• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • न्याय के लिए अनाथों की आवाज बनी है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला 

न्याय के लिए अनाथों की आवाज बनी है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला 

ऐसे

ऐसे में अनाथ बच्चों की आवाज बन कर सभी सरकारी सुविधाओं के साथ-साथ उनके भविष्य को संवार रही है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला. लखनऊ में रहने वाली पाविनी शुक्ला अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए निस्वार्थ कार्य कर रही है. वह जमीन से लेकर अदालत तक अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिदिन कार्य करने में जुटी हुई है.

ऐसे में अनाथ बच्चों की आवाज बन कर सभी सरकारी सुविधाओं के साथ-साथ उनके भविष्य को संवार रही है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला. लखनऊ में रहने वाली पाविनी शुक्ला अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए निस्वार्थ कार्य कर रही है. वह जमीन से लेकर अदालत तक अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिदिन कार्य करने में जुटी हुई है.

  • Share this:

    सरकार द्वारा भले ही प्रयास किए जाते हो कि अनाथ बच्चों को न्याय मिल सके लेकिन जमीनी स्तर पर न्याय कही मिलता नहीं दिखाई देता. ऐसे में अनाथ बच्चों की आवाज बन कर सभी सरकारी सुविधाओं के साथ-साथ उनके भविष्य को संवार रही है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला. लखनऊ में रहने वाली पाविनी शुक्ला अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए निस्वार्थ कार्य कर रही है. वह जमीन से लेकर अदालत तक अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिदिन कार्य करने में जुटी हुई है.

    लोकल18 की टीम से खास बातचीत में उन्होंने बताया कि यूनिसेफ़ की रिपोर्ट के अनुसार देश में 2.9 करोड़ बच्चें अनाथ है. दूसरी रिपोर्ट के अनुसार 3 लाख से कम बच्चें अनाथालय में है और पूरे देश में एडॉप्शन 6 हजार से कम होता है.

    विख्यात पत्रिका \”फेमिना\” ने अपने देश की 40 ऐसी महिलाओं की सूची जारी की है जिन्होंने अपने क्षेत्र में विशिष्ट योगदान देते हुए लाखों लोगों को प्रेरित किया है. इस सूची में लखनऊ की पॉलोमी पाविनी शुक्ला भी शामिल की गई हैं. लम्बे अरसे से अनाथ बच्चों को समान अधिकार दिलाने व उनके हित की सुरक्षा के लिए माननीय उच्चतम न्यायलय तक जनहित याचिका लड़ने के लिए उन्हें यह सम्मान मिला है.

    अनाथ बच्चों पर उनके द्वारा अपने भाई अमंद शुक्ला के साथ‌ संयुक्त रुप से लिखी पुस्तक \” Weakest on earth – Orphans of India\” तथा उनके परिश्रम द्वारा कई राज्यों में अनाथ बच्चों हेतु नीतिगत बदलाव आए हैं, जिनमें अनाथ बच्चों के लिए आरक्षण, बजट वृद्धि आदि शामिल हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज