लाइव टीवी

लखनऊ. फर्जी कागजातों से वाहन फाइनेंस कराने वाले गैंग का खुलासा, 7 गिरफ्तार

Rishabh Mani | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 25, 2019, 8:26 AM IST
लखनऊ. फर्जी कागजातों से वाहन फाइनेंस कराने वाले गैंग का खुलासा, 7 गिरफ्तार
लखनऊ पुलिस के कागजातों से हेरफेर कर वाहन फाइनेंस करवाने वाले गैंग का फर्जीवाड़ा

एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक इस गिरोह ने करोड़ों रुपए का फर्जीवाड़ा किया है.

  • Share this:
लखनऊ. लखनऊ पुलिस (Lucknow Police) की क्राइम ब्रांच (Crime Branch) और कृष्णानगर पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो फर्जी तरीके से तैयार किए गए कागज़ातों से लग्जरी गाड़ियां फाइनेंस कराता था और फाइनेंस की तीन चार किश्त देने के बाद वाहन को बेच देता था. वाहन फ़र्ज़ी कागज़ातों पर फाइनेंस होते थे लिहाज़ा जब फाइनेंस और वाहन एजेंसी उस एड्रेस पर पहुंचते थे, तब धोखे का पता चलता था. पुलिस ने गिरोह के सरगना समेत 7 लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार आरोपियों से 5 लग्जरी कार और 7 महंगी बाइक बरामद हुई हैं.

करोड़ों का फर्जीवाड़ा

एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक इस गिरोह ने करोड़ों रुपए का फर्जीवाड़ा किया है. लखनऊ पुलिस ने अमित यादव, रेहान, आनंद, अनिल, शमीम, विवेक और कलीमुद्दीन नाम के शातिर जालसाजों को गिरफ्तार कर एक बड़े गिरोह का खुलासा किया है. ये शातिर बदमाश फर्जी कागजात के सहारे चार पहिया और दो पहिया वाहन फाइनेंस कराते थे और बाद में उन्हें इन्हीं फर्जी कागजात के सहारे लोगों को बेच दिया करते थे. पुलिस के मुताबिक इस जालसाज गिरोह ने जालसाज़ी से करोड़ों के वाहन बेचकर लाखों की काली कमाई की है.

ऐसे करते थे फर्जीवाड़ा

गिरोह का एक सदस्य शमीम एक वाहन फाइनेंस कंपनी में काम करता है. शमीम के पास जो भी वाहन फाइनेंस के लिए आता था, शमीम उससे कागज़ातों जैसे आधार कार्ड, बैंक स्टेटमेंट आदि की एक एक्स्ट्रा कॉपी ले लेता था. इन एक्सट्रा कागज़ातों पर गिरोह के लोगों की फोटो लगाकर वाहन फाइनेंस करवाए जाते थे. दो तीन किश्त देने के बाद गिरोह के सदस्य ग़ायब हो जाते थे और वाहन को किसी और को बेच देते थे. इधर किश्त न आने पर जब फाइनेंस और वाहन कंपनी वाले उस एड्रेस पर पहुंचते थे तो उन्हें उस एड्रेस पर कोई और मिलता था. एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक हजरतगंज में एक कार शोरूम की शिकायत के बाद इस फर्जीवाड़े की जानकारी सामने आई थी. जिसपर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की गई है. इस गिरोह से बैंककर्मियों के संबंधों की जांच भी की जा रही है.

ये भी पढ़ें:

UP कांग्रेस ने अपने 10 वरिष्ठ नेताओं को दिखाया बाहर का रास्ता, ये है वजहगोरखपुर AIIMS और फर्टिलाइजर चालू होने के बाद यहीं मिलेगी नौकरी: सीएम योगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 8:26 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर