यूपी में पोर्न सर्च करने वालों को पुलिस भेज रही अलर्ट? जानें वायरल SMS की हकीकत

इंटरनेट पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी खोजी तो आएगा अलर्ट मेसेज (File photo)

इंटरनेट पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी खोजी तो आएगा अलर्ट मेसेज (File photo)

Lucknow News: आईटी एक्ट के तहत चाइल्ड पोर्नोग्राफी सर्च करना, उसे देखना और उसका आदान-प्रदान करना अपराध की श्रेणी में आता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 5:53 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) ने चाइल्‍ड पोर्नोग्राफी (Child Pornography) के खिलाफ लोगों को जागरूक करने के लिए विशेष कदम उठाया है. ऐसे में अगर आप इंटरनेट पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी सर्च करते हैं तो सावधान हो जाइए. आपको यूपी पुलिस की तरफ से चेतावनी का नोटिस मिल सकता है. दरअसल, आईटी एक्ट के तहत चाइल्ड पोर्नोग्राफी सर्च करना, उसे देखना और उसका आदान-प्रदान करना अपराध की श्रेणी में आता है. हालांकि, यूपी पुलिस के इस संदेश को कुछ शरारती तत्वों ने अश्लील वीडियो से जोड़कर सोशल मीडिया पर 1090 का फेक मैसेज वायरल कर दिया. लिखा गया कि चेतवानी के बाद भी अगर किसी ने देखा तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. 1090 उत्‍तर प्रदेश की वीमेन पावर लाइन का हेल्‍पलाइन नंबर है.

दरअसल, यूपी वीमेन पावर लाइन 1090 की ओर से 12 फ़रवरी को डिजिटल आउटरीच प्रोग्राम 'हमारी सुरक्षा' का शुभारंभ किया गया. इसमें महिला सुरक्षा के लिए 360 डिग्री डिजिटल चक्रव्यूह का रोडमैप साझा किया गया. इस अभियान के तहत डिजिटल प्‍लेटफॉर्म के माध्यम से 1090 के बारे में लोगों को जागरूक किया जाएगा और महिलाओं व बच्चों के लिए सुरक्षित वातावरण बनाने की कोशिश की जाएगी. साथ ही आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस और साइकोग्राफिक्स जैसी अत्याधुनिक तकनीक का प्रयोग करते हुए चाइल्ड पोर्नोग्राफी से संबंधित इंटरनेट पर उपलब्ध सामाग्री सर्च करने वाले लोगों को पॉप अप मैसेज के जरिए सेंसटाइज किया जाएगा.

Youtube Video


फर्जी चेतावनी एसएमएस वायरल
हालांकि, 1090 के इस मैसेज को गलत तरीके से सोशल मीडिया में वायरल किया जा रहा है. एडीजी (वूमेन पावर लाइन) नीरा रावत ने अब जांच के आदेश दिए हैं. नीरा रावत ने कहा कि 1090 की तरफ से किसी को कोई मैसेज नहीं भेजा गया है. वायरल मैसेज फेक हैं और इसके जांच के आदेश दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि चाइल्ड पोर्नोग्राफी से सम्बंधित सामग्री इंटरनेट पर सर्च करने वाले लोगों को पॉप अप मैसेज के जरिए सेंसटाइज किया जाएगा. कुछ शरारती तत्वों ने इसी मिसकम्युनिकेशन का फायदा उठा लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज