फोन बाहर रखवाकर CM योगी ने की अधिकारियों के साथ बैठक

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ लॉ एंड ऑर्डर पर हुई बैठक के दौरान अधिकारियों के फोन बाहर ही रखवा लिए गए.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 12, 2019, 2:54 PM IST
फोन बाहर रखवाकर CM योगी ने की अधिकारियों के साथ बैठक
बैठक के पहले ही सभी अधिकारियों के मोबाइल ले लिए गए और उनके नाम की पर्ची मोबाइलों पर लगा दी गई.
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 12, 2019, 2:54 PM IST
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ लॉ एंड ऑर्डर पर हुई बैठक के दौरान अधिकारियों के फोन बाहर ही रखवा लिए गए. बैठक के पहले ही सभी अधिकारियों के मोबाइल ले लिए गए और उनके नाम की पर्ची मोबाइलों पर लगा दी गई. ये मीटिंग सीएम ने प्रदेश की कानून व्यवस्था के रिव्यू के लिए ली है. यूपी में कानून-व्यवस्था पर लगातार उठते सवालों के बीच सीएम योगी की ये बैठक महत्वपूर्ण बताई जा रही है.

मंत्रियों पर भी पाबंदी



इस महीने की शुरुआत में योगी आदित्यनाथ ने कैबिनेट बैठकों के दौरान मंत्रियों के मोबाइल फोन लाने पर पाबंदी लगा दी थी. बताया जा रहा है कि योगी सरकार ने इलेक्‍ट्रॉनिक उपकरणों की हैकिंग और जासूसी के खतरे को देखते हुए ये फैसला लिया है. इससे पहले मंत्रियों को माबाइल फोन लाने की अनुमति थी. हालांकि, उसे स्विच ऑफ करने या साइलेंट मोड पर रखना होता था.


Loading...

जानकारी के मुताबिक, मंत्रियों को दिए आदेश में कहा गया है कि अब कैबिनेट बैठक के दौरान मंत्रियों को अपना मोबाइल फोन बाहर जमा कराना होगा. सीएम योगी आदित्यनाथ चाहते हैं कि मंत्रिमंडल की बैठकों में होने वाली चर्चा पूरी गंभीरता व बिना किसी व्यवधान के हो. मंत्रिमंडल के सदस्यों के बीच यदाकदा मोबाइल फोन अचानक बजने से बैठक में दिक्कतें आती हैं. यही नहीं बैठक के वक्त फोन पर आने वाले मैसेज पढ़ने से अच्छा संदेश नहीं जाता है. वैसे कुछ मंत्री सीएम द्वारा बुलाई बैठकों में जाने से पहले अपने निजी सचिवों को थमा देते हैं लेकिन यह काम उन्हें भूतल पर ही करना होता है.

टोकन व्यवस्था

नई व्यवस्था में मंत्रियों को कोई असुविधा न हो, इसके लिए टोकन की व्यवस्था की गई है. इसका जिम्मा सामान्य प्रशासन विभाग को दिया गया है. इसके तहत जब मंत्री मंत्रिपरिषद कक्ष में सीएम द्वारा बुलाई गई बैठकों में जाएंगे तो वह मोबाइल फोन टोकन लेकर बाहर जमा कराएंगे. बाद में कक्ष से बाहर आने पर टोकन के जरिए उसे वापस ले सकेंगे.

ये भी पढ़ें:

रामपुर से हुई थी यूपी में सोशल मीडिया पोस्ट पर पहली गिरफ्तारी, सुप्रीम कोर्ट भी लगा चुका है रोक

खनन घोटाला: सपा नेता गायत्री प्रजापति, रमेश मिश्रा समेत अन्य के 22 ठिकानों पर CBI का छापा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...