किसान आंदोलन: अखिलेश यादव नजरबंद, हिरासत में लिए गए कई सपा कार्यकर्ता

सपा प्रमुख अखिलेाश यादव  (फाइल फोटो)

सपा प्रमुख अखिलेाश यादव (फाइल फोटो)

Kisan Andolan: अखिलेश यादव को कन्नौज जाने से रोकने के लिए उनके आवास और सपा ऑफिस के डेढ़ किलोमीटर के दायरे में पुलिस ने की बैरिकेडिंग. सभी रास्तों को भी सील कर दिया गया है. यूपी के विभिन्न शहरों में सपा कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2020, 12:29 PM IST
  • Share this:

लखनऊ. किसान आन्दोलन (Kisan Andolan) के समर्थन में सोमवार को कन्नौज में होने वाले किसान यात्रा (Kisan Yatra) से पहले ही पुलिस ने समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को उनके निजी आवास पर नजरबंद (House Arrest) कर दिया है. अखिलेश यादव के आवास और सपा ऑफिस के डेढ़ किलोमीटर के दायरे में पुलिस ने बैरिकेडिंग के साथ ही सभी रास्तों को सील कर दिया है. इस बीच सपा प्रमुख ने ट्वीट कर बीजेपी सरकार पर निशाना साधा और कार्यकर्ताओं से किसान यात्रा में शामिल होने की अपील की. इधर, किसान आंदोलन के समर्थन में प्रदेश के विभिन्न शहरों में प्रदर्शन कर रहे सपा कार्यकर्ताओं को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. लखनऊ में सपा के MLC को भी हिरासत में लिया गया है.

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा,  'क़दम-क़दम बढ़ाए जा, दंभ का सर झुकाए जाये जा, जंग है ज़मीन की, अपनी जान भी लगाए जा..., किसान-यात्रा’ में शामिल हों!' उधर, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव एवं मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी का बड़ा बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि सरकार इतनी कमजोर और कायर हो गयी है कि अखिलेश यादव के कन्नौज जाने से ही डर गई. अखिलेश यादव का जो संवैधानिक अधिकार है, उसकी हत्या हो रही है. भारतीय जनता पार्टी लोकतांत्रिक अधिकारों को कुचलने में लगी है.


किसान आंदोलन को दबाने की कोशिश
समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता सुनील सिंह साजन ने कहा कि किसानों के आंदोलन को पूरे देश में बल के आधार पर दबाया जा रहा है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने किसानों के आंदोलन को समर्थन दिया है. इसी क्रम में 7 दिसंबर से अनवरत समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता किसानों के पक्ष में सड़क पर रहेंगे. 7 दिसंबर को अखिलेश यादव को कन्नौज जाना था, लेकिन उन्हें अलोकतांत्रिक तरीके से रोक कर हाउस अरेस्ट किया गया है. क्रांतिकारियों ने अंग्रेजों को भी देखा है. इस घमंड वाली सरकार को समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता चूर चूर कर देंगे. हमारे नेता किसानों के साथ हैं और हम किसानों के मुद्दे पर सदन से सड़क तक लड़ते रहेंगे.

कमिश्नर बोले- किसी को नजरबंद नहीं किया अखिलेश यादव की नजरबंदी पर पुलिस कमिश्न डीके ठाकुर ने कहा कि किसी को नजरबंद नहीं किया गया है. डीएम कन्नौज ने प्रस्तावित कार्यक्रम को निरस्त करने का आग्रह किया था. इस बाबत डीएम ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के निजी सचिव को पत्र भी भेजा था. COVID-19 गाइडलाइंस और धारा 144 की वजह से कार्यक्रम निरस्त करने को कहा गया है. डीएम कन्नौज के पत्र की वजह से अखिलेश यादव को कन्नौज जाने से रोका गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज