Home /News /uttar-pradesh /

आरक्षण मुद्दे पर मायावती का अमित शाह पर हमला, कहा- गुमराह न करें

आरक्षण मुद्दे पर मायावती का अमित शाह पर हमला, कहा- गुमराह न करें

बहुजन समाज पार्टी ने आरक्षण मुद्दे पर भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह लोगों को गुमराह कर रही है.

बहुजन समाज पार्टी ने आरक्षण मुद्दे पर भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह लोगों को गुमराह कर रही है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने बीजेपी पर आरक्षण-विरोधी मानसिकता के तहत काम करने का आरोप लगाया है.

उन्होंने कहा कि बसपा दलितों, आदिवासियों व अन्य पिछड़े वर्गों को मिलने वाले लगभग 50 प्रतिशत की आरक्षण में किसी भी प्रकार की कमी व कटौती या छेड़छाड़ के सख्त खिलाफ है.

मायावती ने सोमवार को बयान जारी कर कहा कि वह चाहती है कि इसमें कोई बदलाव किए बिना अपरकास्ट समाज व अल्पसंख्यक समाज के गरीबों को भी आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाए.

इससे पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने नेटवर्क 18 से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा था कि वह धार्मिक आधार पर आरक्षण के खिलाफ हैं.  मायावती ने कहा कि शैक्षणिक, सामाजिक व आर्थिक पिछडे़पन के आधार पर दलितों, आदिवासियों व अन्य पिछड़ों को आरक्षण दिये जाने की व्यवस्था संविधान में प्रावधान के तहत देश में लागू है.

लेकिन आजादी के बाद से ही विभिन्न विरोधी पार्टियों खासकर कांग्रेस व बीजेपी की सरकारों की गलत नीयत, नीति व गलत कार्यप्रणाली के कारण अपरकास्ट व अल्पसंख्यक समाज के लोगों में गरीबी काफी बढ़ी है. इसलिए उन्हें उनकी गरीबी के आधार पर न कि उनकी जाति व धर्म के आधार पर आरक्षण की अलग से व्यवस्था किये जाने की जरूरत है.

मायावती ने कहा कि इन वर्गों को आरक्षण दिये जाने के लिये संविधान में संशोधन कर आरक्षण के कोटे को बढ़ाया जा सकता है. यह बात बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को भी अवश्य ही मालूम होनी चाहिये, लेकिन वे जानबूझकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं.

मायावती ने स्पष्ट किया कि बसपा वर्तमान आरक्षण आरक्षण व्यवस्था में किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ व इसमें कमी व कटौती करने के पूरी तरह खिलाफ है. वह इसमें किसी प्रकार का बदलाव व कमी एवं कटौती को किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं करेगी.

उन्होंने कहा कि भाजपा के शीर्ष और आरएसएस को आरक्षण की संवैधानिक व्यवस्था व सामाजिक परिवर्तन के मामले में अपना नजरिया व मानसिकता बदलकर देशहित में सही दृष्टिकोण अपनाने की जरूरत है.

उन्हें सुधार के लिए सरकारी भर्तियां समय पर करनी होंगी, नौकरियों में खाली पदों को भरना होगा, सरकारी योजनाओं को अन्धाधुन्ध प्राइवेट सेक्टर में देकर आरक्षण को निष्क्रिय व निष्प्रभावी बनाने की भी नीतियों में सुधार करना होगा. यही नहीं पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था को फिर से प्रभावी बनाने के लिये संविधान संशोधन विधेयक को लोकसभा में पारित कराना भी सुनिश्चित करना होगा.

Tags: Amit shah, BJP, BSP, Mayawati, RSS, लखनऊ

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर