बच्चा चोरी की अफवाह में UP के कई शहरों में भीड़ का तांडव, 22 जिलों में दर्जनों मामले आए सामने

Ajayendra Rajan | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 29, 2019, 2:08 PM IST
बच्चा चोरी की अफवाह में UP के कई शहरों में भीड़ का तांडव, 22 जिलों में दर्जनों मामले आए सामने
यूपी में बच्चा चोरी की अफवाहों के कारण कई शहरों में भीड़ हिंसा के मामले सामने आए हैं.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कई शहरों में बच्चा चोरी की अफवाह (Child Lifting Rumours) फैल रही है और भीड़ बिना सच जाने हमला कर दे रही है. संभल, हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, रायबरेली, बरेली, जौनपुर और गोरखपुर जैसे शहरों में उन्‍मादी भीड़ का खूनी चेहरा सामने आ चुका है.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के संभल के चंदौसी (Sambhal) में कुढ़ फतेहगढ़ थाना क्षेत्र के छाबड़ा गांव निवासी त्रिलोकी के सात वर्षीय बेटे रवि को सुबह 10 बजे उल्टी-दस्त शुरू हो गए. स्थानीय डॉक्टर से दवा लेने पर भी बच्चे की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ तो त्रिलोकी के दो भाई रामौतार और राजू भतीजे रवि को बाइक पर बैठाकर चंदौसी के अस्पताल के लिए निकल पड़े. दोपहर एक बजे जब दोनों भाई भतीजे को लेकर असालातपुर जरई गांव से गुजर रहे थे तो वहां मौजूद ग्रामीणों की नजर उन पर पड़ी. पेट दर्द से चीख रहे बच्चे को देखकर ग्रामीणों को लगा कि उसे जबरन उठा कर ले जाया जा रहा है. रामौतार और राजू को बच्चा चोर समझकर ग्रामीण ने शोर मचाना शुरू कर दिया. आनन-फानन में करीब 300 लोगों की भीड़ मौके पर इकठ्ठा हो गई. इसके बाद दोनों भाइयों को बिना पूछताछ के ही लाठी-डंडों से पीटना शुरू कर दिया. दोनों को बेरहमी से पीटा गया. दोनों गुहार लगाते रहे कि बच्चा उनका भतीजा है, लेकिन किसी ने उनकी एक न सुनी. इसके बाद पुलिस पहुंची और घायलों को अस्पताल भेजा, लेकिन रास्ते में राजू ने दम तोड़ दिया, रामौतार जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहा है.

यह सिर्फ एक मामला नहीं है. आज बुधवार को ही फतेहपुर के गाजीपुर थाना क्षेत्र के खेसहन गांव में ग्रामीणों ने स्वास्थ्यकर्मियों को बच्चा चोर समझकर पीटना शुरू कर दिया. सूचना पाकर मौके पर स्वास्थ्यकर्मियों को बचाने पहुंची पुलिस टीम पर भी ग्रामीणों ने पथराव और फायरिंग कर दी. इस हमले में तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं, जबकि पुलिस वाहन को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया.



उत्तर प्रदेश के कई शहरों में बच्चा चोरी की अफवाह फैल रही है और उन्‍मादी भीड़ बिना सच जाने हमला कर दे रही है. जानकारी के अनुसार, यूपी के करीब 22 जिलों में इस तरह के मामले सामने आ चुके हैं. हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, रायबरेली, बरेली, जौनपुर और गोरखपुर से भी बच्चा चोरी के शक में भीड़तंत्र का कहर देखने को मिला है.

संभल और हापुड़ में दिव्यांग को भी भीड़ ने नहीं बख्शा 

संभल से पहले मुरादाबाद मंडल के गजरौला में भी एक मानसिक रूप से विक्षिप्त शख्स को बच्चा चोर गिरोह का सरगना समझकर लोगों ने पीट दिया. पुलिस ने किसी तरह उसे बचाया. वहीं शामली में भी बच्चा चोर समझकर भीड़ ने पांच महिलाओं को बुरी तरह पीटा. किसी तरह पुलिस ने सभी को बचाया. इसी तरह हापुड़ में मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला को बच्चा चोरी के आरोप में भीड़ ने पीट दिया. पिटाई का ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. वहीं रायबरेली में कार सवार दो युवाओं पर बच्चा चोरी के आरोप में भीड़ ने हमला कर दिया. उनकी कार तोड़ दी गई. पुलिस ने उन्हें किसी तरह से बचाया. इसी तरह जौनपुर के शाहगंज के कोपा गांव में तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया. इन्होंने बच्चा चोरी का आरोप लगाकर एक महिला की पिटाई की और पूरे गांव में घुमाया.

बरेली में युवक की खंभे से बांधकर बेरहमी से पिटाई
Loading...

कुछ दिन पहले ही यूपी के झांसी में दिमरौनी गांव में भीड़ ने मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला पर हमला कर दिया. वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद हड़कंप मचा. झांसी में ही मऊरानीपुर में एक मानसिक रूप से विक्षिप्त युवक को भीड़ ने बच्चा चोर मानते हुए बेरहमी से पीट दिया. इसी तरह बरेली में एक युवक को बच्चा चोरी के आरोप में गुस्साई भीड़ ने बुरी तरह पीटा गया. पुलिस के पहुंचने तक युवक को खंभे से बांधकर जमकर पिटाई की गई.

पुलिस कर रही अपील

ऐसा नहीं है कि पुलिस ऐसे मामलों से अनभिज्ञ है लेकिन उसके कोशिशें नाकाफी ही साबित हो रही हैं. पुलिस के मुताबिक, कई शहरों में हो रही घटना अफसोसजनक है. सभी मामलों में बच्चा चोरी की बात गलत निकली है. मेरठ रेंज के आईजी के ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर इन अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की गई है. संभल के पुलिस अधीक्षक ने भी लोगों से अपील की है कि बच्चा चोरी के शक में कानून को अपने हाथ में न लें. किसी पर शक होने पर पुलिस को सूचना दें. पुलिस के मुताबिक, ये अफवाह सोशल मीडिया से फैलाई जा रही है.

उधर इसी तरह के एक अन्य मामले में कानपुर देहात पुलिस ने जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को ऐसी अफवाहों से बचने की अपील की है. बरेली के एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय ने बरेली की जनता के लिए अपील जारी की कि किसी भी तरह की भीड़ हिंसा में शामिल न हों.

अफवाह फैलाने वाले 40 से ज्यादा हिरासत में 

सिर्फ अगस्त महीने की बात करें तो दर्जनों मामले में पूरे प्रदेश के अलग-अलग जिलों से आ चुके हैं. जानकारी के अनुसार इन मामलों में करीब 40 लोगों को अफवाह फैलाने के आरोप में हिरासत में लिया गया है. मामले में आईजी कानून व्यवस्था प्रवीण कुमार कहते हैं कि सोशल मीडिया के माध्यम से इस तरह की बच्चा चोरी की अफवाहों को फैलाया जा रहा है. हमें कई शिकायतें मिली हैं, अभी तक तीन दर्जन से ज्यादा लोगों के खिलाफ शिकायत के आधार पर कार्रवाई की गई है. मामले में लोगों को ऐसी अफवाहों के प्रति जागरूक किया जा रहा है और अफवाह फैलाने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जा रही है.

ये भी पढ़ें:

UP: बच्चा चोरी के शक में जारी है भीड़तंत्र का कहर, संभल में शख्‍स की पीट-पीटकर हत्या

बच्चा चोरी की अफवाह पर भीड़ हिंसा को लेकर मायावती का Tweet

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 28, 2019, 1:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...