मुख्तार अंसारी एंबुलेंस विवाद: पंजाब के मंत्री ने झाड़ा पल्ला, कहा- जेल के बाहर हमारी जिम्मेदारी नहीं

माफिया मुख्तार अंसारी. (File Photo)

माफिया मुख्तार अंसारी. (File Photo)

Mafia Don Mukhtar Ansari News: मुख्तार अंसारी (Mafia Don Mukhtar Ansari) को पंजाब में जिस एंबुलेंस से लाकर कोर्ट में पेश किया गया था, उस पर विवाद बढ़ गया है.

  • Share this:
लखनऊ. मुख्तार अंसारी (Mafia Don Mukhtar Ansari) को कोर्ट में पेश करते वक्‍त जिस एंबुलेंस से ले जाया गया था, उस पर विवाद बढ़ता जा रहा है. हालांकि, इस विवाद से पंजाब के जेल मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने पल्ला झाड़ लिया है. न्यूज 18 को मंत्री रंधावा ने बताया कि उनकी जिम्मेवारी जेल के अंदर है. पुलिस जेल से बाहर उसे (मुख्‍तार अंसारी) कौन सी गाड़ी में लेकर जाती है, यह देखना जेल विभाग का काम नहीं है. जेल के अंदर की पूरी जिम्मेवारी जेल विभाग की है. पंजाब के जेल मंत्री ने कहा कि मुख्तार अंसारी को कौन सी गाड़ी में क्यों ले जाया गया इसका जवाब पुलिस ही दे सकती है.

बता दें कि पंजाब पुलिस ने बीते बुधवार को माफिया डॉन मुख़्तार अंसारी को बाराबंकी नंबर की एम्बुलेंस से मोहाली कोर्ट में पेश किया किया था. इस दौरान मुख़्तार व्हील चेयर पर बैठा नजर आया. इन सबके बीच दिलचस्प बात यह है कि जिस एम्बुलेंस से पुलिस ने उसे मोहाली कोर्ट में पेश किया, उसका रजिस्‍टर्ड तो बाराबंकी जिले में है, लेकिन अब यह एंबुलेंस पंजीकृत ही नहीं है. मतलब कि उसकी मियाद समाप्‍त हो चुकी है. इतना ही नहीं जिस अस्पताल का नाम एम्बुलेंस पर लिखा है वह भी फर्जी है.

Youtube Video


अस्पताल भी फर्जी
बाराबंकी आरटीओ के सूत्रों के हवाले से NEWS 18 को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक जिस अस्पताल के नाम से एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन बताया जा रहा है, वह मौजूद ही नहीं है. एंबुलेंस का नंबर UP41 AT 7171 है, जिसकी रजिस्ट्रेशन की मियाद साल 2015 में ही खत्म हो चुकी है. इतना ही नहीं एंबुलेंस की फिटनेस भी साल 2017 में एक्सपायर हो चुकी है. बाराबंकी स्वास्थ्य विभाग के पास भी एम्बुलेंस को लेकर कोई जानकारी नहीं है.

(राम कोंडल का इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज