Home /News /uttar-pradesh /

मुलायम सिंह यादव: नेहरू के जमाने में शुरू किया राजनीतिक जीवन, इंदिरा के समय गए जेल

मुलायम सिंह यादव: नेहरू के जमाने में शुरू किया राजनीतिक जीवन, इंदिरा के समय गए जेल

मुलायम सिंह यादव (फाइल फोटो)

मुलायम सिंह यादव (फाइल फोटो)

1960 में राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने के वाले मुलायम सिंह यादव देश के उन ​चुनिंदा नेताओं में से एक हैं, जिन्होंने 6 दशक से बदलते भारत को न सिर्फ जिया है, बल्कि उसमें योगदान भी दिया है.

    समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का आज 80वां जन्मदिवस है. देश के बड़े समाजवादी नेताओं में शुमार मुलायम सिंह के जन्मदिवस को लेकर गुरुवार को उनके सैफई स्थित घर से लेकर लखनऊ तक कई कार्यक्रम आयोजित होने हैं. एक तरफ समाजवादी पार्टी ने बड़ी तैयारी कर रखी है, तो दूसरी तरफ ​मुलायम के छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव ने भी अपनी नई पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के बैनर तले विशेष दंगल का आयोजन किया है.

    अपने 80वें जन्मदिवस पर मुलायम सिंह यादव राजनीतिक जीवन के 58 वर्ष भी पूरे कर लेंगे. 1960 में राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने के वाले मुलायम सिंह यादव देश के उन ​चुनिंदा नेताओं में से एक हैं, जिन्होंने 6 दशक से बदलते भारत को न सिर्फ जिया है, बल्कि उसमें योगदान भी दिया है. वह अपने राजनीतिक जीवन में किंग मेकर से लेकर ​किंग तक की भूमिका में रहे. चाहे वह केंद्र की सत्ता हो या उत्तर प्रदेश की, हर जगह मुलायम ने अपना लोहा मनवाया.

    मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन पर सैफई में होगा राजनीतिक 'दंगल'

    1967 में पहली बार जीतकर पहुंचे विधानसभा
    22 नवंबर 1939 को मुलायम सिंह एक साधारण परिवार में जन्मे. उन्होंने अपने शैक्षणिक जीवन में B.A, B.T और राजनीति शास्त्र में M.A की डिग्री हासिल की. उनकी पूरी पढ़ाई केके कॉलेज इटावा, एक.के कॉलेज शिकोहाबाद और बीआर कॉलेज आगरा यूनिवर्सिटी से पूरी हुई.

    मालती देवी से शादी के बाद साल 1973 में मुलायम सिंह के घर उनके इकलौते बेटे अखिलेश यादव ने जन्म लिया. लेकिन तब तक वह राजनीति की दुनिया में अपने कदम जोरदार तरीके से जमा चुके थे. 1960 में उन्होंने राजनीति की शुरुआत की थी और 1967 के चुनाव में वह पहली बार विधायक बन चुके थे. राजनीति में कूदने के लिए उन्हें प्रेरित करने वाली शख्सियत का नाम राम मनोहर लोहिया था.

    देश में खड़ा किया सबसे बड़ा राजनीतिक कुनबा
    उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के सैफई गांव में मुलायम सिंह यादव का जन्म हुआ था. उनका परिवार पहले बेशक राजनीति से न जु़ड़ा हो. लेकिन आज उनके परिवार के कण-कण में राजनीति बसती है. देश में उनके परिवार से बड़ा राजनीतिक परिवार शायद ही हो.

    भाई, भतीजा, बेटा और बहु हर कोई ब्लॉक और पंचायत स्तर से लेकर संसद तक प्रतिनिधित्व कर रहा है. आज मुलायम जहां खड़े हैं बेशक वो पायदान राजनीति में काफी ऊंचा है लेकिन उनकी उड़ान ज़मीन से शुरू हुई थी. जो काफी विस्तारित दिखाई देती है.

    साल दर साल राजनीतिक सफ़र

    1960: मुलायम सिंह राजनीति में उतरे
    1967: पहली बार विधानसभा चुनाव जीते, MLA बने
    1974: प्रतिनिहित विधायक समिति के सदस्य बने
    1975: इमरजेंसी में जेल जाने वाले विपक्षी नेताओं में शामिल
    1977: उत्तर प्रदेश में पहली बार मंत्री बने, कॉ-ऑपरेटिव और पशुपालन विभाग संभाला
    1980: उत्तर प्रदेश में लोकदल का अध्यक्ष पद संभाला
    1985-87: उत्तर प्रदेश में जनता दल का अध्यक्ष पद संभाला
    1989: पहली बार UP के मुख्यमंत्री बनकर कमान संभाली
    1992: समाजवादी पार्टी की स्थापना कर, विपक्ष के नेता बने
    1993-95: दूसरी बार यूपी के मुख्यमंत्री पद पर काबिज़ रहे
    1996: मैनपुरी से 11वीं लोकसभा के लिए सांसद चुने गए. केंद्र सरकार में रक्षा मंत्री का पद संभाला
    1998-99: 12वीं और 13वीं लोकसभा के लिए फिर सांसद चुने गए
    1999-2000: पेट्रोलियम और नेचुरल गैस कमेटी के चेयरमैन का पद संभाला
    2003-07: तीसरी बार यूपी का मुख्यमंत्री पद संभाला
    2004: चौथी बार 14वीं लोकसभा में सांसद चुनकर गए
    2007: यूपी में बसपा से करारी हार का सामना करना पड़ा
    2009: 15वीं लोकसभा के लिए पांचवीं चुने
    2009: स्टैंडिंग कमेटी ऑन एनर्जी के चेयरमैन बने
    2014: उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ से सांसद बने
    2014: स्टैंडिंग कमेटी ऑन लेबर के सदस्य बने
    2015: जनरल पर्पस कमेटी के सदस्य बने

    ये भी पढ़ें: 

    अयोध्या में 'दूसरे राम मंदिर आंदोलन' की आहट से फूले प्रशासन के हाथ-पैर

    मुरादाबाद से बरेली जा रही एमटी कोच ट्रेन के सात डिब्बे पलटे, रेल संचालन ठप

    सच कहना अगर बगावत है तो हां, मैं बागी हूं: शत्रुघ्न सिन्हा

    'सुनो पंडित! अगर तुम्हारी लड़की की बारात आई तो खून बहा देंगे'

    कोर्ट ने दिया आदेश, बरेली के डीएम की कार बेचकर चुकाएं किसान का पैसा

    बीजेपी MLA की सास को एंबुलेंस नहीं मिलने पर बवाल, फायरिंग के बाद 3 गाड़ियां जलाईं

    सपा कार्यकर्ता ने कैंसर पीड़ित पिता के लिए अखिलेश से लगाई गुहार, बीजेपी नेता ने बढ़ाया हाथ

    सिपाही भर्ती: सिर्फ यूपी के ही अभ्यर्थियों को मिलेगा आरक्षण का लाभ, करनी होगी ये शर्तें पूरी

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: Indira Gandhi, Jawaharlal Nehru, Lucknow news, Mulayam Singh Yadav, News 18 Hindi Special, Up news in hindi, Uttar Pradesh Politics, लखनऊ

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर