UP में हाईवे किनारे होगी जड़ी-बूटियों की खेती, प्रदूषण जनित बीमारियों से मिलेगी मुक्ति

इस योजना के तहत राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों के सड़कों के किनारे हल्दी, ब्राह्मी, अश्वगंधा, अनंतमुला, जनोफा जैसी 34 आयुर्वेदिक औषधियों को लगाया जाएगा.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 19, 2019, 4:35 PM IST
UP में हाईवे किनारे होगी जड़ी-बूटियों की खेती, प्रदूषण जनित बीमारियों से मिलेगी मुक्ति
सांकेतिक तस्वीर
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 19, 2019, 4:35 PM IST
उत्तर प्रदेश से होकर गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) और राज्य हाईवे के किनारे जल्द ही आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों की खेती शुरू होगी. सूबे की योगी सरकार ने इस दिशा में कदम आगे बढ़ा दिए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक हाईवे के किनारे औषधीय गुण वाले 34 किस्मों के पौधे लगाए जाएंगे, ताकि प्रदूषण, बैक्टीरिया और त्वचा संबंधी रोगों पर काबू पाया जा सके.

योजना के तहत सड़कों के किनारे हल्दी, ब्राह्मी, अश्वगंधा, अनंतमुला, जनोफा जैसी 34 आयुर्वेदिक औषधियों को उगाया जाएगा. उत्तर प्रदेश के लोक निर्माण विभाग ने इस दिशा में कार्य प्रारंभ भी कर दिए हैं. शुरुआती दौर में 18 जिलों में इस पर काम शुरू किया गया है. पीडब्लूडी के नोट के मुताबिक अनफिट इंडिया की मुख्य वजह सिकुड़ते क्षेत्र और आयुर्वेदिक पेड़-पौधों की कमी है. इसलिए समय की मांग है कि हर्बल गार्डन और हर्बल युक्त सड़कें हों.



NDA की आयुष्मान योजना का विस्तार है ये योजना

दरअसल यह योजना केंद्र की एनडीए सरकार द्वारा चलाई जा रही आयुष्मान भारत योजना का विस्तार है. आज अस्पतालों और डॉक्टरों के बावजूद कैंसर, अस्थमा, त्वचा संबंधी बीमारियों में लगातार इजाफा हो रहा है. इसकी एक वजह है बढ़ता प्रदूषण और शुद्ध हवा. इन औषधीय गुणों वाली जड़ी-बूटियों से जहां आयुर्वेद को बढ़ावा मिलेगा वहीं इससे वायु भी शुद्ध होगी. साथ ही इन बीमारियों का इलाज भी संभव हो सकेगा.

इन राजमार्गों पर शुरू हुआ है पायलट प्रोजेक्ट

सहारनपुर के दिल्ली-यमुनोत्री हाईवे 57, वाराणसी के आशापुर-सारनाथ स्टेट हाईवे, अयोध्या के पंचकोशी परिक्रमा स्टेट हाईवे, गोरखपुर-देवरिया स्टेट हाईवे, अलीगढ़-मथुरा स्टेट हाईवे और बांदा बहराइच रूट पर इस योजना को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया गया है.

योजना को लागू करने वाला यूपी पहला राज्य
Loading...

उत्तर प्रदेश पीएम नरेंद्र मोदी की इस महत्वाकांक्षी योजना को लागू करने वाला पहला राज्य है. उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बताया कि पिछले साल इस योजना की जानकारी मिली थी, जिसका उद्देश्य देश में आयुर्वेद को बढ़ावा देना है और लोगों को बीमारियों से मुक्त करना है. यूपी देश का पहला राज्य है, जो इस योजना को लागू कर रहा है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की आयुष्मान योजना से लोगों को राहत मिल रही है. अब इसके लागू होने से विकास तो होगा ही साथ सौंदर्यीकरण और स्वास्थ्य लाभ भी मिलेगा.

ये भी पढ़ें:

UP में सभी प्राइवेट यूनिवर्सिटी के लिए अम्ब्रेला एक्ट, रोकनी होगी राष्ट्रविरोधी गतिविधियां, गरीबों की आधी फीस माफ

'ब्रह्मास्त्र' की शूटिंग अधूरी छोड़ वाराणसी से मुंबई लौटे रणबीर कपूर और आलिया भट्ट, ये रही वजह

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...