यूपी में नये अध्‍यक्ष के जरिये BJP ने खेला पिछड़ा कार्ड, ये है असली मिशन

भाजपा ने पिछड़े वर्ग से एक बार फिर अध्यक्ष भी इसी रणनीति के तहत बनाया है, जिससे संगठन में पिछड़े नेता की कमी पूरी की जा सके.

Kumari ranjana | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 18, 2019, 5:51 PM IST
यूपी में नये अध्‍यक्ष के जरिये BJP ने खेला पिछड़ा कार्ड, ये है असली मिशन
स्वतंत्र देव सिंह भाजपा के कद्दावर नेता हैं. (फाइल फोटो)
Kumari ranjana | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 18, 2019, 5:51 PM IST
बीजेपी के नए प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का फोकस समाजवादी पार्टी के वोट बैंक माने जाने वाले यादवों और बसपा का वोट बैंक दलितों को बीजेपी का कैडर बनाने पर रहेगा. जी हां, 11 अगस्त तक चलने वाले सदस्यता अभियान में इन दो जातियों को जोड़ने पर फोकस रहेगा. बीजेपी द्वारा पिछड़े वर्ग से अध्यक्ष बनाने के पीछे सोची-समझी रणनीति है. कुर्मी बिरादरी से आने वाले स्वतंत्र देव सिंह शुक्रवार को लखनऊ पहुंच रहे हैं. उसके बाद वे जल्द ही अपनी टीम बनाएंगे.

यादव और दलित वोट पर रहेगा फोकस
भारतीय जनता पार्टी का फोकस यादव और दलित पर ही क्यों है? इस सवाल के जवाब के लिए महामंत्री विजय बहादुर पाठक से जब बात की गई तो उन्होंने कहा कि पार्टी का टारगेट वे लोग हैं, जो पिछले चुनाव में हमारे साथ नहीं थे. इससे जाति विशेष से कोई लेना देना नहीं है. बीजेपी के लगभग एक लाख साठ हजार बूथ हैं, जिसमें से एक लाख तीस हजार बूथों तक पार्टी पहुंची. साफ है कि लगभग तीस हजार बूथ अछूते रह गए और वो बूथ यादव और दलित बाहुल्य वाले ही हैं.

इस कारण भाजपा ने खेला है पिछ़डा दांव

भाजपा ने पिछड़े वर्ग से एक बार फिर अध्यक्ष भी इसी रणनीति के तहत बनाया है, जिससे संगठन में पिछड़े नेता की कमी पूरी की जा सके. केशव प्रसाद मौर्य के सरकार में जाने के बाद से संगठन में पिछड़े वर्ग के नेता की कमी महसूस की जा रही थी. लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने पिछड़े वर्ग के हर जातियों की सभा की थी, जिसे सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन नाम दिया गया था. उस हर सभा में केशव मौर्य मौजूद रहे थे और लोकसभा चुनाव में इस सभा का फायदा भी मिला.

अब पार्टी का फोकस विशेष तौर पर यादव और दलित पर रहेगा और इस पर संगठन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की मदद से काम भी कर रहा है. आने वाले विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को तोड़ने के लिए बीजेपी को जहां यादवों पर निशाना साधना होगा, तो वहीं बीएसपी की कमर टूटे इसके लिए दलित वोट बैंक पर बीजेपी जोरदार काम करने में जुटी है.

नये अध्यक्ष के जोरदार स्‍वागत की तैयारी
Loading...

इसी रणनीति के साथ कल प्रदेश के नए अध्यक्ष और पूर्व परिवहन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वतंत्र देव सिंह लखनऊ पहुंचेंगे, जहां पार्टी ने उनके स्वागत के लिए विस्तृत कार्यक्रम तैयार कर लिया है. वह दोपहर दो बजे वे अमौसी एयरपोर्ट लखनऊ पहुंचेंगे. इसके बाद बीजेपी कार्यालय पर स्वागत होगा, लेकिन इससे पहले रास्ते में जगह जगह पर सिंह का स्वागत किया जाएगा.

ये भी पढ़ें - इन दुकानदारों को नहीं मिलेगी 3000 रुपये वाली पेंशन, जानें किसे मिलेगा फायदा

बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई की 400 करोड़ रुपए की बेनामी संपत्ति जब्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 18, 2019, 5:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...