लाइव टीवी

यूपी में भी हिट रहा मोदी का गुजरात फॉर्मूला, कई सीटों पर ऐसे हासिल की जीत

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 25, 2019, 2:08 AM IST
यूपी में भी हिट रहा मोदी का गुजरात फॉर्मूला, कई सीटों पर ऐसे हासिल की जीत
file photo

लोकसभा चुनाव के पहले यह कयास लगाए जा रहे थे कि बीजेपी के लिए 2014 वाली कामयाबी दोहराना इस बार तकरीबन नामुमकिन है.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव के पहले यह कयास लगाए जा रहे थे कि बीजेपी के लिए 2014 वाली कामयाबी दोहराना इस बार तकरीबन नामुमकिन है. सपा-बसपा और रालोद का गठबंधन हो जाने की वजह से इस कयास को और बल मिल रहा था. खुद बीजेपी के नेता भी उत्तर प्रदेश को सबसे बड़ी चुनौती के रूप में देख रहे थे. लेकिन ऐसा हुआ नहीं और बीजेपी राज्य में 64 सीटें हथियाने में कामयाब रही जिसमें अपना दल की भी दो सीटें शामिल हैं. दरअसल बीजेपी की यह सफलता गुजरात फार्मूले से निकली है. गुजरात में सीएम रहते हुए लगभग हर विधानसभा चुनाव में पीएम नरेंद्र मोदी विधायकों के टिकट काटकर नए चेहरे लाते रहे. यूपी में भी मौजूदा सांसदों का टिकट काटकर नए चेहरों को सामने लाने की पार्टी की यह रणनीति रंग लाई है. इसमें कई जगह सांसदों की सीट बदलकर कामयाबी पाना भी शामिल है.

बीजेपी ने इस चुनाव में उत्तर प्रदेश में कई सांसदों का टिकट काटा था. बलिया से बीजेपी सांसद रहे भरत सिंह का इस बार टिकट काटकर वहां भदोही के सांसद रहे वीरेंद्र सिंह मस्त को भेजा गया था, जहां उन्होंने जीत हासिल की. वहीं भदोही सीट पर रमेश बिंद को खड़ा किया गया था जिन्होंने बीएसपी उम्मीदवार रंगनाथ मिश्रा को मात दी. संतकबीरनगर के सांसद रहे शरद त्रिपाठी का जूता कांड के बाद टिकट कटा तो उनकी जगह प्रवीण निषाद को भेजा गया. प्रवीण निषाद ने भी जीत हासिल की. प्रवीण निषाद 2018 में गोरखपुर से जीते थे. बाद में वो बीजेपी में शामिल हो गए.

गोरखपुर में पार्टी इस बार नए चेहरे को लेकर आई. भोजपुरी फिल्मों के स्टार रविकिशन ने बड़ी जीत हासिल की. फूलपुर सीट पर भी इस बार पार्टी ने केशरी देवी पटेल के जरिए नया प्रयोग किया और सफल रही. कैराना सीट पर उपचुनाव में मृगांका सिंह को हार मिली थी तो इस बार प्रदीप कुमार ने जीत हासिल की. वहीं आगरा के सांसद राम शंकर कठेरिया का टिकट काटकर एसपी बघेल को थमाया गया तो कठेरिया को इटावा भेजा गया. दोनों ने ही जीत हासिल की. कानपुर में इस बार मुरली मनोहर जोशी की जगह सत्यदेव पचौरी मैदान में उतारे गए और उन्होंने भी जीत हासिल की.

इनके अलावा बहराइच से अक्षयवर लाल गौड़, बाराबंकी से प्रियंका रावत की जगह उपेंद्र रावत, कुशीनगर से राजेश पांडे की जगह विजय दूबे को टिकट दिया गया था.

इसके अलावा पार्टी ने श्यामाचरण गुप्ता के पाला बदलने के बाद नए चेहरे को मौका दिया था. इस बार के लोकसभा चुनाव में  यूपी में पीएम मोदी ने कुल 21 सांसदों के टिकट काटे थे जिनमें 15 की जीत हुई है.

ये भी पढ़ें:

मोदी लहर नहीं, इस शख्स की वजह से सपा के 'गढ़' में खिला बीजेपी का 'कमल'
Loading...

जानिए कौन है ये शख्स, जिसने PM मोदी की गैरमौजूदगी में लिया उनकी जीत का सर्टिफिकेट

घोसी लोकसभा सीट से जीतने वाले इस 'भगोड़े' नेता का क्या होगा भविष्य?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 25, 2019, 1:50 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...