Home /News /uttar-pradesh /

मुलायम का मरहम, छोटी बहू अपर्णा और शिवपाल के बेटे के लिए मांगा टिकट

मुलायम का मरहम, छोटी बहू अपर्णा और शिवपाल के बेटे के लिए मांगा टिकट

मुलायम के घर पर मीटिंग में सर्वसम्मति से अखिलेश यादव को ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मानने के साथ ही मामले का पटाक्षेप कर देने पर सहमति बन गई है.

मुलायम के घर पर मीटिंग में सर्वसम्मति से अखिलेश यादव को ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मानने के साथ ही मामले का पटाक्षेप कर देने पर सहमति बन गई है.

मुलायम के घर पर मीटिंग में सर्वसम्मति से अखिलेश यादव को ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मानने के साथ ही मामले का पटाक्षेप कर देने पर सहमति बन गई है.

साइकिल छिनने के बाद मुलायम सिंह यादव के घर पर मंगलवार दोपहर एक हाईलेवल मीटिंग हुई. इस बैठक में शिवपाल सिंह यादव ने मुलायम के साथ मंत्रणा की.  सूत्रों के अनुसार मीटिंग में सर्वसम्मति से अखिलेश यादव को ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मानने के साथ ही मामले का पटाक्षेप कर देने पर सहमति बन गई है. बैठक में नारद राय, ओमप्रकाश सिंह व अन्य करीबी नेता भी उपस्थित थे.

सूत्रों के अनुसार मुलायम सिंह यादव ने 38 प्रत्याशियों की सूची अखिलेश को सौंपी है, जिसमें शिवपाल सिंह यादव की बजाए उनके बेटे आदित्य यादव के यशवंत नगर से चुनाव मैदान में उतारने की बात है. यही नहीं मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव के भी लखनऊ कैंट से प्रत्याशी बनाए जाने की बात है. इनके अलावा लिस्ट में ओमप्रकाश सिंह, नारद राय से लेकर शादाब फातिमा तक का नाम दिया है. उधर सीएम अखिलेश यादव द्वारा मुलायम सिंह यादव की इस सूची को स्वीकार कर लिए जाने की भी खबर है.

मुलायम के घर पर चली हाइलेवल मीटिंग के बाद तय किया है कि अखिलेश का अब कोई विरोध नहीं किया जाएगा. न तो चुनाव आयोग के फैसले का अदालत में विरोध किया जाएगा न ही अखिलेश या सपा के किसी नेता के खिलाफ कोई प्रत्याशी ही उतारा जाएगा. इस मीटिंग में मुलायम गुट ने अखिलेश को ही राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर स्वीकार कर लिया है. मुलायम ने कहा है कि सभी तक मैसेज पहुंचाएं कि चुनाव की तैयारी में जुट जाएं, सीटों की घोषणा गठबंधन के बाद होगी.

दरअसल मुलायम सिंह यादव ने सोमवार को चुनाव आयोग से फैसला आने से पहले ही ऐलान किया था कि पार्टी को बचाने के लिए वह कुछ भी करने को तैयार हैं.

उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था कि वह अखिलेश के खिलाफ भी चुनाव लड़ेंगे. यही नहीं मुलायम ने सिंबल न मिलने की स्थिति में अदालत की शरण लेने की बात भी कही थी.

उन्होंने पार्टी कार्यालय पर कार्यकर्ताओं को सबोधित किया कहा कि मैंने कई बार बात करने के लिए अखिलेश को बुलाया लेकिन वो नही आया. जब बीवी बच्चो की कसम खिलाई तब भी एक बार आए, उसमें भी बात शुरू करने से पहले ही चला गया.

मुलायम ने कहा कि जनता के बीच संदेश गया है कि अखिलेश मुसलमान विरोधी हैं. अखिलेश ने कई मंत्रियो को बेवजह पार्टी से निकाला. रामगोपाल ने पार्टी को बर्बाद करने में कोई कसर नही छोड़ी. मुलायम ने साफ किया था कि सिंबल चाहे जो भी हो कार्यकर्ताओं का साथ उन्हें चाहिए.

समाजवादी पार्टी के नए सुप्रीमो अखिलेश यादव हो चुके हैं. उनका विरोध कर रहे पिता मुलायम सिंह पार्टी में संरक्षक हो गए हैं. इस पूरी उठापटक में अगर किसी का सबसे ज्यादा नुकसान होता दिख रहा है, तो वह शिवपाल सिंह यादव ही हैं. मुलायम लगातार ये साफ करते रहे हैं कि समाजवादी पार्टी को खड़ा करने में उनके साथ शिवपाल कंधे से कंधा मिलाकर चले हैं.

Tags: Mulayam Singh Yadav, Samajwadi party, Shivpal singh yadav, लखनऊ

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर