जानिए आजम खान पर अब तक लगे हैं कैसे-कैसे आरोप, कितना भर चुके हैं पेनाल्टी

सपा सांसद आज़म खान के खिलाफ योगी सरकार  लगातार कसता ही जा रहा है.

सपा सांसद आज़म खान के खिलाफ योगी सरकार लगातार कसता ही जा रहा है.

Azam Khan Corruption Cases: सपा के वरिष्‍ठ नेता आजम खान पर भ्रष्‍टाचार के कई आरोप लगे हैं. कई मामलों में नोटिस के बाद वह जुर्माना भी भर चुके हैं.

  • Share this:
लखनऊ. भ्रष्टाचार के कई पहलू होते हैं. घूस लेना तो पहली नजर में ही दिखाई देता है, लेकिन सरकारी पैसे को अपनी ताकत से दबा लेना भी भ्रष्टाचार का ही रूप है. समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आज़म खान (Azam Khan) ने कई बार कसम खाई है कि उनके राजनीतिक जीवन पर भ्रष्टाचार का कोई दाग नहीं है. लेकिन, सरकार बदलने के बाद से आजम खान खुद साबित करते रहे हैं कि उन्होंने कितना सरकारी पैसा अपने पास रखा था. आजम खान सरकारी नोटिस के बाद कई बार सरकारी खजाने में पैसा जमा करवा चुके हैं. आईये जानते हैं कि आज़म खान के दामन पर भ्रष्‍टाचार के कैसे-कैसे आरोप हैं.

1. मजदूरों के हक का पैसा दबाने का आरोप

नियम यह है कि जब कोई बिल्डिंग बनवाता है तो उसकी कीमत का 1 फीसदी लेबर डिपार्टमेंट में जमा करता है. इस पैसे से उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य कामगार कल्याण बोर्ड मजदूरों के विकास के लिए काम करवाता है. जौहर यूनिवर्सिटी के निर्माण लागत के आधार पर 4.5 करोड़ रुपये आजम खान को जमा करने थे, लेकिन उन्होंने चुप्पी साध ली. बाद में स्थानीय भाजपा नेता आकाश सक्सेना के हो-हल्ला मचाने पर 4.5 करोड़ में से 1 करोड़ 37 लाख रुपये जमा कर दिये हैं.

2. 1975 में जेल गये दूसरे मामले में, पेंशन ले ली लोकतंत्र सेनानी की
आजम खान को 1975 में लगी इमरजेन्सी के दौरान जेल जाने के एवज में हर महीने 20 हजार रुपये की पेंशन मिला करती थी. आपातकाल के दौरान इंदिरा गांधी की सरकार की मुखालफत करने वालों को यह पेंशन दी जाती है. भाजपा नेता आकाश सक्सेना का कहना है कि आजम खान इन्दिरा सरकार के विरोध के कारण जेल नहीं गये थे, बल्कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में किये गये एक आपराधिक मामले में जेल गये थे. अब पेंशन रोक दी गयी है.

3. बिजली चोरी का जुर्माना चुकाया तब भरा पर्चा

आजम खान की पत्नी और रामपुर से विधायक तजीन फातमा वर्ष 2019 में चुनाव ही नहीं लड़ पातीं यदि उन्होंने 30 लाख का भारी भरकम जुर्माना बिजली विभाग को न चुकाया होता. उनके हमसफर रिसॉर्ट में बिजली चोरी पकड़ी गयी थी और बिजली विभाग ने इसके एवज में 30 लाख का जुर्माना ठोका था. इसे भी जमा नहीं किया जा रहा था, लेकिन नामांकन दाखिल के लिए जुर्माना जमा करने की मजबूरी थी.



4. अब्दुल्ला आजम से 63 लाख की रिकवरी

यूपी विधानसभा के प्रमुख सचिव ने नोटिस भेजकर आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम को 63 लाख रुपये सरकारी खजाने में जमा करने को कहा था. यह नोटिस कई महीने पहले भेजी गयी थी. असल में फर्जी कागजात के आधार पर अब्दुल्ला आजम चुनाव लड़े और जीत गय़े. जब फर्जीवाड़ा साबित हुआ तो उनकी विधायकी चली गयी. अब विधानसभा के प्रमुख सचिव कह रहे हैं कि विधायक रहते जितनी तनख्वाह और भत्ते लिये वो सब सरकारी खजाने में जमा करो.

5. सरकारी जमीन पर बना डाला रिसॉर्ट

आजम खान पर 5 लाख 32 हजार का जुर्माना कोर्ट ने लगाया है, क्योंकि आजम खान का हमसफर रिसॉर्ट सरकारी जमीन पर बनाया गया था.

6. पीडब्ल्यूडी को 3.27 करोड़ की देनदारी

सरकारी सड़क पर जौहर यूनिवर्सिटी का गेट बना देने के कारण कोर्ट ने आजम खान पर 3 करोड़ 27 लाख का जुर्माना लगाया है. इस रकम को भी आजम खान को जमा करना है. हालांकि अभी तक पैसे जमा नहीं करवाये गये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज