होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

मायावती का SC में जवाब- भगवान राम की मूर्ति बन सकती है तो मेरी क्यों नहीं?

मायावती का SC में जवाब- भगवान राम की मूर्ति बन सकती है तो मेरी क्यों नहीं?

मायावती ने भगवान राम की प्रतिमा को लेकर दिया जवाब

मायावती ने भगवान राम की प्रतिमा को लेकर दिया जवाब

SC में जवाब देते वक्त भावुक हुईं मायावती ने लिखा कि 'मैंने शादी नहीं की और सारा जीवन दलितों को समर्पित किया'

    उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तर प्रदेश में अपनी और हाथी की मूर्तियां बनाने के फैसले का बचाव करते हुए सुप्रीम कोर्ट में जवाब दायर किया है. मायावती ने कोर्ट के नोटिस का जवाब देते हुए मंगलवार को कहा कि अगर भगवान राम की मूर्ति बन सकती है तो मेरी क्यों नहीं? आगे उन्होंने कहा कि अगर अयोध्या में भगवान राम की 221 मीटर की प्रतिमा बननी प्रस्तावित हो सकती है तो मैं अपनी मूर्ति क्यों नहीं बनवा सकती हूं.

    मायावती ने सुप्रीम कोर्ट के नोटिस के जवाब में लिखा 'ये कोई नई बात नहीं है. कांग्रेस के वक्त में भी केंद्र और राज्य सरकारों ने जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, नरसिम्हा राव जैसे नेताओं की जनता के पैसों से मूर्तियां स्थापित की गईं थी. पर तब तो किसी ने भी इसपर आपत्ति दर्ज नहीं कराई थी ना किसी ने प्रश्न पूछा. इसके साथ ही मायावती ने गुजरात में 182 मीटर उंचे और 3000 करोड़ की लागत से बनी सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति पर भी सवाल खड़े किए.

    मैंने शादी नहीं की और सारा जीवन दलितों को समर्पित किया
    मायावती ने जवाब
    देते वक्त थोड़ी भावुक भी हुई. उन्होंने अपने जवाब में आगे लिखा कि, 'मैंने अपना सारा जीवन पिछड़े और दबे कुचले लोगों को मुख्यधारा में लाने के लिए अर्पित कर दिया है. अपने समर्पण की ही वजह से मैंने तय किया कि मैं विवाह नहीं करूंगी. जनता की उम्मीदें पूरी करने के लिए ही मैंने ये स्मारक बनवाए हैं.'

    अखिलेश ने CM योगी पर कसा तंज, कहा- हनुमानजी की जाति बताने वालों से नाराज हैं भगवान

    कांशीराम को मिले भारत रत्न
    बसपा सुप्रीमो ने कोर्ट को दिए जवाब में अपने चार बार के शासन में वंचित वर्ग के लिए किए गए कामों का का ज़िक्र करते हुए बताया कि जब-जब मैं उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रही, मैंने पिछड़ों के लिए कई अहम योजनाएं चलाईं. उन्होंने कहा कि गरीब, पिछड़े और वंचित वर्ग की जनता ने कांशीराम से ये इच्छा जताई थी, जनता चाहती है कि कांशीराम को मरणोपरांत भारत रत्न मिले. मायावती ने तमाम स्मारकों और मूर्तियों के निर्माण की वजह जनता की इच्छा को बताया है.

    आजम खान की मुश्किलें बढ़ीं, जन्म प्रमाणपत्र मामले में पुलिस ने दायर की चार्जशीट

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: Ayodhya Mandir, BSP, Lord rama, Lucknow news, Mayawati, Supreme Court

    अगली ख़बर