मायावती के भाजपा को समर्थन वाले बयान पर प्रियंका गांधी ने पूछा- इसके बाद भी कुछ बाकी है?

प्रियंका गांधी
प्रियंका गांधी

बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) के सपा प्रत्याशी के खिलाफ बीजेपी या किसी भी पार्टी के प्रत्याशी को समर्थन देने के बयान का वीडियो अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने ट्वीट किया है और लिखा है कि इसके बाद भी कुछ बाकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2020, 5:39 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव (Rajyasabha Election) के दौरान बहुजन समाज पार्टी  (BSP) में टूट पर सियासत तेज हो गई है. बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Supremo Mayawati) ने एक तरफ बागी 7 विधायकों को निलंबित कर दिया है. वहीं ऐलान कर दिया है कि भविष्य में समाजवादी पार्टी के एमएलसी प्रत्याशी को हराने के लिए चाहे बीजेपी या अन्य किसी भी प्रत्याशी को बसपा पूरा समर्थन देगी. मायावती के इस बयान का वीडियो अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने ट्वीट किया है और लिखा है कि इसके बाद भी कुछ बाकी है.

दरअसल प्रियंका गांधी लगातार बसपा सुप्रीमो को कई मुद्दों पर घेरती रही हैं और बीजेपी की करीबी जताने की कोशिश करती रही हैं. कुछ महीने पहले राजस्थान में राजनीतिक संकट के दौरान भी प्रियंका ने बसपा को भाजपा का अघोषित प्रवक्ता करार दिया था. फिर हाथरस मामले में भी बसपा सुप्रीमो को घेरने की कोशिश की थी.


राजस्थान मामले के दौरान प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर बीसएपी पर निशाना साधा था और कहा कि भाजपा के अघोषित प्रवक्ताओं ने भाजपा को मदद की व्हिप जारी की है. लेकिन ये केवल व्हिप नहीं है बल्कि लोकतंत्र और संविधान की हत्या करने वालों को क्लीन चिट है. बता दें बीएसपी ने उस समय व्हिप जारी किया था.





ये है मायावती का बयान

मायावती ने कहा कि हमने फैसला किया है कि यूपी में भविष्य में होने वाले विधानपरिषद चुनावों में सपा प्रत्याशी को हराने के लिए हम पूरी ताकत झोंकेंगे, चाहे हमें बीजेपी प्रत्याशी या किसी अन्य पार्टी के प्रत्याशी को ही वोट क्यों न देना पड़े, हम देंगे.

मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी ने कम्युनल फोर्सेज से लड़ने के लिए लोकसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी के साथ हाथ मिलाया था. लेकिन उनकी पारिवारिक कलह के चलते वो बसपा के साथ गठबंधन से ज्यादा कुछ हासिल नहीं कर सके. चुनाव के बाद उन्होंने हमें रिस्पांड करना बंद कर दिया और हमने उनसे अलग होने का फैसला किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज