लाइव टीवी

लखनऊ: तो क्या ISIS के निशाने पर थे हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी?

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 18, 2019, 9:17 PM IST
लखनऊ: तो क्या ISIS के निशाने पर थे हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी?
हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या में आतंकी संगठन के हाथ होने की आशंका

आईएसआईएस से मिल रही धमकियों को लेकर उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से कई ट्वीट भी किये थे. हालांकि. अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी (ACS Awanish Awasthi) का कहना है कि उनकी हत्या (Murder) पुरानी रंजिश की वजह से हुई है. मामले में पुलिस जल्द ही खुलासा करेगी.

  • Share this:
लखनऊ. यूपी के राजधानी लखनऊ (Lucknow) के नाका इलाके में शुक्रवार को हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) के पूर्व अध्यक्ष कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की गला रेतकर हत्या के मामले में कई दावे किए जा रहे हैं. कहा जा रहा है कि कमलेश, कुख्यात आतंकी संगठन आईएसआईएस (ISIS) के निशाने पर थे. आईएसआईएस से मिल रही धमकियों को लेकर उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से कई ट्वीट भी किये थे. हालांकि, अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी (ACS Awanish Awasthi) का कहना है कि उनकी हत्या (Murder) पुरानी रंजिश की वजह से हुई है. मामले में पुलिस जल्द ही खुलासा करेगी.

ट्वीट कर दी थी हत्या की जानकारी

दरअसल, यह दावा इसलिए हो रहा है क्योंकि पिछले कुछ दिनों में कमलेश तिवारी ने कई ट्वीट कर खुद को खतरा होना बताया था. साथ ही सरकार से सुरक्षा की मांग भी की थी. जानकारी के मुताबिक साल 2017 में गुजरात एटीएस ने आईएसआईएस के उबैद मिर्ज़ा और कासिम को गिरफ्तार किया था. गुजरात एटीएस के अलावा सेंट्रल एजेंसी ने भी आतंकियों से पूछताछ की थी. दोनों आतंकियों ने पूछताछ में कमलेश तिवारी का नाम लिया था.

उबैद और कासिम को उनके हैंडलर ने वीडियो दिखाकर कमलेश तिवारी को मारने के लिए कहा था. बता दें कि गुजरात एटीएस ने चार्जशीट दाखिल की थी जिसमें कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश के बारे में भी खुलासा किया था. गुजरात एटीएस ने आतंकियों से पूछताछ में कमलेश तिवारी को लेकर हुए खुलासे की जानकारी सेंट्रल एजेंसी को भी दी थी.

विवादित बयान पर गिरफ्तार हुए थे कमलेश तिवारी
हिंदू महासभा के नेता कमलेश तिवारी ने दिसंबर, 2015 में पैगंबर मुहम्मद को लेकर एक विवादित बयान दिया था. जिसके बाद कमलेश तिवारी की गिरफ्तारी हुई थी. इस मामले में वह फिलहाल जमानत पर रिहा चल रहे थे. इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने अभी हाल ही में कमलेश तिवारी पर लगी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) हटा दिया था. परिवार का कहना है कि कमलेश द्वारा कई बार सुरक्षा मांगी गई थी, लेकिन उन्हें सुरक्षा नहीं मिली.

स्वामी चक्रपाणि ने दी आंदोलन की चेतावनी
Loading...

अखिल भारत हिंदू महासभा के पूर्व उत्तर प्रदेश अध्यक्ष कमलेश तिवारी की लखनऊ मे बेरहमी से हत्या पर मौजदा अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने आंदोलन की चेतावनी दी है. उन्होंने सूबे की योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि यह सरकार की नाकामी का परिणाम है. अगर हत्या करने वाले अपराधी जल्द गिरफ्तार नहीं किए गए तो महासभा पूरे देश में आन्दोलन करेगी.

अखिल भारतीय परिषद ने की संयम की अपील
उधर मामले में अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने हत्या की निंदा की. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कई उन्मादी संगठन सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ना चाहते हैं. हत्या के बाद लोगों में गुस्सा होना स्वाभाविक है. महंत नरेंद्र गिरी ने लोगों से संयम से काम लेने की अपील की. उन्होंने हत्यारों के भगवा कपड़े पहन कर आने को गंभीर मामला बताया. दोबारा ऐसी घटना न हो इसके लिए सरकार से कड़ी कार्यवाही की मांग की.

पुलिस ने किया 48 घंटे में आरोपियों के गिरफ़्तारी का दावा
उधर मामले में प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा है कि 48 घंटे के भीतर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि कमलेश तिवारी के शव का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है. पूरे मामले का खुलासा जल्द किया जाएगा.

(इनपुट: ऋषभमणि त्रिपाठी)

ये भी पढ़ें:

लखनऊ: कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले संदिग्धों की CCTV फुटेज जारी


एक विवादित बयान को लेकर कमलेश तिवारी पर लग चुका था रासुका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 8:16 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...