Home /News /uttar-pradesh /

मोहनलालगंज: किसी के लिए भी 'सुरक्षित' नहीं रही यह लोकसभा सीट

मोहनलालगंज: किसी के लिए भी 'सुरक्षित' नहीं रही यह लोकसभा सीट

एक दौर में मोहनलालगंज कांग्रेस का मजबूत किला रहा है, लेकिन वक्त के साथ सपा ने इस सीट पर अपनी मजबूत पकड़ बना ली थी.

एक दौर में मोहनलालगंज कांग्रेस का मजबूत किला रहा है, लेकिन वक्त के साथ सपा ने इस सीट पर अपनी मजबूत पकड़ बना ली थी.

एक दौर में मोहनलालगंज कांग्रेस का मजबूत किला रहा है, लेकिन वक्त के साथ सपा ने इस सीट पर अपनी मजबूत पकड़ बना ली थी.

    उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटी हुई मोहनलालगंज लोकसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित है.लखनऊ के आउटर से जुड़े इलाकों के साथ ही सीतापुर जिले की सिधौली विधानसभा भी उसका हिस्सा है. सबसे दिलचस्प बात यह है कि सुरक्षित सीट होने बाद भी बसपा का परचम यहां एक बार भी नहीं लहराया. 2014 में बीजेपी के कौशल किशोर ने इस सीट से जीस्त दर्ज की. बीजेपी के अलावा सपा और कांग्रेस भी इस सीट से अपने लोगों को संसद भेज चुकी है.

    यह सीट इसलिए भी खास है क्योंकि जब भी कोई बड़ा नेता यहां प्रचार करने आता है क ई वह दोनों सीटों की सीमाओं पर ही सभा करता है है, ताकि दोनों सीटों के मतदाताओं को एक साथ साधा जा सके. एक दौर में मोहनलालगंज कांग्रेस का मजबूत किला रहा है, लेकिन वक्त के साथ सपा ने इस सीट पर अपनी मजबूत पकड़ बना ली थी. हालांकि 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर में बीजेपी यहां से कमल खिलाने में कामयाब हो गई थी. मोहनलालगंज लोकसभा सीट 1962 में वजूद में आई थी. इसके बाद से 14 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं. इनमें से पांच बार कांग्रेस, 4 बार सपा और तीन बार बीजेपी जीत चुकी है. इसके अलावा एक बार लोक दल और एक बार जनता दल का सांसद भी चुना गया है.

    1991 के चुनाव में छोटे लाल ने जीतकर बीजेपी का खाता खोला और 1996 में दोबारा जीते, लेकिन इसके बाद 1998 से लेकर 2009 तक सपा ने इस सीट पर लगातार चार बार जीत हासिल की. सपा के विजय रथ को 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने कौशल किशोर को उतारकर ब्रेक लगा दिया है.

    इस बार सपा-बसपा गठबंधन दिख रही मजबूत

    2014 के लोकसभा चुनाव में मोहनलालगंज संसदीय सीट पर 60.75 फीसदी मतदान हुए थे. इस सीट पर बीजेपी के कौशल किशोर ने बसपा के आरके चौधरी को एक लाख 45 हजार 416 वोटों से मात देकर जीत हासिल की थी. बीजेपी के कौशल किशोर को 4,55,274 वोट मिले. बसपा के आरके चौधरी को 3,09,858 वोट मिले. सपा की सुशीला सरोज को 2,42,366 वोट मिले. कांग्रेस के नरेंद्र गौतम को 52,598 वोट मिले.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    ये भी पढ़ें:

    आचार संहिता लागू होने के बाद बिजली के पोल पर चढ़ा सिपाही, Selfie लेते दारोगा

    लोकसभा चुनाव 2019: यूपी में 16 लाख युवा पहली बार डालेंगे वोट

    देशभर में 'रोजगार' की पहचान देने वाला गौतम बुद्ध नगर, ये रहा राजनीतिक इतिहास

    BJP: 70 प्लस के नेताओं को टिकट देने का नियम बदला, आडवाणी, जोशी पर होगा असर

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: Lok Sabha Election 2019, Lucknow news, Up news in hindi, Uttar Pradesh Lok Sabha Constituencies Profile

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर