UP News: कोरोना के कहर से कराह रहा यूपी, 7 जिलों के अस्पतालों में OPD सेवा बंद

कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से ओपीडी सेवा बंद हुई है. (सांकेतिक फोटो)

कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से ओपीडी सेवा बंद हुई है. (सांकेतिक फोटो)

यूपी में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) से हाहाकार मचा हुआ है. इस बीच राज्‍य के सात जिलों के अस्‍पतालों में ओपीडी सेवाएं बंद (OPD service Closed) हो गई हैं. इसमें लखनऊ के अलावा कानपुर, प्रयागराज, कानपुर, वाराणसी, गोरखपुर और आगरा शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2021, 6:25 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण बेकाबू हो रहा है. जबकि पिछले 24 घंटे में 18,021 नए मामले सामने से तो हड़कंप मच गया है. यह यूपी में अब तक एक दिन में आए कोरोना मामलों का नया रिकॉर्ड है. यही नहीं, कोरोना की बढ़ती रफ्तार से लगातार मंत्री, विधायक और अधिकारी संक्रमित हो रहे हैं. इस बीच कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते यूपी के सात जिलों के अस्पतालों में ओपीडी सेवा बंद (OPD service Closed) करने का ऐलान कर दिया गया है. इस लिस्‍ट में उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के अलावा कानपुर, प्रयागराज, कानपुर, वाराणसी, गोरखपुर, आगरा शामिल हैं.

यूपी के उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन के मुताबिक, इस समय राज्‍य में सक्रिय मामलों की संख्या 81,576 है. जबकि लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, कानपुर, गोरखपुर, आगरा और वाराणसी की हालत बहुत खराब है. बता दें कि अप्रैल की शुरुआत में यूपी के 23 जिलों में 100 से अधिक एक्टिव केस थे और अब इसकी जद में 75 में से 72 जिले आ गए हैं. यही नहीं, इसमें से 14 जिलों में तो 1000 से अधिक एक्टिव केस हैं. बता दें कि यूपी में कोरोना वैक्‍सीनेशन का काम भी पूरी मुस्‍तैदी से चल रहा है और अब तक 75,76,365 लोगों को कोरोना की पहली डोज दी जा चुकी है. वहीं, कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने वाले लोगों की संख्‍या 12,70,243 है.

Youtube Video


अब मरीजों को केवल मिलेगी टेलीमेडिसिन की सुविधा
वाराणसी में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बनारस हिंदू विश्वविद्यालय स्थित सर सुंदरलाल हॉस्पिटल के ट्रॉमा सेंटर में सामान्य ओपीडी बंद कर दी गई है. अब मरीजों को केवल टेलीमेडिसिन की सुविधा ही मिल पाएगी. इलेक्टिव ओटी यानी सामान्य ऑपरेशन थिएटर को भी अब बंद कर दिया गया है. बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के डॉक्टर भी लगातार संक्रमित हो रहे हैं, जिसकी वजह से चिकित्सा अधीक्षक को यह फैसला लेना पड़ा है. ऐसा ही हाल अन्‍य जिलों का भी है.

ये भी पढ़ें- UP Panchayat Chunav: तीसरे चरण के नामांकन का आज आखिरी दिन, जानें समय और नियम

योगी सरकार ने लिया फैसला



इस बीच कोरोना के बढ़ते संक्रमण और मरीजों के बेहतर इलाज के लिए सूबे की योगी सरकार (Yogi Government) ने बड़ा फैसला लिया है. अब एमबीबीएस के चौथी और पांचवें वर्ष के छात्रों को भी कोविड ड्यूटी पर लगाया जायेगा. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस बारे में निर्देश दिये हैं. साथ ही कोविड के इलाज के लिये साधनों को बेहतर बनाने के लिये निजी अस्पतालों व प्रयोगशालाओं को अधिग्रहीत करने का फैसला भी लिया गया है.

गुजरात से मंगाई जाएगी रेमडिसीवेर दवा

उधर कोरोना नियंत्रण को लेकर लगातार फेउसले ले रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रेमडिसीवेर दवा की कमी को देखते हुए उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया है कि वे गुजरात से 25 हजार की खेप तुरंत मंगवाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज