चंद्रयान 2 पर बोलीं मायावती- निराश कतई न हों, ISRO की सफलता गर्व करने लायक

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 7, 2019, 10:34 AM IST
चंद्रयान 2 पर बोलीं मायावती- निराश कतई न हों, ISRO की सफलता गर्व करने लायक
बीएसपी प्रमुख ने कहा है कि इसरो की सफलता गर्व करने लायक है. (फाइल फोटो)

बीएसपी (BSP) प्रमुख ने कहा है कि Chandrayaan 2 ने समस्त जनमानस को रोमांचित किया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि ISRO के वैज्ञानिकों की सराहना की जानी चाहिए और आगे बढ़ते रहने के लिए यह जरूरी है कि निराशा, हताशा वह दुखी कतई न हों.

  • Share this:
लखनऊ: चांद की सतह से महज 2.1 किलोमीटर की दूरी पर चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) के लैंडर विक्रम (Lander Vikram) से इसरो (ISRO) का संपर्क टूट गया. इस पर बहुजन समाज पार्टी (BSP) की सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने ट्वीट कर इसको वैज्ञानिकों की हौसला अफजाई की है. बीएसपी प्रमुख ने कहा है कि इस मिशन ने समस्त जनमानस को रोमांचित किया है. उन्होंने कहा है कि इसरो के वैज्ञानिकों की सराहना की जानी चाहिए और आगे बढ़ते रहने के लिए यह जरूरी है कि निराशा, हताशा वह दुखी कतई न हों.

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने चंद्रयादन-2 मिशन पर दो ट्वीट किया है. अपने पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'चांद पर कदम रखने के लिए चंद्रयान-2 मिशन ने समस्त भारतीय जनमानस को रोमांचित किया है. इस संबंध में भारतीय वैज्ञानिकों खासकर 'इसरो' के वैज्ञानिकों ने अबतक जो भी सफलता प्राप्त की है वो गर्व करने लायक है और उसकी सराहना की जानी चाहिए.'



वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाते रहने की जरूरत
Loading...

अपने दूसरे ट्वीट में मायावती ने इसरो के वैज्ञानिकों की हौसला अफजाई करते हुए शायरी के माध्यम से अपनी बात रखी है. उन्होंने लिखा, 'साथ ही, आगे बढ़ते रहने के लिए यह जरूरी है कि निराशा, हताशा और दुःखी कतई न हों और यह भी याद रहे कि 'गिरते हैं शहसवार मैदान-ए-जंग में, वह तिफ्ल (बच्चा) क्या गिरे जो घुटनों के बल चले.' वैज्ञनिकों को देशहित में काम करते रहने के लिए उनके हौसले बढ़ाते रहने की जरूरत है.'

पीएम मोदी बोले- चांद को छूने की इच्छाशक्ति बढ़ी है
बता दें कि मिशन चंद्रयान-2 का लैंडर विक्रम सात सितंबर को चांद की सतह पर उतरने वाला था. लेकिन चंद्रमा की सतह से मात्र 2.1 किलो मीटर पहले ही उसका संपर्क इसरो के वैज्ञानिकों से टूट गया. तमाम कोशिशों के बाद भी अबतक संपर्क नहीं हो पाया है. इसके बाद शनिवार सुबह इसरो के वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी हौसला अफजाई की और कहा कि मैंने प्रेरणा के लिए आपलोगों के दर्शन किए. आप लोग पत्थर पर लकीर खींचने वाले हो. पूरा देश आपके साथ है. हमारा हौसला मजबूत हुआ है और चांद को छूने की इच्छाशक्ति बढ़ी है.

ये भी पढ़ें-

चंद्रयान-2 से संपर्क टूटने के बाद रो पड़े ISRO के चीफ, PM मोदी ने गले लगाकर बढ़ाया हौसला, देखें वीडियो

चंद्रयान-2 से संपर्क टूटने पर पाकिस्तानी मंत्री ने की यह बेहूदा टिप्पणी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 10:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...