अब यूपी में जल्द ही फोन पर दर्ज कराई जा सकेगी FIR

पुलिस अपराधियों की तस्वीरों का एक ऑनलाइन डोजियर तैयार कर रही है, इसके अंतर्गत पुलिसकर्मियों को 22,000 नए आईपैड पर मुहैया कराया जाएगा.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 16, 2018, 5:52 PM IST
अब यूपी में जल्द ही फोन पर दर्ज कराई जा सकेगी FIR
यूपी पुलिस अब फोन पर भी लिखेगी FIR (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 16, 2018, 5:52 PM IST
उत्तर प्रदेश पुलिस देश में अपनी तरह की पहली डायल-एफआईआर योजना शुरू करने के लिए तैयार है. जहां एक आम आदमी पुलिस थाने जाए बगैर आए दिन होने वाले अपराधों की प्राथमिकी फोन पर ही दर्ज करा सकता है. इसके लिए पुलिस अपराधियों की तस्वीरों का एक ऑनलाइन डोजियर तैयार कर रही है, इसके अंतर्गत पुलिसकर्मियों को 22,000 नए आईपैड पर मुहैया कराया जाएगा.

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने मीडिया को बताया कि इसके अलावा, उत्तर प्रदेश पुलिस आतंकवाद रोधी और प्रतिक्रिया नेटवर्क का भी विस्तार कर रही है. इसके लिए विशेष हुनर वाले 100 से ज्यादा नए कमांडो को प्रशिक्षण दिया जा रहा है, जिसमें महिला कर्मियों का पहला बैच भी शामिल है. उन्होंने बताया कि इसका मकसद एटीएस को गुणात्मक और मात्रात्मक दोनों रूप से मजबूत बनाना है.

जानिए क्यों मायावती ने नए बंगले के लिए BJP को दिया धन्यवाद और बोलीं- बहुत बड़ा नहीं है पर...

डीजीपी ने कहा, ‘‘हम जल्द ही राज्य में ई-एफआईआर या डायल-एफआईआर योजना शुरू करने जा रहे है. एफआईआर है जो कानून को लागू करती है और जब तक आप पुलिस में मामला दर्ज नहीं कराते तब तक आपकी जांच शुरू नहीं होती. हमने सोचा कि कैसे हम इसे बदल सकते हैं और फिर यह दिखाई दिया कि हमें यूपी पुलिस आपात नंबर 100 पर हर दिन करीब 20,000 शिकायतें मिल रही है.’’

...जब राहुल गांधी के कहने पर भारतीय किसान यूनियन के प्रदर्शन में पहुंचे राजबब्बर

डीजीपी ने आगे कहा, ‘‘यूपी 100 नंबर पर की जाने वाली शिकायतें कुछ खास श्रेणी की होती है जैसे कि वाहन चोरी. अब ऐसे अपराधों के लिए कोई भी आपात नंबर डायल कर सकता है और फोन पर एफआईआर दर्ज करा सकता है. यह नियमित एफआईआर की तरह होगी और लोगों को मामला दर्ज कराने के लिए पुलिस थाने आने की जरूरत नहीं होगी.’’ उन्होंने बताया कि गाजियाबाद में इस पर दो महीने के लिए आयोजित की गई पायलट परियोजना सफल रही. सिंह ने बताया कि अपराध से निपटने के लिए राज्य में अपराधियों का एक ऑनलाइन डोजियर भी तैयार किया गया है.डीजीपी ने बताया कि डोजियर से कोई भी मामला शीघ्र सुलझाने में मदद मिलेगी क्योंकि संदिग्धों की पहचान तेजी से की जा सकेगी.

युवा कल्याण अधिकारी की परीक्षा में फर्जीवाड़ा, सॉल्वर गैंग के 20 लोग गिरफ्तार
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर