प्रियंका गांधी के पास सिर्फ पूर्वांचल ही नहीं इन लोकसभा सीटों की भी होगी कमान!
Lucknow News in Hindi

प्रियंका गांधी के पास सिर्फ पूर्वांचल ही नहीं इन लोकसभा सीटों की भी होगी कमान!
प्रियंका गांधी (PTI)

कांग्रेस सूत्रों की तरफ से जो संकेत मिल रहे फिलहाल प्रियंका गांधी को पूर्वांचल के साथ ही अवध और मध्य क्षेत्र की भी कुछ सीटें मिल सकती है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुलाब नबी आजाद को यूपी प्रभारी पद से हटाकर सूबे में दो प्रभारियों की नियुक्ति क्रमशः प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के रूप में की है. प्रियका गांधी को सियासी तौर पर अहम पूर्वांचल की जिम्मेदारी सौंपी गई है, जबकि ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिम यूपी का प्रभारी बनाया गया है. हालांकि अभी तक दोनों ही प्रभारियों के लिए सीटों को लेकर कोई गाइडलाइन नहीं जारी की गई है, लेकिन कांग्रेस द्वारा यूपी को महज दो भागों में बांटना एक अहम सियासी कदम माना जा रहा है.

दरअसल बीजेपी, कांग्रेस, सपा और बसपा यूपी को चार से पांच भागों में बांटकर चुनाव लड़ती रही हैं. जिनमें पूर्वी, पश्चिम, अवध, बुंदेलखंड और रूहेलखंड का इलाका रहा है. लेकिन कांग्रेस ने इस बार यूपी को दो भागों में बांटकर अपनी सियासी बिसात बिछाई है. हालांकि कुछ कांग्रेसी सूत्रों का कहना है कि मध्य क्षेत्र के लिए अलग से प्रभारी नियुक्त किए जा सकते हैं.

OPINION: प्रियंका गांधी के जरिए कांग्रेस की नजर बीजेपी के परंपरागत वोटबैंक पर



कांग्रेस सूत्रों की तरफ से जो संकेत मिल रहे फिलहाल प्रियंका गांधी को पूर्वांचल के साथ ही अवध और मध्य क्षेत्र की भी कुछ सीटें मिल सकती है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरेंद्र मदान कहते हैं, " प्रियंका गांधी की छवि राष्ट्रीय स्तर की है. लेकिन उनको पूर्वी यूपी का प्रभारी बनाने का मतलब है कि पार्टी एक-एक सीटों पर सकारात्मक रिजल्ट के लिए अपना संगठनात्मक ढांचा बना रही है."



सियासत में नई नहीं हैं प्रियंका, बस गुजरने भर से कांग्रेस की झोली में आ गई थी यह सीट!

कहा जा रहा है कि प्रियंका गांधी को पूर्वांचल की सभी सीटों के साथ खीरी, धौरहरा, हरदोई, सीतापुर, मिश्रिख, मोहनलालगंज, लखनऊ, उन्नाव, बहराइच, कैसरगंज, बाराबंकी और कौशांबी सहित 42 से 43 सीटों की जिम्मेदारी मिल सकती है. इसकी एक वजह ये भी है कि 2019 में जब कांग्रेस ने यूपी में 21 सीटें जीतीं थी तब भी उसे सबसे ज्यादा 15 सीटें पूर्वांचल और अवध क्षेत्र से थीं. 2014 में कांग्रेस ने दो ही सीटें जीतीं लेकिन उसका प्रदर्शन पूर्वांचल में बेहतर था.

लोकसभा चुनाव के दौरान यहां रहेंगी प्रियंका गांधी!

इसी तरह अगर 2017 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो कांग्रेस के खाते में 7 सीटें आईं थी, जिनमे से चार पूर्वी यूपी से थी और तीन पशिचम से. इसके अलावा पूर्वी उत्तर प्रदेश में गोरखपुर और वाराणसी की सीट भी है, जो कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पीएम नरेंद्र मोदी का गढ़ है. इस लिहाज से भी पूर्वांचल कांग्रेस के लिए अहम है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: January 24, 2019, 12:22 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading