अखिलेश यादव सपा में करने जा रहे हैं बड़ा बदलाव, कई नेताओं की हो सकती है छुट्टी

सूत्रों के अनुसार समाजवादी पार्टी के संगठन में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है. ऊपर से लेकर निचले स्तर तक के पदाधिकारियों की छुट्टी हो सकती है. इनमें नॉन-परफ़ॉर्मर नेताओं पर गाज गिरना तय माना जा रहा है.

Amit Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 19, 2019, 5:14 PM IST
अखिलेश यादव सपा में करने जा रहे हैं बड़ा बदलाव, कई नेताओं की हो सकती है छुट्टी
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पार्टी संगठन में कर सकते हैं बड़ा फेरबदल
Amit Tiwari
Amit Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 19, 2019, 5:14 PM IST
लोकसभा चुनाव परिणाम आने के करीब ढाई महीने बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) में बड़े फेरबदल के संकेत मिल रहे हैं. सूत्रों के हवाले से मिल रही खबर के मुताबिक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर संगठन में बड़े पैमाने पर फेरबदल करने की तैयारी में हैं. इतना ही नहीं समाजवादी पार्टी जल्द ही प्रवक्ताओं के नाम की घोषणा भी कर सकती है.

सूत्रों के अनुसार. समाजवादी पार्टी के संगठन में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है. ऊपर से लेकर नीचले स्तर तक के पदाधिकारियों की छुट्टी हो सकती है. इनमें नॉन परफ़ॉर्मर नेताओं पर गाज गिरना तय माना जा रहा है.

लोकसभा चुनाव में सिर्फ पांच सीटों पर मिली थी जीत
गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में बसपा के साथ गठबंधन के बावजूद सपा को अपेक्षाकृत सफलता नहीं मिली थी. पार्टी महज पांच सीटें ही जितने में कामयाब रही थी, जबकि यादव परिवार के तीन सदस्य को हार का सामना करना पड़ा था. यादव परिवार से पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और संरक्षक मुलायम सिंह यादव ही जीत सके थे.

लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि अखिलेश यादव संगठन में बड़ा बदलाव कर सकते हैं. हालांकि उनकी ख़ामोशी और किसी भी तरह का एक्शन न लिए जाने पर भी सवाल उठ रहे थे. फिलहाल अब कहा जा रहा है कि आने वाले दिनों में समाजवादी पार्टी में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है.

मीडिया पैनल को कर दिया था भंग
लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद सपा ने अपने सभी मीडिया पैनालिस्ट को न्यूज़ चैनलों पर जाने से रोक लगा दी था. खबर है कि अब नए सिरे से प्रवक्ताओं की लिस्ट जारी की जाएगी, जो कि पार्टी का पक्ष रख सकेंगे.
Loading...

उपचुनाव है पहली परीक्षा
लोकसभा चुनाव के बाद नवम्बर में होने वाले 13 सीटों पर उपचुनाव समाजवादी पार्टी व अखिलेश के लिए पहली परीक्षा मानी जा रही है. बीजेपी के अलावा बसपा के भी मैदान में उतरने से सपा की मुश्किलें बढ़ गई है. अब उसे सत्तारूढ़ बीजेपी के साथ ही गठबंधन तोड़ चुकी बसपा से भी चुनौती मिल रही है.

जिन 13 सीटों पर चुनाव होने हैं उसमें से रामपुर सीट सपा के खाते में थी. लिहाजा इस सीट को बचाने के अलावा अधिक से अधिक सीट जीतना भी एक चुनौती है. ऐसे में देखना दिलचस्प होता है कि अखिलेश किस तरह से जातिगत समीकरणों को साधते हैं.

(इनपुट: अलाउद्दीन अयूब)

ये भी पढ़ें:

लम्भुआ कांड: छात्रा से छेड़छाड़ व हत्या मामले में पांच पुलिसकर्मी सस्पेंड

एक ही दिन में 6 हत्याओं से दहला प्रयागराज, कानून-व्यवस्था बेपटरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 4:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...