राजधानी लखनऊ में 7 सितंबर से दौड़ेगी मेट्रो, इन बातों का रखना होगा खास ख्‍याल
Lucknow News in Hindi

राजधानी लखनऊ में 7 सितंबर से दौड़ेगी मेट्रो, इन बातों का रखना होगा खास ख्‍याल
राजधानी लखनऊ में 7 सितंबर से दौड़ेगी मेट्रो

एमडी (MD) ने कहा कि सभी से अनुरोध है कि कॉन्टैक्टलेस ट्रैवल की ओर बढ़ें और स्मार्ट कार्ड (Smart Card) का उपयोग करें.

  • Share this:
लखनऊ. राजधानी लखनऊ में मेट्रो (Lucknow Metro) कोरोना लॉकडाउन के बाद अब एक बार फिर 7 सितंबर यानी सोमवार से शुरू होने जा रही है. इस दौरान हर एक स्टेशन को सैनेटाइज किया गया. लेकिन इस बार शुरू हो रही मेट्रो में नज़ारे बदले बदले से नज़र आएंगे. सेनिटाइजेशन के काम से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए खास व्यवस्था की गई है. कल से शुरू हो रही मेट्रो में आपको कई बदलाव भी देखने को मिलेंगे. पहले के मुकाबले भीड़ आधे से भी कम होगी क्योंकि लखनऊ मेट्रो अपनी क्षमता से काफी कम यात्रियों के साथ सफर की शुरुआत करेगी.

वहीं, लखनऊ मेट्रो ने कॉन्टैक्ट-लेस ट्रैवल, सैनिटाइज़ेशन, सोशल डिस्टेंसिंग और स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया है. यात्रियों को एक सुविधाजनक और पूरी तरह से सुरक्षित यात्रा का अनुभव देने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं. यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि लखनऊ मेट्रो देश की पहली ऐसी मेट्रो है, जहां पर यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए टोकन सैनिटाइज़ेशन के लिए यूवी तकनीक का इस्तेमाल होगा.
उन्होंने कहा कि सभी मेट्रो स्टेशनों पर सोशल-डिस्टेंसिंग के लिए मार्किंग की गई है, ताकि मेट्रो परिसर के अंदर यात्रियों के बीच उपयुक्त दूरी सुनिश्चित की जा सके. एमडी ने कहा कि सभी से अनुरोध है कि कॉन्टैक्टलेस ट्रैवल की ओर बढ़ें और स्मार्ट कार्ड का उपयोग करें. उन्होंने बताया कि हम प्रतिदन रात को टोकन को सेनिटाइज करेंगे. एमडी कुमार केशव ने कहा कि यात्रा के लिए आरोग्य सेतु ऐप का होना अनिवार्य है.मेट्रो ट्रेन के अंदर सीटों पर भी सोशल डिस्टेंसिंग के लिए मार्किंग की गई है. ताकि यात्री एक सीट छोड़कर बैठें. उन्होंने बताया कि स्टेशन के अंदर सभी कॉन्टैक्ट-पॉइंट्स जैसे कि प्रवेश-निकास गेट, बैगेज स्कैनर्स, टिकट वेंडिंग मशीन, एएफ़सी गेट, एस्कलेटर की हैंडरेल्स, सीढ़ियों की रेलिंग, लिफ़्ट के बटन्स, प्लैटफ़ॉर्म पर लगीं सीटों आदि को भी नियमित अंतराज़ पर सैनिटाइज़ किया जा रहा है. कुमार केशव ने कहा कि मेट्रो तंत्र में सभी सरकारी दिशा-निर्देशों और मानक संचालन प्रक्रिया को समयोचित रूप से क्रियान्वित किया गया है.

बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए भारत सरकार ने मार्च के आखिर में देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी. इसके बाद से ही मेट्रो समेत सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट को देश भर में बंद कर दिया गया था. अगस्त के आखिर में भारत सरकार की तरफ से जारी अनलॉक-4 की गाइडलाइंस में 7 सितंबर से मेट्रो चलाने की इजाजत दे दी गई है.
.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज