बांदा: माफिया मुख़्तार अंसारी हुआ कोरोना निगेटिव, देखिए RTPCR रिपोर्ट

बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है.

बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है.

Lucknow News: कोरोना की चपेट में आने के बाद मुख्तार अंसारी को बैरिक नंबर 16 में आइसोलेट किया गया था. संक्रमण के दौरान उसकी डाइट काफी कम हो गई थी और ब्‍लड शुगर लेवल भी बढ़ गया था. लेकिन ताजा आरटीपीसीआर रिपोर्ट के निगेटिव आने के बाद जेल प्रशासन ने राहत की सांस ली है.

  • Share this:

बांदा: उत्तर प्रदेश की बांदा जेल (Banda Jail) में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी (Mafia Mukhtar Ansari) कोरोना निगेटिव (Corona Negative) हो गया है. उसकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट (RTPCR Report) में सैंपल निगेटिव पाया गया है. बता दें कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद से ही बाहुबली मुख्तार अंसारी के स्वास्थ्य पर जेल प्रशासन लगातार नजर बनाए हुए था. कोरोना की चपेट में आने के बाद मुख्तार को उसकी उसी बैरिक नंबर 16 में आइसोलेट किया गया था. संक्रमण के दौरान उसकी डाइट काफी कम हो गई थी और ब्‍लड शुगर लेवल भी बढ़ गया था. लेकिन ताजा आरटीपीसीआर रिपोर्ट में निगेटिव पाए जाने के बाद जेल प्रशासन ने राहत की सांस ली है.

बता दें बांदा जेल आने के कुछ दिन बाद तक बाहुबली माफिया मुख्तार अंसारी कोरोना संक्रमण की चपेट में नहीं था. जेल के अंदर उसको कैसे कोरोना हो गया, यह तो सोचने वाली बात है. बता दें कि पंजाब की रोपड़ जेल से जब मुख्तार अंसारी को यूपी की बांदा जेल भेजने की बात चल रही थी उस दौरान उसने कई बार उत्तर प्रदेश की जेलों में लौटने से मना किया था. यही नहीं, उसने कई बार कोर्ट में हवाला दिया था कि उसे यूपी में जान और स्वास्थ्य का खतरा है. उसकी तबीयत ठीक नहीं है.

Youtube Video

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी किया गया शिफ्ट
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद माफिया मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में शिफ्ट करने का आदेश दिया गया था. हालांकि पंजाब के रोपड़ से लौटने के बाद अंसारी को कोरोना संक्रमण नहीं था और बांदा जेल के अंदर दाखिल करने से पहले उसकी जांच भी जिला प्रशासन और जेल प्रशासन ने मिलकर कराई थी, लेकिन उस समय जेल अंदर दाखिल होने तक मुख्तार को कोई भी बीमारी का संक्रमण नहीं था. यही नहीं, मुख्तार अंसारी की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार और उत्तर प्रदेश जेल विभाग के डीजी खुद निगरानी कर रहे थे.

मुख्तार अंसारी की रिपोर्ट

mukhtar report
माफिया मुख्तार अंसारी की आरटीपीसीआर रिपोर्ट



इसके अलावा लखनऊ से मुख्तार अंसारी की बैरिक में और जेल के अंदर मौजूद सुरक्षाकर्मियों के बॉडी बॉल कैमरे लगाए गए, जिससे मुख्तार अंसारी के बैरिक में कोई जरूरी कर्मचारी के अलावा कोई दूसरा व्यक्ति नहीं जा सके. आखिरकार जब इतनी व्यवस्थाएं की गई तो मुख्तार अंसारी कोरोना संक्रमण की चपेट में कैसे आ गया?

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज