Home /News /uttar-pradesh /

Facebook के जरिए ISIS संदिग्धों से जुड़ा था लखनऊ का युवक, मां के साथ मिलकर सोना बेचने में की मदद!

Facebook के जरिए ISIS संदिग्धों से जुड़ा था लखनऊ का युवक, मां के साथ मिलकर सोना बेचने में की मदद!

सीरिया की सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (SDF) ने यह घोषणा की है कि इस्लामिक स्टेट फॉर इराक एंड सीरिया (ISIS) के चंगुल से उस आखिरी बघौज़ गांव को भी मुक्त करा लिया गया है. अब पूरी दुनिया से खौफनाक आतंकी संगठन आईएसआईएस का खात्मा हो गया है. लेकिन इससे ज्यादा चौंकाने वाली खबर ये है कि इस खबर के आने से विश्व महाशक्ति अमेरिका और कई ताकतवर यूरोपीय देश परेशान हैं. आखिर इसके पीछे क्या वजह है?

सीरिया की सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (SDF) ने यह घोषणा की है कि इस्लामिक स्टेट फॉर इराक एंड सीरिया (ISIS) के चंगुल से उस आखिरी बघौज़ गांव को भी मुक्त करा लिया गया है. अब पूरी दुनिया से खौफनाक आतंकी संगठन आईएसआईएस का खात्मा हो गया है. लेकिन इससे ज्यादा चौंकाने वाली खबर ये है कि इस खबर के आने से विश्व महाशक्ति अमेरिका और कई ताकतवर यूरोपीय देश परेशान हैं. आखिर इसके पीछे क्या वजह है?

सूत्रों के अनुसार, लखनऊ का युवक फेसबुक के माध्यम से संदिग्ध आतंकियों के संपर्क में आया था. संदिग्ध आतंकियों की मदद करने के आरोप में एनआईए और एटीएस ने मां- बेटे से पूछताछ कर रही है.

    इस्लामिक स्टेट (IS) के नए मॉड्यूल हरकत-उल-हर्ब-इस्लाम के हिरासत में लिए संदिग्ध आतंकियों के मामले में एक और बड़ा खुलासा हुआ है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, संदिग्ध आतंकियों की सोना बेचने में लखनऊ के युवक ने मदद की थी. लखनऊ के युवक ने अपनी मां की मदद से संदिग्ध आतंकियों के गहने बिक़वाये थे. सूत्रों के अनुसार, लखनऊ का युवक फेसबुक के माध्यम से संदिग्ध आतंकियों के संपर्क में आया था. संदिग्ध आतंकियों की मदद करने के आरोप में एनआईए और एटीएस ने मां- बेटे से पूछताछ की है.

    इससे पहले बुधवार को राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (NIA) और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने छापेमारी कर करीब पांच लोगों को हिरासत में ले लिया. एनआईए और दिल्ली पुलिस की संयुक्त टीम ने यूपी में 17 जगह छापे मारे हैं. एनआईए की ओर से हिरासत में लिए गए आतंकी देश की कई मुख्य हस्तियों, प्रतिष्ठानों और दिल्ली के बड़े बाजारों को निशाना बनाने की तैयारी में थे. इस साजिश में मौलवी से लेकर इंजीनियर तक शामिल हैं.

    एनआईए के आईजी आलोक मित्तल ने इस बात की जानकारी दी. एनआईए के मुताबिक, इस गैंग का मकसद आने वाले दिनों में कई बड़े जगहों पर धमाके करके दहशत फैलाना था. आलोक मित्तल ने कहा कि इस सरगने का मास्टरमाइंड उत्तर प्रदेश के अमरोहा का एक मौलवी मुफ्ती सोहेल था, जो दिल्ली का रहने वाला था.

    अब तक इस मामले में 17 संदिग्ध लोगों से पूछताछ की गई है. इनके पास से बड़ी मात्रा में विस्फोटक, 12 पिस्टल और देशी रॉकेट लॉन्चर, 135 सिम कार्ड, 100 मोबाइल फोन और 112 अलार्म क्लॉक बरामद किए गए हैं. इसके अलावा इनके पास से बम बनाने की 25 किलो विस्फोटक सामग्री बरामद की गई है. इन आरोपियों का पाइप बम बनाने का भी इरादा था.

    यह भी पढ़ें- NIA का खुलासा: बड़े नेताओं और संस्थानों पर हमले की थी साजिश, मौलवी था मास्टरमाइंड

    Tags: ATS, Lucknow news, NIA, Terrorist

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर