• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • CAA हिंसा: गिरफ्तार कांग्रेस नेता शाहनवाज आलम ने कभी इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के प्रॉक्टर के मुंह पर पोती थी कालिख

CAA हिंसा: गिरफ्तार कांग्रेस नेता शाहनवाज आलम ने कभी इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के प्रॉक्टर के मुंह पर पोती थी कालिख

वामपंथी विचारधारा से जुड़े रहे हैं शाहनवाज आलम

वामपंथी विचारधारा से जुड़े रहे हैं शाहनवाज आलम

बलिया के मनुवर गांव के रहने वाले शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam) ने 2018 में कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की. प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने यूपी कांग्रेस की जो नई टीम गठित की है, उसमें भी शाहनवाज की अहम भूमिका रही है.

  • Share this:
लखनऊ. पिछले साल 19 दिसंबर को राजधानी लखनऊ (Lucknow) में नागरिकता कानून (CAA Protest) को लेकर हिंसक प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam) छात्र राजनीति से ही मुखर रहे हैं. यूपी कांग्रेस के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के चेयरमैन शाहनवाज आलम बलिया के मनुवर गांव के रहने वाले हैं. उन्होंने प्रयागराज के इवनिंग क्रिश्चियन कॉलेज ग्रेजुएट की डिग्री हासिल की. 2004 में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से मास कम्युनिकेशन की डिग्री ली. यूनिवर्सिटी में आने के बाद वामपंथी छात्र संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (AISA) से जुड़े. यूनिवर्सिटी इकाई के प्रेसिडेंट भी बने. पहली बार 2005 मे पढ़ाई के दौरान 15 दिनों के लिए जेल भी गए. क्योंकि उन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के दबंग चीफ प्रॉक्टर माताम्बर तिवारी के मुंह पर यूनिवर्सिटी कैंपस में ही कालिख पोत दी थी. उस वक्त प्रॉक्टर तिवारी का कैंपस में बहुत खौफ था. प्रॉक्टर के मुंह पर कालिख पोतने के बाद शाहनवाज 15 दिनों तक जेल में रहे. उस वक्त वे अख़बारों और पत्रिकाओं की सुर्खियां बने थे.

कानूनी मदद देने वाले मंच से जुड़ाव

इलाहाबाद में रहने के दौरान ही शाहनवाज संदीप सिंह के संपर्क में आए, जो मौजूदा वक्त में राहुल व प्रियंका के सलाहकार हैं. संदीप सिंह के खिलाफ भी गैर जमानती वारंट जारी है. संदीप सिंह आगे की पढ़ाई के लिए जेएनयू चले गए, जबकि शाहनवाज लखनऊ. लखनऊ आने के बाद वे रिहाई मंच से जुड़े, जो मुस्लिम लड़कों को कानूनी मदद देता है. आतंकवाद के आरोप में जुड़े मुस्लिम लड़कों के लिए लड़ाई भी लड़ी. बंगाल के तीन लड़कों को कोर्ट से रिहा करवाया जो टेरर चार्ज में बंद थे.

कई किताबें भी लिखीं

शाहनवाज ने इस दौरान कई किताबें भी लिखीं. अक्षरधाम आतंकी हमला और मुस्लिम दानिशवरों के नाम खुला खत नाम से किताब लिखी. इसके अलावा उनके लिखे सैकड़ों आर्टिकल देश के विभिन्न अखबारों और मैग्ज़ीनों में छपे हैं. सितंबर 2018 में शाहनवाज ने कांग्रेस ज्वाइन किया और प्रियंका गांधी की कोर टीम का हिस्सा बने. यूपी में जहां भी प्रियंका का दौरा होता था, वहां शाहनवाज साथ रहते थे. इसी साल गठित नई कांग्रेस कमेटी में उन्हें अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ का चेयरमैन बनाया गया. शाहनवाज स्वभाव से तेजतर्रार और तर्क में माहिर माने जाते हैं. इसी वजह से कांग्रेस ने उन्हें अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ का चेयरमैन बनाया.

प्रियंका से होती है सीधी बात

बेहद साधारण परिवार में जन्मे शाहनवाज की प्रियंका गांधी की नई टीम के गठन में अहम भूमिका रही है. फिलहाल यूपी में कांग्रेस के राजीनीतिक दिशा तय करने में वे अहम भूमिका निभा रहे हैं. इतना ही नहीं प्रियंका गांधी से उनकी सीधी बातचीत होती है. राजनीतिक गतिविधियों के तहत ही शाहनवाज ने यूपी के दंगों पर आधारित एक फिल्म भी बनाई. इस फिल्म का नाम 'सैफरन वॉर' था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज