होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Lucknow : चिड़ियाघर के हिमालयन भालू ने क्यों छोड़ दिया खाना-पीना? तेंदुआ कहां गया?

Lucknow : चिड़ियाघर के हिमालयन भालू ने क्यों छोड़ दिया खाना-पीना? तेंदुआ कहां गया?

लखनऊ के प्रसिद्ध नवाब वाजिद अली शाह ज़ूलाॅजिकल गार्डन में इन दिनों आप जाएंगे तो एक तेंदुआ और सबका चहेता बन गया भालू नज़र ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ. चिड़ियाघर में नर हिमालयन काले भालू ने पिछले कुछ दिनों से खाना-पीना छोड़ दिया, तो देखरेख करने वालों की चिंता बढ़ गई और अब अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है. इसी तरह चिड़ियाघर का एक तेंदुआ भी बीमार होने की वजह से अस्पताल में है. भालू की हालत ठीक बताई जा रही है और चिड़ियाघर के प्रमुख का कहना है कि कुछ ही दिनों में पर्यटक फिर उसका दीदार कर सकेंगे. फिलहाल ज़ू में भालुओं के बाड़े में मादा भालू दिखाई दे रही है, लेकिन ज़ू के कीपरों का कहना है कि चाल ढाल व अपने बर्ताव से वह काफी बेचैन दिख रही है.

असल में लखनऊ के प्रसिद्ध प्राणी उद्यान में नागालैंड से 16 मार्च 2022 को हिमालयन काले भालू की एक जोड़ी लाई गई थी. एक नर और एक मादा की इस जोड़ी को यहां आने वाले पर्यटकों का भी काफी ध्यान मिल रहा था. नर काले हिमालयन भालू की उम्र चार साल से ज्यादा बताई जा रही है. पिछले 20 सितंबर की सुबह जब उसे खाना देने के लिए बाड़े में कीपर पहुंचे तो वह बेहद बीमार नज़र आ रहा था. कीपरों ने इसकी जानकारी तत्काल चिड़ियाघर के डाॅक्टरों और निदेशक को दी थी. तब डॉ. उत्कर्ष शुक्ला और डॉ. विजेंद्र बाड़े में पहुंचे और उसकी जांच की.

आपके शहर से (लखनऊ)

Lucknow news, Uttar pradesh, Nawab Wajid Ali Shah zoo, Lucknow Zoo, Male Himalayan black bear, zoo Hospital, up news, lucknow zoological garden, नवाब वाजिद अली शाह, लखनऊ चिड़ियाघर, हिमालयन काला भालू, नागालैंड

ज़ू की तरफ से जानकारी दी गई कि 21 सितंबर को भालू ने एकदम खाना छोड़ दिया और अपने बाड़े से बाहर नहीं आया. तब डाॅक्टरों ने उसे चिड़ियाघर के अंदर ही बने अस्पताल में भर्ती कर लिया. यहां दो दिन से उसका इलाज किया जा रहा है और उसकी हालत काबू में बताई गई है. चिड़ियाघर के निदेशक वीके मिश्र ने कहा कि वह जल्दी स्वस्थ हो जाएगा. ‘चिड़ियाघर में अक्सर ऐसा होता है कि जानवर बीमार होते हैं, तो उनका इलाज कर दिया जाता है. यह सामान्य बात है. जैसे इंसान बीमार होने पर खाना पीना छोड़ते हैं, वैसे ही कुछ जानवरों में भी ऐसे लक्षण दिखते हैं.’

Tags: Lucknow news, Wildlife

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें