लखनऊ: ओमप्रकाश राजभर ने की भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर से मुलाकात, नए सियासी समीकरण की कवायद
Lucknow News in Hindi

लखनऊ: ओमप्रकाश राजभर ने की भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर से मुलाकात, नए सियासी समीकरण की कवायद
भीम आर्मी चीफ से मिले ओमप्रकाश राजभर

माना जा रहा है कि दोनों की मुलाकात उत्तर प्रदेश में नए समीकरण को जन्म दे सकती है. कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच 2022 विधानसभा चुनाव को को लेकर चर्चा हुई.

  • Share this:
लखनऊ. सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर (Omprakash Rajbhar) ने सोमवार को लखनऊ (Lucknow) के वीआईपी गेस्ट हाउस में भीम आर्मी (Bhim Army) के मुखिया चंद्रशेखर (Chandrashekhar) से मुलाकात की. चंद्रशेखर के नई पॉलिटिकल पार्टी बनाने के ऐलान के बाद यह मुलाक़ात अहम मानी जा रही है. दोनों के बीच बंद कमरे में हुई मुलाक़ात के बाद यूपी की सियासत में नए समीकरण को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं.

माना जा रहा है कि दोनों की मुलाकात उत्तर प्रदेश में नए समीकरण को जन्म दे सकती है. कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच 2022 विधानसभा चुनाव को को लेकर चर्चा हुई. सुभासपा की अगुआई में बनी भागीदारी संकल्प मोर्चा में भीम आर्मी शामिल हो सकती है. 2022 के चुनाव से पहले सभी पिछड़े, दलित व अल्पसंख्यकों को एक करने की कोशिश इस गठबंधन के सहारे हो सकती है.

बसपा के कई नेता चंद्रशेखर की पार्टी में हो सकते हैं शामिल



इससे पहले रविवार को भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने अपनी नई पार्टी बनाने की घोषणा कर दी. चंद्रशेखर की नई पार्टी का औपचारिक ऐलान होली के बाद 15 मार्च को होगा. चंद्रशेखर की नई पार्टी के ऐलान के साथ ही बहुजन समाज पार्टी (BSP) में हलचल बढ़ गई है. बताया जा रहा है कि चंद्रशेखर की नई पार्टी में बसपा के कई पूर्व एमएलसी और लोकसभा प्रत्याशी शामिल हो सकते हैं.
इन नेताओं ने ली भीम आर्मी की सदस्यता

पार्टी के गठन के सिलसिले में रविवार को चंद्रशेखर लखनऊ पहुंचे थे. डालीबाग के वीआईपी गेस्ट हाउस में चंद्रशेखर से कई लोगों ने मुलाकात की. इसमें बहुजन समाज पार्टी के कई पूर्व नेता शामिल थे. सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान कई पूर्व एमएलसी और लोकसभा के प्रत्याशी रहे नेताओं ने चंद्रशेखर से मुलाकात की. इतना ही नहीं भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर ने कई नेताओं को पार्टी की सदस्यता भी दिलाई. बसपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रामलखन चौरसिया, पूर्व बीएसपी नेता इजहारुल हक और अशोक चौधरी ने भीम आर्मी की सदस्यता ग्रहण की.

'राजनीति महत्वाकांक्षा नहीं बल्कि मजबूरी'
भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर का कहना है कि राजनीति उनकी महत्वाकांक्षा नहीं, बल्कि मजबूरी है. उन्होंने बताया कि पार्टी अपने मौजूदा स्वरूप में संगठन के समानांतर काम करती रहेगी. भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने कहा कि वह दिसंबर में एक राजनीतिक दल के गठन की घोषणा करना चाहते थे, लेकिन CAA लागू होने के कारण यह काम रुक गया. उन्होंने कहा कि सीएए के खिलाफ लड़ना चुनाव लड़ने से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया था.

ये भी पढ़ें:

बुलंदशहर सदर से बीजेपी विधायक वीरेंद्र सिरोही का निधन

...जब 'मुर्दे' की गवाही पर लेखपाल को हुई जेल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading