Home /News /uttar-pradesh /

UP Election 2022: निषाद पार्टी का ऐलान, BJP के साथ बनी बात, 15 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

UP Election 2022: निषाद पार्टी का ऐलान, BJP के साथ बनी बात, 15 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

यूपी में निषाद पार्टी की भाजपा के साथ 15 सीटों पर बात बन गयी है.

यूपी में निषाद पार्टी की भाजपा के साथ 15 सीटों पर बात बन गयी है.

UP Chunav 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा (BJP) और निषाद पार्टी के बीच सीटों के बंटवारे पर सहमति बन गयी है. निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद (Sanjay Nishad) ने कहा कि हमारी पार्टी यूपी में भाजपा के साथ गठबंधन में 15 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी, लेकिन कौन सी सीटें मिलेंगी, इसका फैसला नहीं हो सकता है. निषाद के मुताबिक, सोमवार को दिल्‍ली में भाजपा हाईकमान के साथ मिलकर सीटों पर अंतिम फैसला लिया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) के लिए भाजपा और निषाद पार्टी के बीच सीटों का फैसला हो गया है. निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद (Sanjay Nishad) ने कहा कि हमारी पार्टी यूपी में भाजपा (BJP) के साथ गठबंधन में 15 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी. जबकि वह किन जिलों में और कौन सी सीटों पर प्रत्‍याशी उतारेगी इसका फैसला कल यानी सोमवार को दिल्ली में भाजपा हाईकमान के साथ बातचीत के बाद लिया जाएगा. बता दें कि पिछले काफी दिनों से सीटों के बंटवारे को लेकर निषाद पार्टी और भाजपा के बीच खींचतान मची हुई थी.

बहरहाल, निषाद पार्टी का भाजपा से गठबंधन 2019 के लोकसभा चुनाव के समय हुआ था. उस वक्‍त निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. संजय निषाद के बेटे प्रवीन निषाद को भाजपा ने संतकबीरनगर से अपना प्रत्याशी बनाया था और वो सीट जीतने में कामयाब रहे थे. इसके बाद भाजपा ने यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से ठीक पहले संजय निषाद को एमएलसी बना दिया. हालांकि दोनों के बीच सीटों को लेकर बात अटकी हुई थी, लेकिन अब उस पर सहमति बन गई है.

जानें क्‍यों भाजपा ने निषाद पार्टी पर खेला है दांव
बता दें कि निषाद समाज की आरक्षण राजनीति से ही डॉ.संजय निषाद को सियासत में पहचान मिली है. शुरुआती तौर पर यूपी के गोरखपुर जिले में बनी निषाद पार्टी आज सूबे की राजनीति में खास अहमियत रखती है. इसकी वजह प्रदेश की 144 से अधिक विधानसभा की सीटों पर निषाद और उनकी अन्य उपजातियों का दबदबा अहम कारण है. यही वजह है कि निषाद पार्टी को यूपी का हर राजनीतिक दल अपने पाले में रखना चाहता है.

पहले पीस पार्टी, फिर सपा और अब भाजपा
वैसे निषाद पार्टी का इतिहास बस आठ साल पुराना है, लेकिन वह अब तक तीन दलों के साथ गठबंधन का हिस्‍सा रह चुकी है. निषाद पार्टी ने पहले पीस पार्टी, फिर सपा और 2019 में भाजपा के साथ गठबंधन किया था. यही नहीं, हर गठबंधन के साथ पार्टी ने अपनी ताकत बढ़ाई है. वहीं, पिछड़ा वर्ग में शामिल निषादों को अनुसूचि‍त जाति का दर्जा दिलाने की मांग ने भी निषाद पार्टी को सुर्खियां दिलाई थीं.

Tags: BJP chief JP Nadda, CM Yogi Adityanath, Sanjay Nishad, Uttar Pradesh Assembly Elections, Uttar Pradesh Elections

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर