• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • बागपत धर्मांतरण पर बोले मुस्लिम धर्मगुरू- उलेमा और तंजीमें इस मामले को गंभीरता से लें

बागपत धर्मांतरण पर बोले मुस्लिम धर्मगुरू- उलेमा और तंजीमें इस मामले को गंभीरता से लें

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य और मुस्लिम धर्मगुरू मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली. Photo: News 18

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य और मुस्लिम धर्मगुरू मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली. Photo: News 18

बता दें बागपत जिले में एक युवक की हत्या के मामले में पुलिस की कार्यशैली और दबंगों से परेशान मुस्लिम परिवारों ने धर्म परिवर्तन करने की इजाजत मांगी. इसके बाद अब उनमें से 13 लोगों ने मंगलवार को हिन्दू रीति-रिवाज के अनुसार यज्ञ पूजन के बाद अपना नामकरण किया.

  • Share this:
    बागपत में एक मुस्लिम परिवार द्वारा हिन्दू धर्म अपनाए जाने के मामला धीरे-धीरे तूल पकड़ता दिख रहा है. मामले में आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) के सदस्य और ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा है कि बागपत के उलेमाओं और तंजीमों को इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए.

    फरंगी महली ने कहा कि बागपत मामले में जैसा की पता चला है, परिवार के लड़के की मौत हुई और उसे उस मामले में इंसाफ नहीं मिला. ये एक संजीदा बात है और हम समझते हैं कि बागपत के उलेमा और तंजीमों को इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए. उन्हें हर मुमकिन कोशिश करनी चाहिए कि उस परिवार का साथ दें और उसको इंसाफ दिलाने की कोशिश करें. फरंगी महली ने कहा कि दूसरी तरफ जिला प्रशासन आदि को भी ये देखना चाहिए कि इंसाफ के लिए कोई तंजीम धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर तो नहीं कर रही है. इन दोनों पहलुओं को ध्यान में रखते हुए इस केस पर मेहनत करने की जरूरत है.

    बता दें बागपत जिले में एक युवक की हत्या के मामले में पुलिस की कार्यशैली और दबंगों से परेशान मुस्लिम परिवारों ने धर्म परिवर्तन करने की इजाजत मांगी. इसके बाद अब उनमें से 13 लोगों ने मंगलवार को हिन्दू रीति-रिवाज के अनुसार यज्ञ पूजन के बाद अपना नामकरण किया. सिंघावली अहीर क्षेत्र के बदरखा गांव में शिव मंदिर में ये नामकरण कार्यक्रम आयोजित हुआ. इस दौरान युवा हिन्दू वाहिनी के लोग भी मौजूद रहे. उधर धर्म परिवर्तन का मामला सामने आने से जिले के अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है और बागपत के डीएम ने पूरे मामले को लेकर उच्चस्तरीय जांच बैठा दी है.

    मामला छपरौली थाना क्षेत्र के बदरखा गांव का है. गांव के ही रहने वाले अख्तर अली का बेटा कपड़े का व्यापार करता था. जुलाई माह में उनके बेटे गुलहशन अली का शव उनकी ही दुकान में खूंटी पर लटका हुआ मिला था. परिजनों का आरोप था कि मुस्लिम समाज के ही कुछ दबंगों ने उसकी हत्या करने के बाद शव को खूंटी पर लटका दिया था लेकिन पुलिस ने उनकी एक न सुनी और हत्या को आत्महत्या में दर्ज कर शव को जबरन दफन करवा दिया.

    इसकी शिकायत पीड़ितों ने जिले के आला अधिकारियों से की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई तो पीड़ितों ने धर्म परिवर्तन करने का फैसला लिया. बदरखा गांव के अख्तर अली और उनके परिवार का कहना है कि इस्लाम धर्म में रहकर अपने बेटे को न्याय नहीं दिला सकते क्योंकि मुस्लिम धर्म के दबंगों ने ही हमारे बेटे की हत्या की है. अभी भी पूरे परिवार का जीना मुहाल कर रखा है. दबंग आरोपी आए दिन परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. जिसकी दहशत में पीड़ितों ने अपना गांव छोड़ दिया है. इस वजह से उन्होंने इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने का फैसला किया है. उन्हें भरोसा है कि हिन्दू धर्म में रहकर ही न्याय मिल सकता है.

    (रिपोर्ट: मोहम्मद शबाब)

    ये भी पढ़ें: 

    तस्वीरों में देखिए बागपत में कैसे 13 मुस्लिमों का हुआ हिंदू नामकरण

    दिल्ली कूच को अड़े किसानों के बीच पहुंचे केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, कई मुद्दों पर बनी सहमति

    केंद्रीय मंत्री की सुरक्षा ड्यूटी में तैनात दारोगा ने खुद को मारी गोली, मौत

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज