में विभूतिखंड पुलिस (Police) ने सहारा अस्पताल (Sahara Hospital) प्रबंधन और स्टॉफ के खिलाफ आईपीसी की धारा 297 में एफआईआर (FIR) दर्ज कर ली है. इंस्पेक्टर विभूतिखंड राजीव द्विवेदी के मुताबिक शव से छेड़छाड़ की धारा में दर्ज हुई है एफआईआर.

इशरत मिर्जा का हुआ था डाह संस्कार

मृतका इशरत मिर्ज़ा के बेटे एजाज हैदर की ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई है. सहारा अस्पताल प्रबंधन ने इशरत मिर्ज़ा का शव गोमतीनगर के गर्ग परिवार को दे दिया था. जिसके बाद गर्ग परिवार ने हिंदू रीति रिवाज के मुताबिक इशरत मिर्ज़ा के शव का दाह संस्कार कर दिया. इस मामले में परिवार ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया था. लेकिन यहां चौंकाने वाली बात ये है कि गर्ग परिवार ने भी शव को देखने की जहमत नहीं उठाई, ताकि पता चल सके कि जिसकी बॉडी वे लेकर आए हैं उनके परिवार की है कि नहीं. बिना शव को देखे ही गर्ग परिवार ने उसका दाह-संस्कार कर दिया.

11 फ़रवरी को दो महिलाओं की हुई थी मौत



उधर मुस्लिम धर्म गुरुओं की सलाह के बाद मिर्ज़ा परिवार ने शमशान घाट से इशरत मिर्ज़ा की राख को लेकर दफनाने के बाद फातिहा पढ़ लिया था. बता दें कि लखनऊ के सहारा अस्पताल के कर्मचारियों की लापरवाही से मर्च्युरी में रखे महिलाओं के शवों की अदला-बदली हो गई थी. अलीगंज की 72 वर्षीय इशरत मिर्ज़ा और 78 वर्ष की अर्चना गर्ग बीते कुछ दिनों से सहारा अस्पताल के न्यूरो आईसीयू में भर्ती थीं. 11 फरवरी को न्यूरो आईसीयू में दोनों महिलाओं की मौत हो गई. गर्ग परिवार ने 11 फरवरी को अर्चना समझकर इशरत का शव कब्ज़े में ले लिया. गर्ग परिवार ने अर्चना के धोखे में इशरत मिर्ज़ा का दाह संस्कार किया और राख़ विसर्जित करने के लिए संगम चले गए.

उधर 12 फरवरी को मिर्ज़ा परिवार इशरत का शव लेने सहार अस्पताल की मर्च्युरी पहुंचा तो उन्हें अर्चना का शव दिया गया जिसे मिर्ज़ा परिवार ने लेने से इनकार किया, तभी अस्पताल के इस गड़बड़झाले की जानकारी हुई. मिर्ज़ा परिवार ने मामले की शिकायत विभूतिखंड पुलिस को दी थी.

ये भी पढ़ें:

वाराणसी पहुंचे PM की सुरक्षा में दिखी बड़ी चूक, गाड़ी के सामने कूदा युवक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 11:01 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर