अपना शहर चुनें

States

महोबा व्यापारी सुसाइड केस: पुलिस ने कोर्ट में दाखिल की चार्जशीट, जानिए अब तक क्या हुई है जांच

महोबा के क्रशर व्यवसायी इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत मामले में चार्जशीट दाखिल
महोबा के क्रशर व्यवसायी इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत मामले में चार्जशीट दाखिल

लखनऊ (Lucknow) की एंटी करप्शन स्पेशल कोर्ट में पुलिस ने ये चार्जशीट दाखिल की है. मामले में कोर्ट अब 8 दिसंबर को चार्जशीट पर संज्ञान लेगी. मामले के विवेचक प्रयागराज के एसपी आशुतोष मिश्रा ने ये चार्जशीट दाखिल की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2020, 1:48 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के महोबा (Mahoba) में क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी (Businessman Indrakant Tripathi) की आत्महत्या (Suicide Case) मामले में पुलिस ने गंभीर धाराओं में चार्जशीट दाखिल कर दी है. मामले में 3 आरोपियों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने और भ्रष्टाचार में चार्जशीट दाखिल की गई है. इनमें सुरेश सोनी, ब्रह्मदत्त तिवारी और कबरई थाने के तत्कालीन एसओ देवेंद्र कुमार शुक्ला के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई है. वहीं तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार और सिपाही अरुण यादव के खिलाफ विवेचना जारी होने का ज़िक्र किया गया है.

लखनऊ की एंटी करप्शन स्पेशल कोर्ट में पुलिस ने ये चार्जशीट दाखिल की है. मामले में कोर्ट अब 8 दिसंबर को चार्जशीट पर संज्ञान लेगी. मामले के विवेचक प्रयागराज के एसपी आशुतोष मिश्रा ने ये चार्जशीट दाखिल की है. चार्जशीट के मुताबिक तत्कालीन एसपी महोबा मणिलाल पाटीदार ने इंद्रकांत से वसूली की. उन्होंने जून और जुलाई में 6-6 लाख रुपये वसूले. यही नहीं मणिलाल पाटीदार ने इंद्रकांत को जुए के झूठे मुकदमे में नोटिस जारी की थी. झूठे मुकदमे और वसूली से अवसादग्रस्त होकर इंद्रकांत की आत्महत्या का ज़िक्र चार्जशीट में किया गया है.

हाईकोर्ट खारिज कर चुका है पूर्व एसपी की जमानत याचिका



बता दें पिछले दिनों इलाहाबाद हाईकोर्ट से निलंबित महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार को बड़ा झटका लगा है. हाईकोर्ट ने सुनवाई के बाद आईपीएस अफसर मणिलाल पाटीदार की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी है. जस्टिस सुनीत कुमार की एकलपीठ ने मणिलाल पाटीदार के अधिवक्ता और राज्य सरकार की ओर से अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल व अपर शासकीय अधिवक्ता प्रथम आशुतोष कुमार संड की दलीलों को सुनकर ये आदेश दिया.
राज्य सरकार की ओर से कोर्ट को बताया गया कि भगोड़े आईपीएस अफसर मणिलाल पाटीदार पर 25 हजार का इनाम भी घोषित किया गया है और उसके खिलाफ एनबीडब्लू भी जारी है. कोर्ट ने महोबा के पूर्व एसपी के खिलाफ आरोपों को गम्भीर मानते हुए कहा है कि ऐसे में वह जमानत का हकदार नहीं है और कोर्ट ने जमानत अर्जी खारिज कर दी.

निलंबित एसपी के खिलाफ FIR भी है दर्ज

गौरतलब है कि महोबा के निलंबित एसपी म‌णिलाल पाटीदार के खिलाफ पीपी पांडेय इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के डायरेक्टर नितीश कुमार ने महोबा कोतवाली में एक एफआईआर दर्ज कराई है. इसमें महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार, तत्कालीन थानाध्यक्ष खरेला राजू सिंह और चरखारी के तत्कालीन इंस्पेक्टर राकेश कुमार सरोज पर मिलकर उसकी गाड़ियां नहीं चलने देने का आरोप है. एफआईआर में आरोप है कि उसकी कंपनी ट्रकों से गिट्टी सप्लाई का काम करती है और इस काम के लिए उससे दो लाख रुपये प्रतिमाह एसपी को देने की मांग की जा रही है. ऐसा न करने पर उसके दर्जनों ट्रक सीज कर दिए गए. जबकि ट्रकों के सभी कागजात सही थे और वे ओवरलोड भी नहीं थे.

इस मामले में खनन कारोबारी इंद्र कांत तिवारी ने एक वीडियो जारी कर महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार पर अपनी हत्या की आशंका जतायी थी. इसके दूसरे दिन ही संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लगने से इंद्रकांत तिवारी अपनी कार में मृत पाये गए थे. व्यापारी की मौत के बाद ये मामला हत्या में बदल गया है. इसके बाद ही गिरफ्तारी से बचने के लिए महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार फरार चल रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज