माफिया मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद विपक्ष ने योगी सरकार पर उठाए सवाल!

मुन्ना बजरंगी (फाइल)

मुन्ना बजरंगी (फाइल)

इससे पहले बीते 29 जून को मुन्ना की पत्नी सीमा सिंह ने लखनऊ प्रेस क्लब में कॉन्फ्रेंस करके एनकाउंटर का भी अंदेशा जताते हुए सीएम से गुहार लगाई थी. यानी डाॅन की पत्नी का अंदेशा सच साबित हुआ.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 10, 2018, 10:20 AM IST
  • Share this:
बागपत जेल में मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद एक बार​ फिर उत्तर प्रदेश की जेलों के अंदर की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े होना लाजमी है. बता दें कि योगी सरकार प्रदेश में अपराधियों के ताबड़तोड़ एनकाउंटर करा रही है. इन हालातों में कुछ अपराधी आत्मसमर्पण कर जेल में रहना सुरक्षित मान रहे थे लेकिन जेल में मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद प्रदेश के जेलों की सुरक्षा की कलई खुल गई.



जेल के अंदर हथियार पहुंचाने और मुन्ना बजरंगी की हत्या होने के बाद विपक्षी पार्टियां योगी सरकार पर कई सवाल खड़े कर रही हैं. इससे पहले बीते 29 जून को मुन्ना की पत्नी सीमा सिंह ने लखनऊ प्रेस क्लब में कॉन्फ्रेंस करके मुन्ना बजरंगी के एनकाउंटर का अंदेशा जताते हुए सीएम से बजरंगी की सुरक्षा की गुहार लगाई थी. हत्या ने डाॅन की पत्नी के अंदेशे को सच साबित कर दिया.



दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई

यूपी बीजेपी के प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने न्यूज18 को बताया कि जेल परिसर में मुन्ना बजरंगी की हत्या का मामला गंभीर है. इन सवालों का जवाब सरकार तलाशेगी. इसलिए सरकार ने तत्काल कार्रवाई करते हुए जेल के जिम्मेदार अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया. एफआईआर पंजीकृत कराई गई है. बीजेपी प्रवक्ता ने दावा किया कि जो भी इस घटना में दोषी होगा उसके खिलाफ सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी.
बीजेपी सरकार में जेल भी इंसान सुरक्षित नहीं



मुन्ना की हत्या के बाद विपक्ष भी कई सवाल खड़े कर रहा है. यूपी कांग्रेस के प्रवक्ता द्विजेन्द्र त्रिपाठी ने कहा कि जब उसकी पत्नी ने 10 दिन पहले हत्या की आशंका जाहिर कर दी थी, तो सरकार की बड़ी जिम्मेदारी थी कि वह मुन्ना की सुरक्षा को गंभीरता से लेती. उन्होंने हत्या के पीछे जेल के अधिकारियों की मिलीभगत का आरोप लगाया. त्रिपाठी ने कहा, सबसे बड़ा सवाल यह है कि जिस बीजेपी सरकार में जेल में भी कोई इंसान सुरक्षित नहीं है उस सरकार में आम आदमी कहां सुरक्षित महसूस कर सकता है? उन्होंने दावा किया कि उत्तर प्रदेश आज अपराधियों के नियंत्रण में है. अब देखना यह है कि सरकार छोटे अधिकारियों पर कार्रवाई करके अपनी पीठ थपथपाती है या हत्या के पीछे जिन लोगों की भूमिका है उन पर जल्द से जल्द कार्रवाई करती है.



सपा के एमएलसी ने की सीबीआई जांच की मांग

समाजवादी पार्टी के एमएलसी उदयवीर सिंह ने मुन्ना बजरंगी की हत्या के पीछे राजनैतिक साजिश का आरोप लगाया है. पिस्टल कैसे जेल के अंदर कैसे पहुंची ये सबसे बड़ा सवाल है. मुन्ना बजरंगी की पत्नी ने पहले ही हत्या की आशंका जाहिर की थी. क्योंकि अपराध जगत से जुडे़ लोगों को मुन्ना के बारे में जानकारी थी. सपा एमएलसी ने कहा कि इस घटना की सीबीआई जांच होनी चाहिए.



बागपत जेल से पिस्टल बरामद

माफिया मुन्ना बजरंगी की सोमवार को यूपी के बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस हत्‍या के बाद से ही पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है. 14 घंटे की सघन तलाशी के बाद पुलिस को हत्‍या में इस्‍तेमाल पिस्‍टल बरामद हो गई है. पुलिस को पिस्‍टल के साथ ही 10 खोखे, 22 जिंदा कारतूस और दो मैग्‍जीन भी मिली है. बताया जाता है कि हत्‍या के बाद पिस्‍टल और कारतूस गटर में फेंक दिया गया था. उसे तन्हाई बैरक में कुख्यात सुनील राठी ओर विक्की सुंहेड़ा के साथ रखा गया था, जहां माफिया सुनील राठी ने मुन्ना के सिर में 10 गोलियां मारकर मौत की नींद सुला दिया.



40 हत्याओं का आरोप

मुन्ना बरजरंगी पर 40 हत्याओं, लूट, रंगदारी की घटनाओं में शामिल होने का केस दर्ज है. मुन्ना बजरंगी पूरे यूपी की पुलिस और एसटीएफ के लिए सिरदर्द बना हुआ था. पुलिस के मुताबिक, लखनऊ, कानपुर और मुंबई में उसके खिलाफ कई केस दर्ज हैं. बजरंगी पर सरकारी ठेकेदारों से रंगदारी और हफ्ता वसूलना का भी आरोप था.



17 साल की उम्र में पहला अपराध

मुन्ना बजरंगी ने केवल पांचवीं क्लास तक पढ़ाई की थी. उसके बाद वह दूसरे रास्ते पर आगे बढ़ता चला गया. 17 साल की उम्र में वह अपराध की दुनिया में छा गया. तब उसके खिलाफ पुलिस ने अवैध हथियार रखने का पहला मामला दर्ज किया था.



बड़ा आदमी बनने का था सपना

मुन्ना बजरंगी का असली नाम प्रेम प्रकाश सिंह है. उसका जन्म 1967 में उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के पूरेदयाल गांव में हुआ था. उसके पिता पारसनाथ सिंह उसे पढ़ा लिखाकर बड़ा आदमी बनाने का सपना संजोए थे. मगर प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी ने उनके अरमानों को कुचल दिया.



ये भी पढ़ें :-



सुनील राठी: पिता का कत्ल कर बना गैंगस्टर, अब मुन्ना बजरंगी के मर्डर में आया नाम



मुन्‍ना बजरंगी मर्डर: 14 घंटे की तलाशी के बाद हत्‍या में इस्‍तेमाल पिस्‍टल टायलेट से बरामद



माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी का शव पहुंचा पैतृक गांव, अंतिम संस्कार आज



जौनपुर: मुन्ना बजरंगी के गांव में पसरा सन्नाटा, परिजन बोले- चला गया मेरा शेर



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज