Mission Paani: सीएम योगी बोले- आजादी के बाद पहली बार पीएम मोदी ने जल संचयन पर शुरू किया काम

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 27, 2019, 3:54 PM IST
Mission Paani: सीएम योगी बोले- आजादी के बाद पहली बार पीएम मोदी ने जल संचयन पर शुरू किया काम
मिशन पानी अभियान में न्यूज 18 से बात करते सीएम योगी आदित्यनाथ.

'मिशन पानी'(Mission Paani) कैंपेन के क्रम में न्यूज़18 से बात करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा, "मेरा ये मानना है कि प्लास्टिक के खिलाफ अभियान, जल संचयन और व्यापक वृक्षारोपण का कार्यक्रम ये एक साथ जुड़े हुए हैं. हम मानते हैं कि वन हैं तो जल है और जल है तो कल है."

  • Share this:
नीति आयोग (NITI Aayog) की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के 21 शहरों में 2020 तक भूजल (Groundwater) खत्म हो जाएगा. जल संकट की भयावहता को देखते हुए News 18 और हार्पिक (Harpic) काफी समय से 'मिशन पानी'(Mission Paani) नाम से कैंपेन चला रहे हैं. इसी अभियान के तहत न्यूज 18 ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात की.

न्यूज 18 से बात करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारी सरकार ने प्रदेश में रेन वाटर हार्वेस्टिंग पर काफी काम किया है. आने वाले दिनों में इस पर और भी मेहनत की जाएगी. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मिशन पानी के लिए वह न्यूज 18 नेटवर्क को धन्यवाद देते हैं और आभार व्यक्त करते हैं. सीएम योगी ने कहा कि स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जी ने कहा था कि तीसरा विश्वयुद्ध अगर लड़ा जाएगा तो जल के मुद्दे पर लड़ा जाएगा.

'जल शक्ति मंत्रालय वाला पहला प्रदेश बना यूपी'
सीएम ने कहा कि मुझे लगता है कि इससे पहले कि व्यापक जनसंहार हो, इससे पहले हमें संरक्षण की दिशा में आगे जाना चाहिए. आज सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने इस दिशा में शुरुआत कर दी और ये कार्रवाई युद्धस्तर पर प्रारंभ भी हो चुकी है. सीएम योगी ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार जल से जुड़े सभी विभागों को एकीकृत करके जल शक्ति मंत्रालय भारत सरकार ने गठित किया है. उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य है, जिसने अपने यहां जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया है और हमने अपने एक योग्य मंत्री को उसका दायित्व दे दिया है. एक कार्ययोजना उनके सामने प्रस्तुत करके, एक टाइम फ्रेम उनके सामने प्रस्तुत करके उनसे इसे आगे बढ़ाने को कह दिया है. तो यह कार्रवाई हमारे यहां प्रारंभ हो चुकी है.

वन हैं तो जल है और जल है तो कल है- सीएम योगी
सीएम योगी ने कहा कि यह जल संचयन, जल शक्ति का कार्यक्रम जीवन को बचाने का कार्यक्रम है. मेरा ये मानना है कि प्लास्टिक के खिलाफ अभियान, जल संचयन और साथ ही व्यापक वृक्षारोपण का कार्यक्रम ये एक साथ जुड़े हुए हैं. हम मानते हैं कि वन हैं तो जल है और जल है तो कल है. इन्हें एक-दूसरे से अलग नहीं किया जा सकता. सीएम ने आगे कहा कि मुझे लगता है कि कोई भी आंदोलन, अभियान तब तक सफल नहीं हो सकता है, जब तक उसमें जनसहभागिता न हो. मैं धन्यवाद दूंगा कि न्यूज 18 जिनका इतना बड़ा दर्शक वर्ग है वे ये अभियान चला रहे हैं. दर्शक अगर इस अभियान के साथ जुड़ते हैं तो वो एक जन आंदोलन का रूप ले लेगा और उसकी सफलता में कोई संदेह नहीं होना चाहिए. मैं कहना चाहूंगा कि न्यूज 18 के इस जल संचयन कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश सरकार हर तरह का सहयोग करने को तैयार है.

ये भी पढ़ेंं:
Loading...

मिशन पानी: सदगुरु ने कावेरी बेसिन का मुद्दा उठाया
पानी बचाना सिर्फ सरकार की नहीं, हम सबकी जिम्मेदारी: बिग बी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 3:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...