Lucknow: बीजेपी सांसद कौशल किशोर के बड़े भाई का कोरोना से निधन, ट्वीट कर दी जानकारी

लखनऊ में मोहनलालगंज सांसद बीजेपी सांसद कौशल किशोर ने ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं.

लखनऊ में मोहनलालगंज सांसद बीजेपी सांसद कौशल किशोर ने ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं.

Lucknow Corona Deaths: सांसद कौशल किशोर शर्मा लखनऊ में कोरोना की भयावह स्थिति को लेकर कई बार पत्र लिख चुके हैं. शनिवार को ही उन्होंने ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाते हुए धरने की चेतावनी भी दी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 9:37 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. राजधानी लखनऊ (Lucknow) मोहनलालगंज से बीजेपी सांसद कौशल किशोर (BJP MP Kaushal Kishore) के बड़े भाई महावीर प्रसाद का कोरोना से निधन (Corona Death) हो गया. वे कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद से ही वेंटीलेटर सपोर्ट पर थे. सांसद ने ट्वीट कर बड़े भाई के निधन की जानकारी दी. गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की चपेट में आने से आम से लेकर खास लोग भी दम तोड़ रहे हैं.

गौरतलब है कि सांसद कौशल किशोर लखनऊ में कोरोना की भयावह स्थिति को लेकर कई बार पत्र लिख चुके हैं. शनिवार को ही उन्होंने ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाते हुए धरने की चेतावनी भी दी थी. उन्होंने राजधानी में आक्सीजन की पूर्ति को लेकर सवाल उठाए हैं. कौशल किशोर का कहना है कि घर में आइसोलेट लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है. ऑक्सीजन प्लांट पर लोग घंटों लाइन लगाए खड़े हुए हैं. लगातार उनके पास ऑक्सीजन के लिए सैकड़ों फोन आ रहे हैं. बीजेपी सांसद कौशल किशोर ने धरने पर बैठने की चेतावनी दी है. सांसद ने कहा कि मैं धरने पर नहीं बैठना चाहता क्योंकि मैं नहीं चाहता हूं कि अफरा-तफरी का कोई माहौल पैदा हो.

सांसद कौशल किशोर ने कहा कि होम आइसोलेशन में मरीजों को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है. लोगों को ऑक्सीजन मिलेगी तो अस्पतालों पर दबाव कम होगा. लेकिन सैकड़ों लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है. प्रशासन से कई बार गुहार लगाने के बाद भी होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को ऑक्सीजन नहीं दी जा रही है. बता दें इससे पहले भी ऑक्सीजन को लेकर कौशल किशोर को लेकर सरकार व प्रशासन से कई मिन्नतें कर चुके हैं. हाल ही में सांसद ने न्यूज 18 को दिए अपने बयान में सवाल उठाते हुए कहा था कि सीएमओ द्वारा मरीजों को रेफरल लेटर देना गलत है, क्योंकि इस प्रक्रिया से मरीजों को भर्ती होने मे देरी हो रही है. उन्होंने कहा है कि हॉस्पिटल को सीधे भर्ती किए जाने की जिम्मेदारी दी जाए. सांसद कौशल किशोर ने कहा है कि प्रशासन से ये मेरा व्यक्तिगत अनुरोध भी है, जिससे जनकल्याण जुड़ा है. बता दें इससे पहले 17 अप्रैल को भी सांसद ने ट्वीट कर व्यवस्था पर सवाल उठाया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज