मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव और भाजपा की रीता जोशी ने किया पर्चा दाखिल
Lucknow News in Hindi

मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव और भाजपा की रीता जोशी ने किया पर्चा दाखिल
लखनऊ कलेक्ट्रेट में सोमवार को प्रत्याशियों के नामांकन दाखिल करने का सिलसिला तेज होता दिखा. इस दौरान राजधानी की सबसे हाईप्रोफाइल सीट बन चुकी कैंट विधानसभा से मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव और भाजपा की रीता बहुगुणा जोशी ने नामांकन दाखिल कर दिया.

लखनऊ कलेक्ट्रेट में सोमवार को प्रत्याशियों के नामांकन दाखिल करने का सिलसिला तेज होता दिखा. इस दौरान राजधानी की सबसे हाईप्रोफाइल सीट बन चुकी कैंट विधानसभा से मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव और भाजपा की रीता बहुगुणा जोशी ने नामांकन दाखिल कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2017, 2:31 PM IST
  • Share this:
लखनऊ कलेक्ट्रेट में सोमवार को प्रत्याशियों के नामांकन दाखिल करने का सिलसिला तेज होता दिखा. इस दौरान राजधानी की सबसे हाईप्रोफाइल सीट बन चुकी कैंट विधानसभा से मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव ने नामांकन दाखिल किया, वहीं इसी सीट से भाजपा की तरफ से मैदान में उतरीं रीता बहुगुणा जोशी ने भी नामांकन दाखिल कर दिया. दोनों ही प्रत्याशी अपनी जीत के प्रति पूरी तरह आश्वस्त दिखीं.

पर्चा दाखिल करने के दौरान अपर्णा यादव के साथ उनके पति प्रतीक यादव भी मौजूद थे. इस दौरान अपर्णा ने कहा कि वह जीत के प्रति पूरी तरह आश्वस्त हैं. उनके साथ बड़ों का आर्शीवाद है, परिवार और कैंट की जनता का साथ है, वह जरूर जीतेंगीं. उन्होंने कहा कि कैंट विधानसभा में पिछले काफी समय से सक्रिय रही हैं. उन्होंने यहां अपने स्तर से काफी काम भी कराए हैं. जनता से उन्हें जो प्यार मिल रहा है, इसे वह जीत में तब्दील होता देख रही हैं.

वहीं कैंट सीट से ही नामांकन दाखिल करने पहुंची रीता बहुगुणा जोशी भी जीत के प्रति पूरी तरह आश्वस्त दिखाई दीं. उन्होंने कहा कि उनके सामने कोई बड़ी चुनौती नहीं है, लिहाजा वह पिछली बार से भी ज्यादा वोटों के अंतर से जीत करेंगीं.



उनके अलावा लखनऊ मध्य से भाजपा के बृजेश पाठक भी मेयर दिनेश शर्मा के साथ नामांकन दाखिल किया. वहीं बसपा की तरफ से अरमान खान ने लखनऊ पश्चिम से नामांकन दाखिल किया.
अपर्णा यादव के आने से राजधानी लखनऊ की कैंट विधानसभा सीट इस समय उत्तर प्रदेश की सबसे हाईप्रोफाइल सीट में शुमार हो गई है.

कैंट सीट में कांग्रेस और भाजपा में ही सीधी टक्कर देखने को मिलती आई है. ऐसे में एक तरफ रीता जोशी भाजपा से और दूसरी तरफ सपा कांग्रेस गठबंधन के साथ अपर्णा यादव उन्हें चुनौती देती नजर आएंगी. यानी मुकाबला बेहद कड़ा होने जा रहा है.

2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की प्रत्याशी के तौर पर रीता जोशी ने बड़ा उलटफेर करते हुए तीन बार के ​भाजपा विधायक सुरेश चंद्र तिवारी को मात दी थी.
कैंट सीट के इतिहा​स पर नजर डालें तो 1957 से कांग्रेस ने इस सीट पर अपना कब्जा कर रखा था लेकिन अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में भाजपा ने यहां 1991 में कांग्रेस से सीट छीन ली और 2007 तक ये सिलसिला जारी रहा.

इस क्षेत्र में ब्राह्मण मतदाता की चुनावों में अहम भूमिका मानी जाती है. रीता जोशी ने पिछले चुनाव में यहां के सिंधी और पहाड़ी वोट बैंक को अपनी तरफ आकर्षित किया, वहीं ब्राह्मण वोट बैंक में भी सेंध लगाई. अब मुलायम की बहू अपर्णा यादव उनके खिलाफ मैदान में हैं, अपर्णा भी मूल रूप से उत्तराखंड की ही हैं, लिहाजा रीता जोशी के लिए ये बड़ी चुनौती होगी. खास बात ये है कि अपर्णा यादव वैसे तो सपा से चुनाव लड़ रही हैं, लेकिन कांग्रेस से गठबंधन होने के बाद वोटिंग प्रतिशत के लिहाज से ऊंट किसी भी करवट बैठ सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading