लखनऊ: चार प्राइवेट हॉस्पिटल में 48 COVID-19 मरीजों की मौत, डीएम ने जारी किया नोटिस

लखनऊ डीएम अभिषेक प्रकाश
लखनऊ डीएम अभिषेक प्रकाश

कोविड (COVID-19) रोगियों के उपचार में लापरवाही बरतने पर जिला प्रशासन की बड़ी कार्यवाई के तहत अपोलो, मेयो, चरक व चन्दन हास्पिटल को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड रोगियों के उपचार में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 4:32 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. राजधानी लखनऊ (Lucknow) के चार प्राइवेट अस्पतालों (Private Hospitals) में कोरोना संक्रमित मरीजों (COVID-19) की जांच और इलाज में बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है. शहर के चार निजी अस्पतालों में कुल 48 कोरोना संक्रमित मरीज रेफर या डायरेक्ट एडमिट किए गए थे. लेकिन इलाज के दौरान सभी की मौत हो गई. अब इस मामले में डीएम अभिषेक प्रकाश (DM Abhishek Prakash) ने चारों निजी अस्पतालों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

इन अस्पतालों को किया गया नोटिस जारी

कोविड रोगियों के उपचार में लापरवाही बरतने पर जिला प्रशासन की बड़ी कार्यवाई के तहत अपोलो, मेयो, चरक व चन्दन हास्पिटल को कारण बताओ नोटिस जारी  किया है. जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड रोगियों के उपचार में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी. लापरवाही बरतने वालो पर एपेडेमिक एक्ट के तहत कार्यवाई के उन्होंने निर्देश दिए. उन्होंने त्वरित कार्यवाई करते हुए अपोलो, मेयो, चरक व चन्दन हास्पिटल के विरुद्ध कारण बताओ नोटिस जारी किया और निर्देश दिया कि दिनाक 23.09.2020 तक रेफर किए गए कोविड 19 रोगी की मृत्यु से सम्बंधित सम्पूर्ण विवरण अपर जिलाधिकारी ट्रांस गोमती और मुख्य चिकित्साधिकारी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराएं.



इन अस्पतालों में इतने मरीजों की हुई मौत
चरक अस्पताल में 10 संक्रमित भेजे गए थे सभी ने कुछ दिनों में ही दम तोड़ दिया. इसके अलावा चंदन हॉस्पिटल में रेफर किये गए 11 कोरोना संक्रमित मरीजों की भी मौत कुछ दिनों में हो गई. अपोलो हॉस्पिटल में 17 संक्रमित भेजे गए थे. यहां भी सभी की कुछ दिनों में मौत हो गई. मेयो हॉस्पिटल में 10 मरीज भेजे गए और सभी की जान चली गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज