यूपी उपचुनाव: पदाधिकारियों ने पार्टी को सौंपी फीडबैक, सीएम योगी की राय के बाद होगा उम्‍मीदवारों का ऐलान

भाजपा को सभी सात सीट जीतने का भरोसा है.
भाजपा को सभी सात सीट जीतने का भरोसा है.

उत्‍तर प्रदेश में उपचुनाव (UP Assembly by-election) को लेकर भाजपा (BJP) एक्‍शन में है. पार्टी ने उपचुनाव वाले सातों विधानसभा क्षेत्र में अपने सात पदाधिकारियों को फीडबैक के लिए भेजा था और उन्‍होंने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. इसके बाद उम्‍मीदवारों का चयन किया जाएगा.

  • Share this:
लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश में उपचुनाव (UP Assembly by-election) को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है. जबकि भाजपा में उपचुनाव को लेकर प्रत्याशी चयन की प्रक्रिया अंतिम चरण में है. बीजेपी ने उपचुनाव वाले सातों विधानसभा क्षेत्र में अपने सात पदाधिकारियों को फीडबैक के लिए भेजा था. 3 अक्टूबर से 5 अक्टूबर पार्टी पदाधिकारी प्रवास पर रहे और उन्‍होंने अपनी फीडबैक रिपोर्ट पार्टी प्रदेश नेतृत्व को सौंप दी है. जबकि महामंत्री संगठन सुनील बंसल और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev Singh) के मंथन के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की राय के आधार पर पार्टी का केन्द्रीय नेतृत्व फैसला करेगा.

भाजपा ने सात विधानसभा से मांगी फीडबैक
भाजपा ने सातों विधानसभा से फीड बैक मंगा ली है. इसके लिए पांच महामंत्रियों और दो उपाध्यक्षों को लगाया गया था. मल्हनी विधानसभा क्षेत्र में प्रदेश महामंत्री जेपीएस राठौर, देवरिया विधानसभा क्षेत्र के लिए गोविंदनारायण शुक्ला, टुंडला विधानसभा क्षेत्र के लिए अश्वनी त्यागी, नौगांवा सादात के लिए सुब्रत पाठक, बांगरमऊ विधानसभा क्षेत्र के लिए प्रदेश उपाध्यक्ष सलिल विश्नोई और घाटमपुर की फीडबैक के लिए प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक को भेजा गया था. सभी लोग अपनी फीडबैक सौंप चुके हैं और जल्द ही प्रत्याशियों के नाम सामने आएंगे. प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक कहते हैं कि भारतीय जनता पार्टी में प्रत्याशी चयन की एक प्रक्रिया है उसके तहत पार्टी पदाधिकारी प्रवास पर थे और आगे भी पार्टी नेतृत्व के आदेश पर काम करेंगे. प्रत्याशी चयन पार्टी पार्लियामेंट्री बोर्ड करती है और वही करेगी. जल्द ही नामों की घोषणा होगी.

कौन कौन हैं टिकट के दावेदार
मल्हनी समाजवादी पार्टी की सीट रही है. 2017 में बीजेपी से लड़ चुके चुनाव लड़ चुके सतीश सिंह, 2012 में बसपा से चुनाव लड़ चुके और अब बीजेपी के सिपाही बने पाणिनी सिंह, संघ के करीबी प्रमोद यादव के नाम की चर्चा है. चर्चा बाहुबली धनंजय सिंह के नाम की भी चर्चा है, क्योंकि लखनऊ में बीजेपी के बड़े नेताओं से उनकी मुलाकात की बात भी कही जा रही है. देवरिया विधायक जन्मेजय सिंह के निधन के कारण खाली हुई इस सीट पर उनके बेटे अजय प्रताप सिंह, पूर्व सांसद प्रकाश मणि त्रिपाठी के बेटे शशांक मणि त्रिपाठी के नाम की चर्चा तेज है. वहीं, टुंडला से बीजेपी की स्थानीय कार्यकर्ता नीलम दिवाकर, पूर्व विधायक मोहनदेव शंखवार और पूर्व विधायक शिव सिंह चक का नाम चर्चा है.कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान के भी निधन से खाली हुई सीट पर उनकी पत्नी संगीता चौहान के नाम की सबसे अधिक चर्चा है.



बांगरमऊ में टिकट मांगने वालों की फेहरिस्त लंबी है और यहां कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी टिकट की दावेदार हैं, तो वहीं नवाबगंज ब्लॉक प्रमुख अरुण सिंह जो कुलदीप सेंगर के करीबी हैं उनके नाम की भी चर्चा है. शशि शेखर सिंह भी प्रत्याशियों की संभावी सूची में आगे हैं. इसके अलावा मंत्री कमलरानी वरुण के निधन से खाली हुई घाटमपुर में उनकी बेटी जोरशोर से लगी हुई हैं. वहीं, उपेंद्र पासवन और रामलखन रावत के नामों की भी चर्चा है, लेकिन माना जा रहा है कि स्वपनिल वरुण टिकट की प्रबल दावेदार हैं. भाजपा महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला कहते हैं कि फीडबैक केवल प्रत्याशियों को लेकर नहीं है बल्कि चुनाव हम सभी सीटों पर जीतें इसके लिए भी है. हम बेहतर स्थिति में हैं और बीजेपी सभी सीटें जीतेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज