होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /मायावती-अखिलेश कल कर सकते हैं गठबंधन का ऐलान, बुलाई प्रेस कॉन्फ्रेंस

मायावती-अखिलेश कल कर सकते हैं गठबंधन का ऐलान, बुलाई प्रेस कॉन्फ्रेंस

मायावती और अखिलेश यादव

मायावती और अखिलेश यादव

बसपा सुप्रीमो मायावती गुरुवार की शाम लखनऊ पहुंच गई हैं. वह पूरी तरह से चुनावी मूड में दिखाईं दे रही हैं. आने के तुरंत ब ...अधिक पढ़ें

    यूपी की राजनीति में 12 जनवरी की तारीख एक नया अध्याय लिखने वाली है. जिसकी गूंज पूरे देश में सुनाई पड़ सकती है. इसी दिन समाजवादी पार्टी और बीएसपी के बीच गठबंधन का ऐलान हो सकता है. बीएसपी सुप्रीमो और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को एक निजी होटल में 12 बजे दोपहर में संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई है. बताया जा रहा है कि संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गठबंधन का ऐलान हो सकता है.

    यूपी में गठबंधन को विस्तार देने की तैयारी में बीजेपी, गुपचुप ढंग से चल रहा काम

    बता दें कि लोकसभा चुनाव में उत्‍तर प्रदेश में मिलकर लड़ने पर सपा और बसपा में सहमति बन गई है. सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती ने गठबंधन के तहत सीटों के बंटवारे को मंजूरी भी दे दी है. सूत्रों ने बताया कि मायावती के दिल्ली के त्यागराज मार्ग पर स्थित घर पर अखिलेश के साथ बैठक हुई थी. बैठक के दौरान सपा और बसपा सुप्रीमो के बीच गठबंधन पर मुहर लगाने के साथ ही सीटों की संख्‍या को भी मंजूरी दे दी.

    खनन घोटाला: CBI रेड पर बोले अखिलेश यादव, 'बीजेपी ने अपना रंग दिखा दिया'

    सूत्रों के हवाले से खबर है कि सपा और बसपा 37-37 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े करेंगे. दो सीटें राष्ट्रीय लोकदल के लिए (संभावित रूप से अजीत सिंह और जयंत चौधरी) के लिए छोड़ी जाएगी. दो सीटें महागठबंधन के अन्य साथियों (संभावित रूप से ओमप्रकाश राजभर की पार्टी) के लिए छोड़ी जाएंगी. साथ ही अगर कांग्रेस साथ आती है तो उसे दो सीटें दी जाएंगी. इसके तहत राहुल गांधी के लिए अमेठी और सोनिया गांधी के लिए रायबरेली सीट छोड़ी जाएंगी. अन्य सीटों पर सपा और बसपा गठबंधन अपने उम्मीदवार उतारेंगे.

    निमंत्रण पत्र


    सूत्रों ने बताया कि अन्य साथियों के महागठबंधन में नहीं जुड़ने की स्थिति में 1-1 सीटें सपा और बसपा आपस में बांट लेंगी. कांग्रेस पार्टी को फिलहाल दो से ज्यादा सीटें देने से दोनों नेताओं ने इनकार कर दिया है. माना जा रहा है कि सपा-बसपा के साथ रालोद का जुड़ना तय है. हालांकि कांग्रेस पर संशय बना हुआ है. जानकारी के अनुसार, कांग्रेस सीटें बढ़ाने की मांग कर रही है लेकिन दोनों दल इस पर राजी नहीं है. मायावती कांग्रेस को ज्‍यादा भाव नहीं दे रही हैं.

    गठबंधन में सीटों पर रार: जानकार बोले- बारगेनिंग में माहिर अजीत सिंह के पास विकल्प का अभाव

    मायावती गुरुवार की शाम लखनऊ पहुंच गई हैं. वह पूरी तरह से चुनावी मूड में दिखाई दे रही हैं. आने के तुरंत बाद भाईचारा कमेटी की बैठक ली. उन्होंने कहा कि लोकसभा पर चुनाव की तैयारियों में अभी से जुट जाएं. इसके बाद पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से भी मुलाकात की. बताया जा रहा है कि वह इस बार सिर्फ चार दिनों तक लखनऊ में रहेंगी और 15 को जन्मदिन मनाने के बाद अपराह्न दिल्ली चली जाएंगी.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

    ये भी पढ़ें:

    लोकसभा चुनाव: यूपी में सवर्ण आरक्षण को भुनाने के लिए BJP ने कसी कमर, बनाया ये प्लान!

    सुर्खियां: IAS बी चंद्रकला के साथ इन नेताओं की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, गठबंधन पर जल्द हो सकता है ऐलान

    मिशन 2019 के बाद हम बनेंगे किंगमेकर, मुलायम सिंह यादव को देंगे प्रसपा का टिकट: शिवपाल

    अक्षयवट का दर्शन कर CM योगी बोले- पिछले 50 सालों में इस बार कुंभ में है सबसे अच्छा जल

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: Akhilesh yadav, Ayodhya, BJP, Mayawati, RSS, Samajwadi party, UP police, Uttar pradesh news, Uttar Pradesh Politics, VHP, Yogi adityanath

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें