1000 करोड़ का है आम का कारोबार, Lockdown से प्रभावित हो सकता है इसका बिजनेस
Lucknow News in Hindi

1000 करोड़ का है आम का कारोबार, Lockdown से प्रभावित हो सकता है इसका बिजनेस
किसान सरकार से गुहार कर रहे हैं कि मंडियों को खोला जाए और ट्रांसपोर्टेशन शुरू किया जाए वरना किसानों के सामने बहुत विकराल समस्या पैदा हो जाएगी.

इस बार मलिहाबाद (Malihabad) के किसान (Farmer) बहुत परेशान हैं. पहले आंधी तूफान ने फसल को चौपट किया जो बचा आम था उसे मंडियों में बेचे जाने की उम्मीद थी लेकिन लॉकडाउन (Lockdown) के चलते हजारों करोड़ के आम के कारोबार के ठप होने की आशंका है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
लखनऊ. आम का फल पेड़ों पर लदा है, लेकिन किसान मायूस है. बे मौसम आंधी बारिश ने आम की आधी फसल को चौपट कर दिया है. लखनऊ (Lucknow) से सटा मलिहाबाद (Malihabad) दुनिया भर में अपनी आम की पैदावारी के लिए जाना जाता है उत्तर प्रदेश में आधे से ज्यादा आम की पैदावार इसी मलिहाबाद आम फल पट्टी क्षेत्र में होती है. इस बार फसल भी अच्छी थी क्योंकि लॉकडाउन (Lockdown) के चलते पर्यावरण साफ था, लेकिन यही लॉकडाउन अब किसानों के लिए काल बनता जा रहा है.

मंडियों तक आम पहुंचाया जाना संभव नहीं
असल में पेड़ों पर जो आम लगे हैं, अब उनके टूटने का समय आ गया है क्योंकि मई के अंतिम सप्ताह से आम पेड़ों से टूटना शुरू हो जाता है. इसके बाद इस आम को मंडियों तक पहुंचाया जाता है और फिर मंडी से आम आपके घरों तक पहुंचता है, लेकिन लॉकडाउन के चलते ट्रांसपोर्ट पूरी तरह से बंद है. सड़कों पर गाड़ियों की आवाजाही पूरी तरह से थमी हुई है. मंडियां बंद है, जहां पर आमों को पहुंचाया जा पाना मुमकिन नहीं है. इस बार मलिहाबाद के किसान बहुत परेशान हैं. किसान इस बात को कहते हैं कि पहले आंधी तूफान ने फसल को चौपट किया जो बचा खुचा आम था उसे मंडियों में बेचे जाने की उम्मीद थी लेकिन लॉकडाउन के चलते सब कुछ ठप है. इसके चलते पूरे उत्तर प्रदेश में हजारों करोड़ के आम के कारोबार के ठप होने की आशंका है किसान बताते हैं कि मलिहाबाद का आम दुबई से लेकर अमेरिका तक सप्लाई होता था, लेकिन अब सब कुछ बंद है

मंडियों को खोलने की गुहार लगा रहे हैं किसान



सरकारी मैंगो पैक हाउस पर ताला लगा हुआ है. किसानों के सामने बड़ी चिंता का विषय यह है कि जो आम डाल पर पक रहा है उसे मंडियों तक कैसे पहुंचाया जाए. किसान इस मजबूरी के हालत में आनन-फानन में औने-पौने दाम पर आम का सौदा करने को मजबूर है. अकेले मलिहाबाद इलाके में 100 से 200 करोड़ से ज्यादा के आम के कारोबार के प्रभावित होने की आशंका है. किसानों के सामने बड़ी विकट समस्या है. किसान सरकार से गुहार कर रहे हैं कि मंडियों को खोला जाए और ट्रांसपोर्टेशन शुरू किया जाए वरना किसानों के सामने बहुत विकराल समस्या पैदा हो जाएगी.



ये भी पढ़ें - 

कैबिनेट मंत्रियों की समिति ने UP में विदेशी निवेश आकर्षित के लिए बनाई रणनीति

संत शोभन सरकार की अंतिम यात्रा में जुटे हजारों, 4200 अनुयायियों पर केस दर्ज
First published: May 15, 2020, 4:34 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading