• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • लखनऊ: अब यूपी में 20 साल से अधिक पुराने पेड़ों को किया जाएगा स्थानंतरित

लखनऊ: अब यूपी में 20 साल से अधिक पुराने पेड़ों को किया जाएगा स्थानंतरित

लखनऊ:-अब यूपी में 20 साल से अधिक पुराने पेड़ों को किया जाएगा स्थानंतरित

लखनऊ:-अब यूपी में 20 साल से अधिक पुराने पेड़ों को किया जाएगा स्थानंतरित

योगी सरकार ने फैसला किया है कि 20 साल से पुराने पेड़ों को काटने के बजाय स्थानांतरित कर उनका स्थान बदला जाएगा.

  • Share this:
    लखनऊ:-उत्तर प्रदेश में अब पर्यावरण के संरक्षण पर ध्यान केंद्रित करते हुए कई प्रयास किए जा रहे हैं. इसी क्रम में योगी सरकार ने फैसला किया है कि 20 साल से पुराने पेड़ों को काटने के बजाय स्थानांतरित कर उनका स्थान बदला जाएगा. इस निर्णय के लागू होने से विकास कार्यों के कारण हर साल कटने वाले सैकड़ों पेडों को बचाया जाएगा.

    मशीनरी के प्रयोग से होगा पेड़ों का होगा स्थानांतरण

    राज्य वन विभाग ने मंगलवार को लखनऊ में मोहनलालगंज - गोसाईगंज मार्ग पर एक पीपल के पेड़ को दूसरे स्थान पर ना सिर्फ  सफलतापूर्वक स्थानांतरित किया गया बल्कि उसको समय से 2 किलोमीटर दूर लगा भी दिया गया.लखनऊ से स्थानांतरित किए गए पीपल के पेड़ को मशीनरी की मदद से उखाड़ा गया.गौरतलब रहे कि मोहनलालगंजी - गोसाईगंज क्षेत्र से गुजरने वाली सड़क को चौड़ा के विकास कार्य में पीपल का पुराना वृक्ष बाधा बन रहा था.

    तो ऐसे हुआ स्थानांतरित

    आप को बता दे कि पेड़ों को स्थानांतरित करने के लिए विशेष मशीन का प्रयोग कर पेड़ को उसकी जड़ों और मिट्टी से खोदा जाता है.फिर उसे नए स्थान पर मशीन के प्रयोग से दोबारा लगाया जाता है.जिसकी दूरी  2 किलोमीटर निर्धारित की गई है.20 साल से ज्यादा पुराने इस पीपल के पेड़ को उत्तर प्रदेश के वन मंत्री सहित अधिकारियों की उपस्थिति में स्थानांतरित किया गया.

    उत्तर प्रदेश के वन मंत्री का यह कहना है कि हम हर साल करोड़ों पेड़ लगा रहे हैं और अगर हम मौजूदा पेड़ों को बचा सकते हैं, तो यह वन संरक्षण में एक मील का पत्थर साबित होगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज