योगी सरकार ने बजट सत्र का अचानक कर दिया समापन, विरोध में सदन में बैठे रहे विपक्षी दल
Lucknow News in Hindi

योगी सरकार ने बजट सत्र का अचानक कर दिया समापन, विरोध में सदन में बैठे रहे विपक्षी दल
सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता का निधन सोमवार को सुबह एम्स दिल्ली में हो गया है. (File Photo)

धरने पर बैठे विपक्षी विधायकों का कहना था कि बजट सेशन 24 दिन का होता है, आज ही क्यों भाग गए. यह सरकार बिल्कुल अक्षम है, ये सवालों का जवाब नहीं देना चाहती...

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधान सभा (Uttar Pradesh Assembly) बजट सत्र को योगी सरकार (Yogi Government) द्वारा समय से पहले समाप्त किए जाने को लेकर विपक्षी पार्टियों ने सदन में ही धरना दे दिया. शाम 5 बजे तक समाजवादी पार्टी (Samajwadi party), कांग्रेस (Congress) व सुभासपा के विधायक धरने पर बैठे रहे तो वहीं बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) के विधायकों ने विरोध में वॉक आउट किया. बता दें कि पहले सदन 7 मार्च तक चलना था लेकिन सरकार ने शुक्रवार को अचानक ही सदन का सत्रावसान कर दिया.

ऐसा अक्षम मुख्यमंत्री अब तक नहीं देखा: रामगोविंद चौधरी
सत्रावसान के बाद अपना विरोध प्रदर्शित करते हुए नेता विपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि किसी भी सवाल का जवाब सरकार ने नहीं दिया. उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था ध्वस्त है, नौजवान आत्महत्या कर रहे हैं. सीएम योगी पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा, "ऐसा अक्षम मुख्यमंत्री अब तक नहीं देखा है." उनका कहना था कि इस सरकार का लोक तंत्र के प्रति विश्वास नहीं है. उन्होंने कहा कि इनके विधायक कहीं फिर से धरना न दे दें इससे डर कर इन्होंने आज सत्र खत्म कर दिया. धरने पर बैठे विपक्षी विधायकों का कहना था कि बजट सेशन 24 दिन का होता है, आज ही क्यों भाग गए. यह सरकार बिल्कुल अक्षम है, जो बजट पास होता है वह भी नहीं खर्च करते हैं जो अनुपूरक बजट पास हुआ उसका एक पैसा खर्च नहीं हुआ. हम इसकी निंदा करते हैं.

नेता विरोधी दल ने सीएम योगी को निशाने पर लेते हुए कहा कि विधान सभा अध्यक्ष सदन चलाना चाहते हैं, विपक्ष सदन चलाना चाहता है, संसदीय कार्य मंत्री सदन चलाना चाहते हैं, 99 प्रतिशत भाजपा विधायक सदन चलाना चाहते हैं, तो ऐसा कौन है जिसके कारण यह सदन नहीं चल रहा है. नेता विधानमंडल दल कांग्रेस की आराधना मिश्र ने विरोध जताते हुए कहा कि आज जिस तरह से बजट सेशन को आनन-फानन में असैद्धांतिक, अलोकतांत्रिक तरीके से बजट पास करवा कर समाप्त किया गया कांग्रेस इसकी निंदा करती है.



यह तरीका गलत है. उन्होंने कहा कि सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक परंपरागत सदन चलाने का समय होता है, इसलिए हम सदन में पांच बजे तक धरने पर बैठे. वहीं बसपा ने विरोध स्वरुप सदन का बहिष्कार किया. नेता बसपा लालजी वर्मा ने कहा सत्र को 7 मार्च से पहले खत्म करने का जो निर्णय लिया गया इसकी हम भर्त्सना करते हैं. उन्होंने कहा 1952 से लेकर अब तक ऐसा पहली बार हुआ है जब सरकार ने चारो बजट पर चर्चा नहीं की. उन्होंने कहा योगी जी की सरकार अहंकार में है. इस विरोध में हमने सदन में वॉक आउट किया. सरकार की जो कमियां हैं विपक्ष उसे उजागर करना चाहता है इसलिए सरकार सदन से भाग रही है.



ये भी पढ़ें- बजट सत्र: सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधायक निधि बढ़ाकर तीन करोड़ करने का दिया प्रस्ताव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading