मायावती का SC में जवाब- भगवान राम की मूर्ति बन सकती है तो मेरी क्यों नहीं?

SC में जवाब देते वक्त भावुक हुईं मायावती ने लिखा कि 'मैंने शादी नहीं की और सारा जीवन दलितों को समर्पित किया'

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 3, 2019, 9:14 AM IST
मायावती का SC में जवाब- भगवान राम की मूर्ति बन सकती है तो मेरी क्यों नहीं?
मायावती ने भगवान राम की प्रतिमा को लेकर दिया जवाब
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 3, 2019, 9:14 AM IST
उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तर प्रदेश में अपनी और हाथी की मूर्तियां बनाने के फैसले का बचाव करते हुए सुप्रीम कोर्ट में जवाब दायर किया है. मायावती ने कोर्ट के नोटिस का जवाब देते हुए मंगलवार को कहा कि अगर भगवान राम की मूर्ति बन सकती है तो मेरी क्यों नहीं? आगे उन्होंने कहा कि अगर अयोध्या में भगवान राम की 221 मीटर की प्रतिमा बननी प्रस्तावित हो सकती है तो मैं अपनी मूर्ति क्यों नहीं बनवा सकती हूं.

मायावती ने सुप्रीम कोर्ट के नोटिस के जवाब में लिखा 'ये कोई नई बात नहीं है. कांग्रेस के वक्त में भी केंद्र और राज्य सरकारों ने जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, नरसिम्हा राव जैसे नेताओं की जनता के पैसों से मूर्तियां स्थापित की गईं थी. पर तब तो किसी ने भी इसपर आपत्ति दर्ज नहीं कराई थी ना किसी ने प्रश्न पूछा. इसके साथ ही मायावती ने गुजरात में 182 मीटर उंचे और 3000 करोड़ की लागत से बनी सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति पर भी सवाल खड़े किए.

मैंने शादी नहीं की और सारा जीवन दलितों को समर्पित किया
मायावती ने जवाब
देते वक्त थोड़ी भावुक भी हुई. उन्होंने अपने जवाब में आगे लिखा कि, 'मैंने अपना सारा जीवन पिछड़े और दबे कुचले लोगों को मुख्यधारा में लाने के लिए अर्पित कर दिया है. अपने समर्पण की ही वजह से मैंने तय किया कि मैं विवाह नहीं करूंगी. जनता की उम्मीदें पूरी करने के लिए ही मैंने ये स्मारक बनवाए हैं.'

अखिलेश ने CM योगी पर कसा तंज, कहा- हनुमानजी की जाति बताने वालों से नाराज हैं भगवान

कांशीराम को मिले भारत रत्न
बसपा सुप्रीमो ने कोर्ट को दिए जवाब में अपने चार बार के शासन में वंचित वर्ग के लिए किए गए कामों का का ज़िक्र करते हुए बताया कि जब-जब मैं उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रही, मैंने पिछड़ों के लिए कई अहम योजनाएं चलाईं. उन्होंने कहा कि गरीब, पिछड़े और वंचित वर्ग की जनता ने कांशीराम से ये इच्छा जताई थी, जनता चाहती है कि कांशीराम को मरणोपरांत भारत रत्न मिले. मायावती ने तमाम स्मारकों और मूर्तियों के निर्माण की वजह जनता की इच्छा को बताया है.आजम खान की मुश्किलें बढ़ीं, जन्म प्रमाणपत्र मामले में पुलिस ने दायर की चार्जशीट
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार